--Advertisement--

भाई की लाश देखकर बिलख पड़ी बहन, सीसीटीवी में दिखा गोली मारने वाला

जमशेदपुर टाइगर क्लब का अध्यक्ष और क्षत्रिय महासभा की युवा इकाई का जिला उपाध्यक्ष था।

Dainik Bhaskar

Dec 20, 2017, 03:31 AM IST
गैंगस्टर के करीबी निरंजन सिंह गैंगस्टर के करीबी निरंजन सिंह

जमशेदपुर. मंगलवार की शाम गैंगवार में बदमाशों ने जुगसलाई सफीगंज मोहल्ला के रहने वाले निरंजन सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। शाम करीब 6 बजे नागरमल मॉल के पीछे हत्या कर बदमाश आमबागान की ओर बाइक से फरार हो गए। निरंजन सिंह जमशेदपुर टाइगर क्लब का अध्यक्ष और क्षत्रिय महासभा की युवा इकाई का जिला उपाध्यक्ष था।

CCTV फुटेज में मिली गोली मारने वाले की तस्वीर

- परिजनाें ने मामले में जेल से जमानत पर छूटे और रंगदारी मांगने के आरोपी पंकज दुबे के चचेरे भाई नीरज दुबे और मानगो के आलमगीर और आरिफ पर हत्या का आरोप लगाया है। नीरज भी जुगसलाई का रहनेवाला है।

- पुलिस के मुताबिक, निरंजन पहले पंकज के साथ रहता था, लेकिन हाल के दिनों में वह गैंगस्टर अखिलेश सिंह के करीब हो गया था। पुलिस ने मौका-ए-वारदात से दो खोखे बरामद किए। दुकान में लगे CCTV फुटेज की जांच में निरंजन को गोली मारने वाले युवक की तस्वीर मिली है।

निरंजन के पिता ने पंकज दुबे को बचाया

बेटे की हत्या की खबर मिलने पर एमजीएम अस्पताल पहुंचे रामेश्वर सिंह ने पंकज दुबे को उग्र भीड़ से बचाया। पंकज दुबे एमजीएम अस्पताल पहुंचे तो निरंजन के साथियों ने उस पर हमला कर दिया था। उन्होंने कहा पंकज ने बेटे की हत्या नहीं कराई। उसके चचेरे भाई नीरज दुबे और साथियों ने मारा है। उन्होंने पंकज को भीड़ से बाहर निकाला। इधर, आजसू नेता समरेश सिंह ने कहा निरंजन भाई जैसा था।

गैंगस्टर अखिलेश सिंह गैंग का खूंखार शूटर जेल से बाहर आया

- जमशेदपुर के कुख्यात अपराधी गैंगस्टर अखिलेश सिंह गैंग का खूंखार शूटर राजीव रंजन सिंह जेल से बाहर आ गया है। वह बीजेपी नेता दीपक तिवारी और पार्षद रत्नेश सिंह की हत्या के आरोप में जेल में बंद था। उसके खिलाफ रांची के अलग-अलग थानों में करीब 61 क्रिमिनल केस दर्ज हैं, जिनमें से ज्यादातर हत्या के मामले हैं। बीजेपी नेता और पार्षद हत्याकांड में वह कोर्ट से रिहा हो गया है।

- पार्षद रत्नेश सिंह की 28 नवंबर 2014 को धुर्वा में हत्या कर दी गई थी, वहीं बीजेपी नेता दीपक तिवारी की हनी रेस्टोरेंट में कुछ साल पहले हत्या कर दी गई थी। कुछ साल पहले मेन रोड में एक कारोबारी राजगढ़िया को गोली मारने के बाद शूटर राजीव रंजन सिंह का नाम रांची के क्राइम वर्ल्ड में उभरकर सामने आया था। उसे अखिलेश सिंह का खास शूटर माना जाता है।

- लालपुर में एक बेशकीमती जमीन को खाली कराने को लेकर हुई गोलीबारी में भी वह जेल गया था। जमीन पर कब्जा दिलाने के नाम पर उसने एक बिल्डर से 18 लाख रुपए में सौदेबाजी की थी।
- शूटर राजीव के जेल से बाहर आने के कारण एक बार फिर से राजधानी में गैंगवार की आशंका बढ़ गई है। अखिलेश सिंह गैंग राजधानी में भी अपना दबदबा बनाने में लगा हुआ है।

- वहीं नए साल में राजधानी के कुछ बस स्टैंड का ठेका लेने का जिम्मा शूटर राजीव रंजन सिंह को सौंपा गया है। उसने रांची में अपना एक अलग गैंग भी खड़ा कर लिया है। उसके गैंग में कांके रोड और चर्च रोड के ज्यादा दागी युवक शामिल हैं।

वीडियो : कन्हैया लाल।

X
गैंगस्टर के करीबी निरंजन सिंह गैंगस्टर के करीबी निरंजन सिंह
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..