जगन्नाथपुर

--Advertisement--

रोजगार सेवक ने मृत मजदूर के नाम पर निकाले पैसे

गुरुवार को जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय के सभागार में पट्टाजैंत, कलैया व जगन्नाथपुर पंचायत में हुई जनसुनवाई में...

Danik Bhaskar

Feb 16, 2018, 02:45 AM IST
गुरुवार को जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय के सभागार में पट्टाजैंत, कलैया व जगन्नाथपुर पंचायत में हुई जनसुनवाई में मनरेगा व 14वें वित्त आयोग के तहत आवंटित विकास राशि की गड़बड़ी का खुलासा हुआ। प्रखंड़ स्तरीय जूरिया कमेटी के द्वारा जनसुनवाई अदालत लगाई गई थी। वहीं एक ऐसा भी मामला प्रकाश मे आया कि रोजगार सेवक द्वारा संजय प्रधान के नाम पर मजदूरी की राशि का निकासी की जा रही है। जबकि संजय प्रधान की मौत सात साल पहले ही हो गई थी। इस मामले में एफआईआर दर्ज करने व वसूली करने को कहा गया। जगन्नाथपुर पंचायत में बिना काम के मजदूरी भुगतान के नाम पर फर्जी निकासी को लेकर मामला सामने आया। इस जनसुनवाई शिविर में डालसा के सचिव सह प्रथम श्रेणी दंडाधिकारी केके मिश्रा भी उपस्थित थे। मालूम हो कि जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय के जगन्नाथपुर पंचायत, पट्टाजैंत व कलैया पंचायत में हुए विकास कार्यों का सामाजिक अंकेक्षण कमेटी द्वारा सोशल अॉडिट के तहत जांच की गई।

मनरेगा व 14वें वित्त आयोग के तहत आवंटित विकास राशि में गड़बड़ी का खुलासा, केस दर्ज करने व वसूली का आदेश

जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय के सभागार में जन सुनवाई करते अधिकारी।

कलैया पंचायत: 17 योजनाओं में गड़बड़ी, दी चेतावनी

कलैया पंचायत में मिले आरोपों पर कलैया पंचायत में 17 योजना में काम नहीं करने वाले मजदूरों के पैसे की निकासी करने के आरोप में रोजगार सेवक, पंचायत सेवक, जेई मुखिया पर प्रतियोजना पर 500 रुपए जुर्माना किया गया। भविष्य में वैसा नहीं हो इसकी भी चेतावनी दी गई।

जगन्नाथपुर: बीडीओ ने दोबारा ऑडिट की मांग की

जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय के पंचायत में मुखिया, पंचायत सेवक, रोजगार सेवक व जेई के हस्ताक्षर पर नरेगा योजना में सही मजदूरों की मजदूरी का भुगतान ना कर के बगैर जॉब कॉर्डधारी वाले मजदूरों को मजदूरी भुगतान करने के आरोप में 86,763 हजार रुपए अवैध निकासी किए जाने के साथ-साथ नरेगा के तहत संचालित 61 योजना में 41 योजनाओं का अभिलेख नहीं दिए जाने के कारण प्रति फाइल एक-एक हजार जुर्माना किया गया। जगन्नाथपुर पंचायत में करीब डेढ़ लाख का जुर्माना लगाया गया। बीडीओ रामनारायण खालखों ने दोबारा अॉडिट कराने की मांग की।

Click to listen..