इटकी

--Advertisement--

कम बारिश होने से धान के बिचड़े पीले पड़ने लगे

किसानों को इस वर्ष मानसून दगा देने की स्थिति में आ गया है। धान बीज बर्बाद होने की स्थिति में है। किसानों का मानना है...

Dainik Bhaskar

Jul 16, 2018, 02:50 AM IST
किसानों को इस वर्ष मानसून दगा देने की स्थिति में आ गया है। धान बीज बर्बाद होने की स्थिति में है। किसानों का मानना है कि तीन-चार दिनों के अंदर बारिश नहीं हुई तो धान की फसल इस बार चौपट हो जाएगी। जून माह की शुरुआत में हुई अच्छी बारिश को देखते हुए किसानों ने बिचड़ों के लिए धान बीज को खेतों में डाल दिया। बाद में बारिश दगा दे गई। रथयात्रा मेला के दिन भी आशा के अनुरूप बारिश नहीं हुई। किसान नंदलाल महतो का मानना है कि दो-तीन दिनों के अंदर बारिश नहीं हुई तो धान बीज खेतों में ही बर्बाद हो जाएंगे। खेतों में धान के बिचड़े पीला पड़ गए हैं। जगमोहन महतो, देवेंद्र महतो, रामचंद्र महतो, मोहन महतो, कर्मा उरांव, नंदलाल, संजय उरांव, कमलिंदर, कुशल, किशोर सहित कई अन्य किसानों ने भी पानी के अभाव में फसल को बर्बाद होने की बातें कही है।

X
Click to listen..