• Home
  • Jharkhand News
  • Jagannathpur
  • आठवीं की छात्रा ने रचाई शादी, संतान को जन्म देते ही शुरू हुआ जुल्म
--Advertisement--

आठवीं की छात्रा ने रचाई शादी, संतान को जन्म देते ही शुरू हुआ जुल्म

बनकाटी गांव की एक लड़की गोद में दुधमुंहे बच्चे को लेकर न्याय के लिए दर- दर भटक रही है। न्याय की आस में गुरुवार को...

Danik Bhaskar | Mar 16, 2018, 03:00 AM IST
बनकाटी गांव की एक लड़की गोद में दुधमुंहे बच्चे को लेकर न्याय के लिए दर- दर भटक रही है। न्याय की आस में गुरुवार को भुक्तभोगी लड़की जगन्नाथपुर थाना पहुंची। थाना प्रभारी अवधेश कुमार ठाकुर ने पीडि़ता की स्थिति देख तुरंत संज्ञान लिया और कार्रवाई शुरू कर दी। पीडि़ता ने दो साल पूर्व अपने ही गांव के लड़के से प्रेम विवाह किया था। पीडि़ता ने गुरुवार को जगन्नाथपुर थाने में लिखित आवेदन देकर न्याय की गुहार भी लगायी है। पीडि़ता ने अपने पति बिरेन कुम्हार, सास चंद्रावती कुम्हारिन, चाचा ससुर रमेश कुम्हार, जेठ राजेश कुम्हार, नरेश कुम्हार व धीरेन कुम्हार पर एक साल से प्रताड़ित करने व घर से भगाने की शिकायत की है।

चरित्रहीनता का आरोप लगा होती थी अक्सर पिटाई

पीडि़ता ने पुलिस को बताया कि उसके पति ने भी एक साल से उससे बातचीत करना बंद कर दी है। जब वह तीन माह की गर्भवती थी, उसी समय उसका पति उसे छोड़ कर बेंगलुरु काम करने चला गया था। इसी बीच वह मेहनत-मजदूरी करते हुए अपने गर्भस्थ शिशु का भरण पोषण किया। बीच बीच मे उसके ऊपर ससुरालवाले चरित्र हीनता का आरोप लगाते हुए मारपीट भी करते रहे।

थाने में कई बार हो चुका है समझौता

इस मामले को लेकर कई बार थाना में बात आ चुकी है, लेकिन हर बार आरोपियों ने समझौता करते हुए भविष्य में प्रताड़ित नहीं करने का भरोसा दिया। लेकिन घर आते ही वे लोग पुरानी बात पर उतर जाते हैं। वर्तमान पीडि़ता मायके में रह रही है। जब से उसके पति बेंगलुरू गए हैं उसी दिन से वह अपना भरण पोषण खुद से कर रही है।

अब पिता कर रहे देखभाल

पीडि़ता ने बताया कि गर्भवती होने के कारण जब वह काम करने में असमर्थ हुई, तो उसके कोख में पलते शिशु व उसकी देखभाल के लिए उसके पिताजी उसे घर ले आए। उसी दिन से आज तक वे और उसके दुधमुंहे बच्चे की देखभाल मेरे पिताजी कर रहे हैं।

मिल रही दूसरी शादी की धमकी

कभी कभी ससुरालवाले पीडि़ता के मायके में आकर गाली गलौज व मारपीट किया करते हैं। वे यह भी कहते हैं की तुम्हे जान से मार देंगे और अपने लड़के की दूसरी शादी कराएंगे। इससे पूर्व भी उन्होंने अपने बड़े बेटे की पहली प|ी को भगा दिया था।

अल्पायु में ही कर ली थी शादी

पीडि़ता ने बताया कि जब वह आठवीं कक्षा में थी तभी गांव के युवक बिरेन कुम्हार से प्यार कर बैठी। उसने बताया कि यही उसकी सबसे बड़ी भूल थी। वह अच्छा और बुरा में अंतर नहीं कर पायी।

हो चुकी है दो बच्चों की मौत

पीडि़ता ने कहा है कि बिरेन कुम्हार के झांसे में आकर उसके साथ रहने लगी। इससे पहले भी वह जुड़वां बच्चे की मां बनी थी। दोनों जुड़वां बच्चों की मौत हो चुकी है। जब उसका दुबारा पांव भारी हुआ तो ससुराल भाले उसपर पर पुरुषगामी का आरोप लगाते हुए प्रताड़ित करने लगे।