Hindi News »Jharkhand »Itki» 502 आवेदन किए गए स्वीकृत, 88 का त्वरित निष्पादन 1431 लाभुकों का ऑफलाइन जाति प्रमाण पत्र निर्गत

502 आवेदन किए गए स्वीकृत, 88 का त्वरित निष्पादन 1431 लाभुकों का ऑफलाइन जाति प्रमाण पत्र निर्गत

प्रखंड परिसर इटकी में सोमवार को जनता दरबार लगा। जिसमें लोगों ने अपनी समस्याएं अधिकारियों के समक्ष रखीं। इस दौरान...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 08, 2018, 02:55 AM IST

502 आवेदन किए गए स्वीकृत, 88 का त्वरित निष्पादन 1431 लाभुकों का ऑफलाइन जाति प्रमाण पत्र निर्गत
प्रखंड परिसर इटकी में सोमवार को जनता दरबार लगा। जिसमें लोगों ने अपनी समस्याएं अधिकारियों के समक्ष रखीं। इस दौरान कुल 502 आवेदन स्वीकार किए गए। 88 काे त्वरित निष्पादित किया गया। विभागीय अधिकारियों के अनुसार अन्य मामलों की जांच कर निष्पादन किया जाएगा।

इसके अलावा जनता दरबार में कुल 19 विभागों के स्टॉल लगाए गए थे। जिस पर योजनाओं की जानकारी दी जा रही थी। इनमें अंचल, प्रखंड, स्वास्थ्य, आंगनबाड़ी केंद्र, ग्लोबल गैस, खाद्य आपूर्ति, पंचायती राज, कल्याण, पशुपालन, विद्युत विभाग के अलावा, मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास, आधार कार्ड, विधवा पेंशन, वृद्धा पेंशन, यूनियन बैंक, ग्रामीण बैंक, शिक्षा विभाग, पेयजल व स्वच्छता आदि के स्टॉल शामिल थे। मौके पर विजय कुमार, मोहम्मद तनवीर, हाजी मोईन, सोनू, मसरूर ,नंदलाल महतो, नूतन ,आभा कुमारी ,प्रदीप कुमार ,शशि चौधरी ,गीता कुमारी, मुखिया तेतरी उराँव, सरोजिनी, मंजू देवी, सधनु मिंज, मिलोनी मिंज, निर्मला भेंगरा, रीना सांडिल, प्रीति सहित अन्य जनप्रतिनिधि शामिल थे।

जनता दरबार में गैस सिलेंडर और चूल्हा वितरण के बाद लाभुकों से मिलती विधायक गंगोत्री कुजूर और मौजूद प्रखंड के वरीय अधिकारी।

समस्याओं के समाधान के लिए हर माह लगे ऐसा दरबार

3 दिनों के अथक प्रयास से प्रखंड व अंचल कर्मी ने 1431 लाभुकों के ऑफलाइन जाति प्रमाण पत्र निर्गत किया है। जनता दरबार में जिप सदस्य लाल रामेश्वर नाथ शाहदेव ने कहा कि हर माह जनता दरबार लगना चाहिए। ताकि एक ही छत के नीचे लोगों की समस्याओं का समाधान हो सके। जनता दरबार को एनईपी निदेशक श्रीपति गिरी प्रसाद, प्रदेश भाजपा मीडिया प्रभारी भोगेन सोरेन, बीईईओ राजेंद्र प्रसाद शर्मा, थाना प्रभारी राम अवतार, सीडीपीओ, बीपीओ आशा रेजिना एक्का, जेई सुरेश तिग्गा, रोहित कुमार, बीटीएम विकास तिर्की, बीस सूत्री अध्यक्ष राजेश्वर महतो, पूनम देवी, प्रवीण लाल, वीर बहादुर दुबे, शांति मार्डी, उरूज अंसारी समेत कई लोगों ने संबोधित किया। संचालन पम्मी सिन्हा ने किया।

स्थापना के 10 वर्ष बाद भी दूसरे प्रखंड पर आश्रित है इटकी

इटकी को अलग प्रखंड बने 10 वर्ष बीत गए हैं, लेकिन अब तक कई महत्वपूर्ण विभाग इटकी में स्थापित नहीं है। अभी भी लोगों को कई विभाग के काम से बेड़ो प्रखंड व अंचल का सहारा लेना पड़ता है। बीडीओ सह अंचल पदाधिकारी सुरेंद्र उरांव ने प्रखंड व अंचल में चल रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी लोगों को दी। उन्होंने लोगों द्वारा दिए गए आवेदन को अविलंब निपटाने का आश्वासन दिया।

300 लाभुकों में बांटे गए गैस कनेक्शन : मुख्य अतिथि विधायक गंगोत्री कुजूर ने उज्ज्वला गैस योजना के 300 लाभुकों को गैस चूल्हा सौंपा। चूल्हा, गैस लाइट रेग्युलेटर ग्लोबल गैस सर्विसेस भारत गैस के वितरक की ओर से दिया गया था। मौके पर विधायक ने लोगों की समस्याओं को सुनकर संबंधित अधिकारियों को फटकार लगाते हुए समस्याओं के जल्द निराकरण का निर्देश दिया। कुजूर ने कहा कि लोग अपनी समस्याओं का समाधान जनता दरबार के माध्यम से कराएं। अगर काम नहीं होता है, तो उसकी सूचना हमें दें।

जनता दरबार की मुख्य बातें

सर्वधर्म सद्भावना समिति इटकी के लेटर पैड में इटकी बाजार स्थित बंद पड़े सार्वजनिक शौचालय को अविलंब चालू कराने का आग्रह किया।

क्षेत्र की जटिल समस्या जर्जर सड़क की मरम्मत की मांग की गई।

इटकी बुद्धिजीवी मंच की ओर से डीडीटी का छिड़काव व हॉक गाड़ी की मांग की गई।

राज्य पेंशनर समाज की ओर से इटकी स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सक व अन्य कर्मचारियों को सुचारू रूप से नियमित इटकी में रहने की मांग की।

गणेश महतो ने कहा कि वर्ष 2015 में लाडली योजना के तहत कई आवेदन दिए गए थे, लेकिन अब तक उन्हें इस योजना का लाभ नहीं मिल पाया।

कृष्णा राम तिवारी ने कहा पिछले 2 वर्षों से भूमि सुधार के लिए व रसीद काटने के लिए आवेदन दिया गया था जो अब तक लंबित है।

राजकुमार तिर्की ने कहा प्रखंड परिसर में करोड़ों रुपए से बने क्वार्टर बिल्कुल खाली हैं। उन्होंने मांग की है कि संबंधित विभाग के अधिकारियों को इटकी मुख्यालय में रहने का निर्देश दिया जाए जिससे लोग अपनी समस्याओं का समाधान प्रतिदिन करा सकें।

समाजसेवी अजीत केसरी ने कहा कई गरीबों का नाम एसईसीसी डाटा में छूट गया है, जिसके कारण वह प्रधानमंत्री आवास लेने से वंचित हो गए हैं। उनका नाम नए सिरे से उन्हें चिन्हित कर जोड़ा जाए।

सईद अंसारी ने फसल बीमा योजना पर भी सवाल उठाए। एक तरफ सरकार मुफ्त में फसल बीमा करने का दावा करती है वहीं स्थानीय बैंक किसानों से प्रीमियम लेकर फसल बीमा कर रही है।

मोहम्मद मुस्ताक, वीके सिन्हा, इकबाल अहमद नईमी, मोहम्मद सज्जाद, अख्तर समेत अन्य ने जनता दरबार में सवाल उठा कर समस्याओं के समाधान की गुहार लगाई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Itki

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×