• Hindi News
  • Jharkhand
  • Jagannathpur
  • 150 बसें नहीं चली, 3 4 गुना ज्यादा किराया देकर लोगों ने छोटे वाहनों में किया सफर, 128 बंद समर्थक गिरफ्तार
--Advertisement--

150 बसें नहीं चली, 3-4 गुना ज्यादा किराया देकर लोगों ने छोटे वाहनों में किया सफर, 128 बंद समर्थक गिरफ्तार

Jagannathpur News - राज्यसरकार की नीतियों के विरोध में आदिवासी सेंगेल अभियान झादिपा की ओर से सोमवार को आहूत एक दिवसीय आंशिक भारत बंद...

Dainik Bhaskar

Jan 09, 2018, 02:50 AM IST
150 बसें नहीं चली, 3-4 गुना ज्यादा किराया देकर लोगों ने छोटे वाहनों में किया सफर, 128 बंद समर्थक गिरफ्तार
राज्यसरकार की नीतियों के विरोध में आदिवासी सेंगेल अभियान झादिपा की ओर से सोमवार को आहूत एक दिवसीय आंशिक भारत बंद का सबसे ज्यादा असर चाईबासा आसपास के इलाके में दिखा। बड़ी बाजार की कुछ दुकानों को छोड़ सुबह से ही शहर के सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठान, बसें, पेट्रोल पंप बंद रहे। शहर की चाय पान गुमटी भी बंद रही। 150 से ज्यादा यात्री बसों का परिचालन नहीं हुआ। इससे यात्रियों को काफी परेशानी हुई। बिहार, बंगाल ओड़िशा जाने वाले 100 से ज्यादा यात्रियों को बस स्टैंड से ही वापस लौटना पड़ा। आसपास जानेवाले लोगों से छोटे वाहनों ने निर्धारित दर से 3-4 गुना ज्यादा किराया वसूला। छोटे वाहनों के चालकों ने दिनभर मनमानी की। किराया को लेकर यात्री वाहन चालकों में बकझक भी हुई। हालांकि शहर में ई-रिक्शा का परिचालन आम दिनों की तरह होता रहा। बंद समर्थकों ने रविवार की शाम में ही बस संचालकों को वाहनों का परिचालन बंद रखने को कहा था। इस वजह से बस स्टैंड से एक भी बस के पहिए नहीं घूमे। बंद के मद्देनजर शहर में सुरक्षा व्यवस्था सख्त रही। इस दौरान 128 बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया, जिन्हें शाम में छोड़ दिया गया। गिरफ्तार बंद समर्थकों में 31 महिला 97 पुरुष शामिल थे। शहर के हर चौक- चौराहों पर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी। कहीं से किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।

चाईबासा में दोपहर बाद सड़क पर उतरे बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर थाना ले जाती पुलिस।

बंद बेअसर, खुला रहा डांगुवापोसी बाजार

डांगुवापोसीरेल क्षेत्र में बंद बेअसर रहा। आम दिनों की तरह दोनों मार्केट की दुकानें खुली रहीं। वाहनों का परिचालन सामान्य रहा। हावड़ा से बड़बिल जाने वाले जनशताब्दी एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से विलंब चलने के कारण डांगुवापोसी से यात्रा करने वाले यात्रा करने तक वाले यात्रियों को काफी परेशानियां हुई। साथ ही डांगुवापोसी-बड़ानंदा डांगुवापोसी-कुंटिगता और डांगुवापोसी-देवगांव जाने वाली ग्रामीण सड़क पर अन्य दिनों की तरह चहल-पहल बंदी के कारण कम दिखी।

सरकार मजबूर करे मांगें पूरी करे: कुशनु

झादिपाके जिला अध्यक्ष कुशनू काेड़ा ने कहा कि सरकार हमें बार-बार सड़क पर उतरने के लिए मजबूर ना करे। सरना कोड देने में सरकार देर ना करे। साथ ही आदिवासियों को नाश करने के लिए बने भूमि अधिग्रहण बिल को सरकार जल्द वापस ले। डोमिसाइल नीति का संशोधन कर इसे आदिवासी-मूलवासी के हित में बनाया जाए।

बंद सफल रहा, लोगों का मिला सहयोग: विनोद गोप

सेंगेलअभियान के जिला अध्यक्ष विनोद गोप ने कहा कि हमारी मांग जायज है। सरकार को सरना कोड देना होगा। गलत डोमिसाइल नीति का संशोधन करना होगा। साथ ही भूमि अधिग्रहण बिल को सरकार वापस ले, वर्ना हमारा आंदोलन जारी रहेगा। अपनी मांगों को लेकर संवैधानिक तरीके से हमसब डिमांड रख रहे हैं।

बड़ाजामदा मेंसुबह 6 बजे ही सड़क पर उतरे बंद समर्थक

बंदसमर्थकों ने बड़ाजामदा में सुबह लगभग छह बजे ही टोरियन क्रशर प्लांट के समीप मुख्य सड़क पर टायर जलाकर एकजुटता दिखाई। सुबह 11 बजे महिला समर्थक सड़क पर उतरे। बड़ाजामदा साप्ताहिक बाजार परिसर की कुछ दुकानें बंद रहीं। यात्री बसों का परिचालन ठप रखा। यात्री बसें बंद रहने के कारण यात्री सवारी गाड़ी जनशताब्दी में सवार होकर जाने लौटने का दौर जारी रहा। खदानों से लौह अयस्क लेकर जाने लौटने वाले भारी वाहनों पर किसी तरह का कोई प्रभाव नहीं पड़ा। खदानें दिनभर खुली रही। रेलवे साइडिंग तक आने वाले भारी वाहनों पर असर नहीं दिखा।

चक्रधरपुर: आद्रा से लौटी गोमो पैसेंजर ट्रेन

चक्रधरपुर| आद्रारेल डिवीजन के स्टेशन इंद्रबली , कांटाडीह, मोधुकुंडा में रेल रोको आंदोलन के कारण चक्रधरपुर गोमो पैसेंजर को आद्रा स्टेशन से लौटना पड़ा। वहीं कई ट्रेनें सीकेपी विलंब से पहुंची। कई ट्रेनों को शार्ट टर्मिनेट किया गया है। सीनियर डीसीएम भास्कर ने बताया कि आद्रा स्टेशन पर दिन के 11 बजकर 40 मिनट से 5 बजकर 30 मिनट तक ट्रैक जाम रहा।

पुलिस कोबंद समर्थकों ने रविवार शाम से ही खूब छकाया

बंदसमर्थकों के नेताओं को रविवार शाम से पुलिस गिरफ्तार करने की योजना बनाई थी। लेकिन बंद समर्थक पहले से ही चौकन्ने हो गए। रात को घर पर नहीं सोए, बल्कि बंद को सफल बनाने के लिए कार्यकर्ताओं के साथ रणनीति बनाने में रात बिताया। वहीं सोमवार को सुबह से ही पुलिस बंद समर्थकों को गिरफ्तार करने की तैयारी में थी। चौक-चौराहों में पुलिस की सक्रियता को देखते हुए तांबो चौक की बजाय तुईबीर के पास से बंद समर्थकों ने दोपहर के करीब 12 बजे जुलूस निकाला। जुलूस तुईबीर के पास से तांबो चौक, टुंगरी, घंटा घर, पोस्ट ऑफिस चौक पहुंचा, जहां से बंद समर्थकों को पुलिस गिरफ्तार कर सदर थाना परिसर ले गई।

दोपहर 12बजे सड़क पर उतरे समर्थक, पुलिस ने किया गिरफ्तार

वैसेतो आहूत बंद को लेकर सुबह से ही शहर की दुकानें नहीं खुली। लेकिन बंद समर्थक दोपहर 12 बजे के बाद बाजार निकले। बंद समर्थक टुंगरी की ओर से जैसे ही अपराह्न 1 बजे पोस्ट ऑफिस चौक पर पहुंचे, वहां पहले से तैनात सदर थाना पुलिस ने बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद सभी बंद समर्थकों को सदर थाना परिसर लाया गया, जहां शाम पांच बजे के बाद पीआर बांड पर छोड़ दिया गया। विनोद गोप, कुशनू कोड़ा सूबेदार बिरूवा के नेतृत्व में तुईबीर के पास से जुलूस निकला। इसमें सदर, झींकपानी, टोंटो, हाटगम्हरिया, मंझारी, खूंटपानी से काफी संख्या में समर्थक शामिल थे।

जगन्नाथपुर: मालुका स्टेशन पर रेल ट्रैक जाम

जगन्नाथापुर| बंदसमर्थकों ने जहां पांच घंटे तक मालुका स्टेशन के रेल लाइन को जाम किए रखा, वहीं ढाई घंटे तक सड़क पर भी जाम लगाए रखा। इससे वाहनों का आवागम प्रभावित हुआ। वहीं रेल ट्रैक पर कार्यकर्ताओं के बैठे रहने के कारण जनशताब्दी ट्रेन पूवार्ह्न 11.40 से शाम 4.30 बजे तक कंदपाेसी स्टेशन पर ही रूकी रही।

जगन्नाथपुर के मालुुका स्टेशन पर रेल ट्रैक को जाम करते बंद समर्थक।

बंद का व्यापक प्रभाव जैंतगढ़ में देखने को मिला। दुकानें बंद रहीं। वाहनों का परिचालन नहीं हुआ। दुकानदारों ने स्वेच्छा से अपनी-अपनी दुकानें बंद रखी। कुछ दुकानें खुली तो बंद समर्थक के निवेदन करने पर उन्हें भी बंद कर दिया गया। हालांकि दोपहर एक बजे के बाद बाजार खुल गया। कारोबारी लोग परेशान रहे। मकर के अवसर पर बाजार गुलजार रहता है। दुकानदार और खरीदार दोनों परेशान दिखे। कारोबारियों को लाखों का नुकसान हुआ है।

X
150 बसें नहीं चली, 3-4 गुना ज्यादा किराया देकर लोगों ने छोटे वाहनों में किया सफर, 128 बंद समर्थक गिरफ्तार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..