• Home
  • Jharkhand News
  • Jagannathpur
  • सीएचसी के एक मात्र डॉक्टर प्रशिक्षण पर, बेड पर कराहते रहे मरीज, हंगामा
--Advertisement--

सीएचसी के एक मात्र डॉक्टर प्रशिक्षण पर, बेड पर कराहते रहे मरीज, हंगामा

प्रखंड़ मुख्यालय के सीएचसी में शुक्रवार को चिकित्सक के ऑन ड्यूटी नहीं रहने के कारण घंटों मरीजों का इलाज नहीं हो...

Danik Bhaskar | Jul 01, 2018, 03:00 AM IST
प्रखंड़ मुख्यालय के सीएचसी में शुक्रवार को चिकित्सक के ऑन ड्यूटी नहीं रहने के कारण घंटों मरीजों का इलाज नहीं हो सका। इलाज कराने के लिए आउटडोर में मौजूद डॉक्टर के नहीं रहने से खासे परेशान रहे। परेशान मरीजों का जब सब्र जवाब देने लगा तो उन्होंने जमकर हंगामा किया। ऐसे में सीएचसी प्रभारी डॉ सुशांतो कुमार माझी को आउटडोर के लिए जैंतगढ़ स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थापित डॉक्टर दीपक कुमार को जगन्नाथपुर बुलाना पड़ा। इसके बाद ही मरीजों का इलाज शुरू हो सका। वहीं जगन्नाथपुर में मरीजों का इलाज करने के लिए वहां तैनात एक मात्र चिकित्सक डॉ दीपक कुमार को जैंतगढ़ स्वास्थ्य केंद्र को फार्मासिस्ट के हवाले करने पड़ा। इससे जैंतगढ़ में भी मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हलांकि खैरियत की बात यह रही कि जैंतगढ़ स्वास्थ्य केंद्र में रात में कोई गंभीर मरीज का केस नहीं पहुंचा।

जगन्नाथपुर सीएचसी में मरीज का इलाज करते डॉक्टर।

भास्कर न्यूज| जगन्नाथपुर

प्रखंड़ मुख्यालय के सीएचसी में शुक्रवार को चिकित्सक के ऑन ड्यूटी नहीं रहने के कारण घंटों मरीजों का इलाज नहीं हो सका। इलाज कराने के लिए आउटडोर में मौजूद डॉक्टर के नहीं रहने से खासे परेशान रहे। परेशान मरीजों का जब सब्र जवाब देने लगा तो उन्होंने जमकर हंगामा किया। ऐसे में सीएचसी प्रभारी डॉ सुशांतो कुमार माझी को आउटडोर के लिए जैंतगढ़ स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थापित डॉक्टर दीपक कुमार को जगन्नाथपुर बुलाना पड़ा। इसके बाद ही मरीजों का इलाज शुरू हो सका। वहीं जगन्नाथपुर में मरीजों का इलाज करने के लिए वहां तैनात एक मात्र चिकित्सक डॉ दीपक कुमार को जैंतगढ़ स्वास्थ्य केंद्र को फार्मासिस्ट के हवाले करने पड़ा। इससे जैंतगढ़ में भी मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हलांकि खैरियत की बात यह रही कि जैंतगढ़ स्वास्थ्य केंद्र में रात में कोई गंभीर मरीज का केस नहीं पहुंचा।

हंगामे के बीच आयुष डॉक्टर ने दी दवा

जगन्नाथपुर के सामुदायिक हेल्थ सेंटर में चिकित्सक का अभाव बना रहा व शुक्रवार को रातभर मरीज परेशान रहे। वहीं अस्पताल में भर्ती करीब दर्जनभर मरीज बिना डॉक्टर के बेड पर पड़े रहे। वहीं शनिवार की सुबह भी कोई चिकित्सक अस्पताल में मौजूद नहीं रहे। शनिवार की सुबह डॉक्टर नदारद मिले। आयुष चिकित्सक ने उन मरीजों को दवा दी।