Hindi News »Jharkhand »Jamshedpur »Jamshedpur» 3 Mans Died In Road Accident

एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर

जिस दिन बारात में शामिल होना था, उसी दिन लोगों ने तीन रिश्तेदारों की अर्थी को कंधा दिया।

Bhaskar News | Last Modified - Mar 09, 2018, 04:41 AM IST

  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    ओडिशा हादसे में मृत लोगों का हुआ अंतिम संस्कार

    जमशेदपुर.टाटा स्टील में सर्विस देने वाली संवेदक कंपनी क्वालिटी इंटरप्राइजेज के प्रमुख RSN राजू के बेटे आर प्रकाश की विशाखापट्‌टनम में बारात निकलनी थी। लेकिन बारात न निकलकर तीन लोगों की अर्थिंयां उठ गईं. दरअसल हाइवे से गुजरने के दौरान उनकी कार डिवाइडर से टकरा गई और तीनों की ही मौके पर मौत हो गई। ये था मामला...

    - बारात में शामिल होने के लिए एलेप्पी एक्सप्रेस में एसी बोगी में 35 और स्लीपर में 45 सीट रिजर्व कराई गई थी।
    - आरएसएन राजू, वी वी एन राजू, आशीष राजू और राजन प्रसाद का रेल टिकट था। उन लोगों ने बारातियों के लिए किए गए इंतजाम का मुआयना करने के लिए अचानक गाड़ी से विशाखापट्‌टनम जाने का फैसला किया।
    - ओडिशा में चिलका के आगे बालू गांव में आर एस एन राजू की गाड़ी नेशनल हाईवे के डिवाइडर से टकरा गई।
    - जिससे उन तीन लोगों ने मौके पर दम तोड़ दिया। सूचना मिली तो सारे बाराती आधे रास्ता में एलेप्पी से उतर गए।

    परिजनों को चेहरा देखने नहीं मिला

    - हादसे में तीनों के शव विकृत हो गए थे। दो घंटे की मशक्कत के बाद कार से तीनों शवों को बाहर निकाला जा सका था।
    - बड़ी मेहनत के बाद प्लास्टिक में शवों को बांधा गया था। डॉक्टरों की हिदायत थी- प्लास्टिक हटाई गई तो शव बिखर जाएंगे।
    - इस कारण किसी को तीनों का चेहरा अंतिम बार देखने का मौका भी नहीं मिला। कफन के साथ शव घर और श्मशान घाट ले जाए गए।

    मृतक के पिता बोले - जिसके कंधे पर जाना था, उसे ही आग देनी पड़ी

    - टाटा स्टील के एमडी के सचिव वीवीएन राजू को उनके पिता वी. रामा राजू ने मुखाग्नि दी। वी. रामा राजू भी जयप्रकाश की शादी में शिरकत करने वाले थे। वे कुछ दिन पहले ही वाईजैक चले गए थे।
    - वहां कुछ रिश्तेदारों से मिलने के बाद विवाह में शामिल होने का कार्यक्रम था। लेकिन रामा राजू को बुढ़ापे में कमजोर हो चुके कंधों पर बेटे के शव को उठाना पड़ा।
    - वीवीएन राजू की सिर्फ एक बेटी है, सो पिता को आग (मुखाग्नि) भी देनी पड़ी। सुवर्णरेखा बर्निंग घाट पर मुखाग्नि देते समय रामा राजू के क्रंदन से हर कोई कलप उठा।
    - वे बोले- जिसके कंधों पर मुझे जाना था, उसे ही आग देनी पड़ रही है।

    घटना में लड़की का कोई दोष नहीं, बाद में करूंगा उसी से शादी

    - अपने तीन रिश्तेदारों की मौत पर दूल्हा बनने वाले आर. जय प्रकाश शॉक्ड में थे।

    - उन्होंने सुवर्णरेखा घाट पर कहा- होनी को कौन टाल सकता है। लेकिन वे इसे किसी तरह का अपशकुन नहीं मानते।

    - मेरा पढ़ा-लिखा परिवार है। इसमें लड़की का क्या दोष है? फिलहाल शादी टल गई है। लेकिन उनके मन में इस शादी को लेकर किसी तरह के अपशकुन का भाव नहीं है।

    - आगे कहा- 8 मार्च को महिला दिवस पर शादी होनी थी, लेकिन इसी दिन तीन रिश्तेदारों का अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है।

    पुलिस घटनास्थल पर नहीं पहुंचती तो लुट जाते दुल्हन के लिए रखे गहने

    -ओडिशा के बालू गांव में सड़क हादसे में एकमात्र जीवित बचे आर. सूर्यनारायण (आरएसएन) राजू ने कहा- कार में उनके साथ सवार वीवीएन राजू, आशीष राजू और राजन प्रसाद की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी।

    - उन्हें भी चोट आई थी। कार में दुल्हन के लिए करीब 15 लाख रुपए के गहने रखे हुए थे।

    - हादसे के बाद पहुंचे आसपास के लोगों ने कार में कीमती सामान खोजना शुरू कर दिया था।

    - उन्हें शंका हुई कि गहने लुट न लिए जाएं। लेकिन फौरन पुलिस वहां पहुंच गई और सामान बच गए।

  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    बारात निकलनी थी मगर तीन लोगों की निकली अर्थी।
  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    आशीष राजू की मौत से टूटी बहन।
  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    बिलखती हुई वीवीएन राजू की पत्नी
  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    वहां पर मौजूद हर आंखों में आंसू थे।
  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    शमसान में रखी चिताएं।
  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    श्रीमंती सेन भी मौके पर पहुंची।
  • एक साथ निकली तीन लोगों की अर्थियां, मां-बहन के साथ रोता रहा पूरा शहर
    +7और स्लाइड देखें
    गमगीन आभा महतो, रुचि नरेंद्रन व आर. रवि प्रसाद
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jamshedpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 3 Mans Died In Road Accident
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jamshedpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×