• Hindi News
  • Jharkhand
  • Itki
  • इटकी में पारंपरिक वेशभूषा में मांदर की धुन पर नाचे आदिवासी महिला व पुरुष
--Advertisement--

इटकी में पारंपरिक वेशभूषा में मांदर की धुन पर नाचे आदिवासी महिला व पुरुष

Dainik Bhaskar

Aug 10, 2018, 02:55 AM IST

Itki News - इटकी । प्रखंड कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान में इटकी में आदिवासी दिवस का आयोजन किया गया। पारंपरिक वेशभूषा, ढोल -...

इटकी में पारंपरिक वेशभूषा में मांदर की धुन पर नाचे आदिवासी महिला व पुरुष
इटकी । प्रखंड कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान में इटकी में आदिवासी दिवस का आयोजन किया गया। पारंपरिक वेशभूषा, ढोल - मांदर के साथ आदिवासी महिला व पुरुषों ने अतिथियों का स्वागत किया। आदिवासी महिला दिवस समारोह की अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष सलीम अंसारी ने किया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता कांग्रेस नेता बिगा मिंज ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा जिस तरह सीएनटी एवं एसपीटी एक्ट मामले में सरकार को झुकना पड़ा था ,उसी तरह भूमि अधिग्रहण संशोधन कानून को भी सरकार को निरस्त करना होगा। अन्यथा यहां के आदिवासी किसी भी हद तक जा सकते हैं । श्री मिंज ने कहा आदिवासियों को एक सूत्र में बंधने की जरूरत है। यहां के कुछ बाहरी तत्व हमें तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं ,हमें उनसे बचने की जरूरत है। उन्होंने कहा आदिवासियों की पहचान सरना कोड को अविलंब लागू किया जाए तभी हमारी अस्तित्व बचेगी । समारोह का नेतृत्व कर रहे मांडर विधानसभा के प्रभारी नेसार अहमद ने कहा सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण संशोधन कानून बनाया गया है जो यहां के आदिवासी व मूलवासी के अधिकार व भावनाओं के खिलाफ है। यहां सिर्फ पूंजीपतियों को ही लाभ पहुंचाया जा रहा है। एक तरफ सरकार स्कूल बनाने की बात करती है दूसरी तरफ सरकार अब तक 11 हजार स्कूलों को बंद कर दिया है । सरकार आदिवासियों की सरना कोड को जल्द लागू करें। सभा को विशु उरांव, रोशन उरांव ,सुकरा उरांव, मंगल केरकट्टा, सुषमा , मुस्ताक अहमद, मास्टर अली हसन ,एनुल हक, अशफाक आदि मौजद थे।

X
इटकी में पारंपरिक वेशभूषा में मांदर की धुन पर नाचे आदिवासी महिला व पुरुष
Astrology

Recommended

Click to listen..