जमशेदपुर

--Advertisement--

जूनियर को शो कॉज का जवाब देने से बेहतर राजबाला पद ही छोड़ दें : सरयू राय

मंत्री ने कहा, कोर्ट के आदेश पर भी राजबाला ने पटना डीएम रहते आरोपी लालू यादव को गिरफ्तार नहीं किया था।

Danik Bhaskar

Jan 06, 2018, 05:52 AM IST
चीफ सेक्रेटरी राजबाला पर चारा चीफ सेक्रेटरी राजबाला पर चारा

जमशेदपुर. मंत्री सरयू राय ने कहा कि पशुपालन घोटाले में कार्मिक विभाग की प्रधान सचिव निधि खरे ने सीएस राजबाला वर्मा को शो कॉज किया है। निधि, राजबाला से जूनियर हैं। घोटाले में जूनियर अफसर निधि को शो कॉज का जवाब देने से बेहतर होगा कि राजबाला त्याग पत्र दे दें। राजकाज की नैतिकता यही है। सरयू राय शुक्रवार को जमशेदपुर में थे। बिष्टुपुर स्थित आवास में उन्होंने कहा, राजबाला का पद पर रहना या न रहना सीएम रघुवर दास के हाथ में हैं। वे जब चाहें, राजबाला को पद से हटा सकते हैं। पशुपालन घोटाले में अभी तक राजबाला को सीएस स्तर से स्पष्टीकरण मांगा जाता रहा। मगर वे अब खुद सीएस हैं। इस वजह से सीएम के आदेश पर कार्मिक विभाग की प्रधान सचिव निधि खरे को शो कॉज करना पड़ा।

पटना डीएम रहते लालू को नहीं किया था गिरफ्तार

मंत्री ने कहा, कोर्ट के आदेश पर भी राजबाला ने पटना डीएम रहते पशुपालन घोटाले के मुख्य आरोपी लालू यादव को गिरफ्तार नहीं किया था। जुलाई 1997 में कोर्ट ने लालू यादव को गिरफ्तार करने का आदेश दिया था। तब लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री और राजबाला वर्मा पटना डीएम थीं। लालू प्रसाद यादव को गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई पटना डीएम के पास गई पर सहयोग नहीं मिला।

गुवा-सलाई सड़क की भी जांच होनी चाहिए

सरयू राय चाईबासा में डीएफओ से गुवा-सलाई सड़क पर बातचीत की। सड़क तब बनी थी, जब राजबाला वर्मा पथ निर्माण की प्रधान सचिव थीं। मंत्री ने कहा, वन विभाग की अनापत्ति लिए बिना सारंडा जंगल के भीतर गुवा-सलाई सड़क का निर्माण शुरू कर दिया। 9 किमी तक सड़क चौड़ीकरण के लिए जंगल काटा गया। काम रुकवाया गया। अभी नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में इसका केस विचाराधीन है। छानबीन होनी चाहिए।

Click to listen..