--Advertisement--

मंत्री और BJP नेता के रिलेटिव ने बैंक में नौकरी के नाम पर फंसाया, 14 लाख फिरौती लेकर छोड़ा

मंत्री सीपी सिंह ने कहा- रांची में मेरे बहुत सारे रिश्तेदार हैं। मेरा भगीना मेरे साथ नहीं रहता और न ही मैं उसके घर जाता

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2017, 05:23 AM IST
Framed on the name of the job in the bank

रांची. लालपुर थाना क्षेत्र के महेंद्र प्रसाद महिला कॉलेज की स्टूडेंट का बैंक में नौकरी दिलाने का झांसा देकर अपहरण कर लिया गया। अश्लील फोटो खींचकर ब्लैकमेल किया और 14 लाख रुपए फिरौती वसूलने के बाद छोड़ा। इस मामले में रविवार को पुलिस ने नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के भगीना अजीत सिंह, चुटिया इलाके की भाजपा महिला नेता नीलम सिंह, उसके बेटे राहुल सिंह और प्रशांत के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की है।

स्टूडेंट के मुताबिक राहुल और अजीत उसे बार-बार मंत्री का नाम लेकर डराते-धमकाते थे। अजीत कहता था कि वह मंत्री का भगीना है, इसलिए पुलिस उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकती। राहुल और नीलम भी खुद को मंत्री का करीबी बताते हुए उसे धमकाते थे। लालपुर थानेदार रमोद कुमार ने कहा कि इनके खिलाफ अभी आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई होगी।

फोटो वायरल करने की धमकी देकर राहुल ने की कोर्ट मैरिज

छात्रा ने पुलिस से कहा-अगस्त के पहले सप्ताह में तीनों युवक कॉलेज आए थे। मुझसे कहा कि बैंक के लिए कैंपस सलेक्शन है। बॉस से बात करनी होगी। उन्होंने फोन पर मेरी नीलम से बात कराई। नीलम ने 23 अगस्त को लालपुर में पैंटालून मॉल के पास बुलाया। जब वहां गई तो तीनों युवक पहले से वहां मौजूद थे। इंटरव्यू के नाम पर तीनों मुझे लेकर होटल प्रताप रेसिडेंसी पहुंचे। मेरा सर्टिफिकेट ले लिया। नशीला केक खिलाया, जिससे कुछ देर बाद बेहोश हो गई। होश आया तो मैं बेड पर पड़ी थी। राहुल बगल में बैठा था। राहुल ने अपने मोबाइल में मेरी कुछ अश्लील तस्वीर दिखाई और किसी को बताने पर फोटो वायरल करने की धमकी दी। सर्टिफिकेट भी बाद में देने की बात कही। इसके बाद ये युवक अक्सर मेरे कॉलेज में आने लगे। डराने-धमकाने लगे। तंग आकर अपने घर रामगढ़ चली गई।

कुछ दिन बाद राहुल ने फोन पर कहा कि रांची आकर सर्टिफिकेट ले जाओ । रांची आने पर कचहरी ले गया। फोटो दिखाकर धमकाया और कोर्ट मैरिज कर ली। फिर बंगाली टोली में एक कमरे में बंद कर दिया। यहां से राहुल के पिता मुझे सतना (मध्यप्रदेश) ले गए। राहुल की बहन के फ्लैट पर रखा। फोन पर पिता से बात कराई और 14 लाख रुपए मांगे। पिता ने 14 लाख रुपए का चेक राहुल को दिया। इसके बाद राहुल मुझे ट्रेन से रांची ला रहा था। मैं डेहरी स्टेशन पर उतरकर घर चली गई। रामगढ़ के चरही थाने में केस दर्ज कराने गई, तो वहां से रांची भेज दिया गया।

सीपी सिंह बोले-मेरा भगीना है तो क्या हुआ, अपराध किया है तो पुलिस सजा देगी

मंत्री सीपी सिंह ने कहा- रांची में मेरे बहुत सारे रिश्तेदार हैं। मेरा भगीना मेरे साथ नहीं रहता और न ही मैं उसके घर जाता हूं। मेरा भगीना है तो क्या हुआ, अपराध किया है तो पुलिस उसे सजा देगी ही। इसमें भला मैं क्या कर सकता हूं। जैसी करनी, वैसी भरनी। यदि कोई दोषी है तो पुलिस उसे गिरफ्तार कर कड़ी से कड़ी सजा दिलाए।

X
Framed on the name of the job in the bank
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..