--Advertisement--

पति के ड्यूटी जाने से नाराज पत्नी ने खुद को जलाया, साथ ही पूरी बस्ती जलकर राख

आग से 150 लोग प्रभावित हुए हैं और लाखों रुपए का नुकसान हुआ।

Dainik Bhaskar

Dec 22, 2017, 03:30 AM IST
हादसे में 60 साल की महिला जिंदा हादसे में 60 साल की महिला जिंदा

जमशेदपुर(झारखंड). वीकली ऑफ के दिन ड्यूटी पर जाने पर पत्नी ने झगड़ा कर लिया। दोनों में विवाद इतना बढ़ा कि गुस्से में पत्नी ने खुद पर केरोसिन डालकर आग लगा ली। उनका घर तो जला ही, पूरी बस्ती जलकर राख हो गई। बस्ती में 45 घर थे। 60 साल की महिला जिंदा जल गईं। वे लकवाग्रस्त थीं। आग बुझाने के बाद शव निकाला जा सका।

घर में सिलेंडर फटने के बाद बस्ती में आग फैली

- कदमा उलियान बिजली सब स्टेशन के पास मरीन ड्राइव सड़क के किनारे बागे बस्ती में यह हादसा हुआ। पति सोनाराम लोहार से झगड़ा करने वाली ललिता लोहार (40 वर्ष) और उनका नाती मंगला (4 साल) गंभीर रूप से झुलस गए।

- 70 फीसदी डीप बर्न का केस होने से दोनों को टीएमएच में भर्ती कराया गया है। सोनाराम आंशिक रूप से जले। आधा दर्जन मवेशी झुलस कर मर गए।

- घटना के बाद से मंगला देवी नाम की महिला सदमे में हैं। वे भी टीएमएच के आईसीयू में हैं। आग से 150 लोग प्रभावित हुए हैं और लाखों रुपए का नुकसान हुआ। 5 दमकल व एक टैंकर ने दो घंटे में आग पर काबू पाया।

- बस्ती में अधिकतर घरों में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी का सिलेंडर मिला है। सोनाराम के घर में सिलेंडर फटने के बाद बस्ती में आग फैली। देखते ही देखते चार घरों में सिलेंडर फटे। इसके बाद तो अाग ने भयावह रूप ले लिया। चार बाइक भी राख हो गई।

आगबबूला पत्नी बोली- तुम्हें सिर्फ कंपनी का काम दिखता है, घर का नहीं

मैं रामकृष्ण फोर्जिन कंपनी में केजुअल कर्मचारी हूं। गुरुवार को वीकली ऑफ था। मैं ए शिफ्ट में सुबह पांच बजे काम पर चला गया। घर में खाने-पीने का सामान नहीं था। पत्नी ललिता लोहार ने कहा था कि कल सामान लाना जरूरी है। मैंने रात में पत्नी से कहा था कि कुछ पैसे का इंतजाम किया हूं। रात में दुकानें बंद थीं तो सामान नहीं खरीद सका। सुबह सामान खरीद कर लाऊंगा लेकिन कंपनी से फोन आने पर काम पर जाना पड़ा। सामान नहीं लाने से खाना नहीं बना। बच्चे भूखे थे। मैं ड्यूटी से आया तो पत्नी झगड़ने लगी। गुस्से में उसने अपने व मेरे शरीर पर केरोसिन छिड़क कहा- जब बच्चों को पाल नहीं सकते तो मर जाना बेहतर। तुम सिर्फ काम करते रहो और बच्चे खाने के लिए रोते रहे। उसने अचानक खुद को आग लगा ली। वह जलने लगी। मैंने आग बुझाने की कोशिश की, तभी घर में रखे गैस सिलेंडर में आग लग गई। देखते ही देखते आग की लपटें तेज हो गईं। मैंने खींचकर ललिता और बच्चों को बाहर निकाला। पत्नी की बड़ी बहन अमोला (60) लकवा ग्रस्त थीं। वे बिस्तर पर साेई थीं। उन्हें नहीं बचाया जा सका। बड़ी बेटी का 4 साल का बेटा मंगला भी झुलस गया। मेरे चार बच्चे हैं। दो लड़के और दो लड़की। बड़ा बेटा 13, छोटा 7 साल का है। घर का सारा सामान जल गया।

वीडियो : अनिल कुमार।

X
हादसे में 60 साल की महिला जिंदा हादसे में 60 साल की महिला जिंदा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..