Hindi News »Jharkhand »Jagannathpur» कोड़ा का बचाव नहीं कर सकते

कोड़ा का बचाव नहीं कर सकते

पॉलिटिकल रिपोर्टर | जमशेदपुर खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कहा, पूर्व सीएम मधु कोड़ा का बचाव नहीं किया जा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 25, 2018, 02:50 AM IST

कोड़ा का बचाव नहीं कर सकते
पॉलिटिकल रिपोर्टर | जमशेदपुर

खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कहा, पूर्व सीएम मधु कोड़ा का बचाव नहीं किया जा सकता, क्योंकि कोड़ा सरकार में लूटकांड की जांच कर सीबीआई व ईडी कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर चुका है। कोड़ा को भ्रष्टाचार व लूट मामले में जेल भी हो गई है। ऐसे में चाईबासा में सीएम रघुवर दास का बयान कि कोड़ा दोषी नहीं हैं। उन्हें कांग्रेस, झामुमो के नेताओं ने फंसाया है। यह गलत है। शनिवार को बिष्टुपुर स्थित आवास पर दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए कहा, कोड़ा के लूटराज का पर्दाफाश हमने किया। पुस्तक ‘मधु कोड़ा लूटराज’ में मामले से जुड़ी कई जानकारियां हैं।

सरयू बोले- कोड़ा ने मेरे खिलाफ चार केस दर्ज कराए, जिनमें तीन खारिज

कोड़ा को कई बार सचेत किया, लेकिन वे नहीं चेते

मंत्री ने कहा, मैंने मधु कोड़ा लूटराज को लेकर कई बार पत्र भी लिखा, मगर कोड़ा सचेत नहीं हुए। 2006 में कोडा ने झामुमो व कांग्रेस ने अर्जुन मुंडा की सरकार गिराई और सीएम बन बैठे। जबकि मुंडा सरकार में विकास कार्य हो रहे थे। कोड़ा सीएम बनते ही चाईबासा की चर्चित हाट गम्हरिया से बरायबुरु सड़क निर्माण छोटी कंपनी से पूरा कराया। यह झारखंड में पहला केस था, जिसमें छोटी कंपनी से काम कराया गया। जबकि यह काम पथ निर्माण विभाग से किसी अन्य कंपनी को मिला था। पथ निर्माण विभाग ने रोड का निर्माण के लिए वन व पर्यावरण विभाग से स्वीकृति तक नहीं ली। भ्रष्टाचार व अनियमितता की शुरुआत कोड़ा सरकार में यहीं हुई थी।

मधु की प|ी से सहानुभूित हो सकती है

मंत्री सरयू राय ने कहा, कोड़ा की प|ी गीता कोड़ा पश्चिम सिंहभूम के जगन्नाथपुर से विधायक हैं। अब कोई उनका समर्थन लेने के लिए सहानुभूति रखकर कोड़ा बचाव करें तो यह गलत है। उस पर कोई बात नहीं कर सकते। मगर मधु कोड़ा दोषी नहीं, कहकर उनका बचाव या उनसे सहानुभूति नहीं हो सकती।

लाैह अयस्क खदान के लिए प्रति एकड़ के हिसाब से लगती थी बोली : मंत्री सरयू राय ने कहा कि मधु कोड़ा सरकार में झारखंड के खान विभाग और पथ निर्माण विभाग समेत अन्य विभागों में भ्रष्टाचार चरम पर था। इसमें ठेकेदार, अभियंता व अफसरों की मिली-जुली तिकड़ी काम करती थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jagannathpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×