• Hindi News
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • 1 हजार रु. घूस लेते अवर निबंधन विभाग के प्रधान लिपिक और दलाल गिरफ्तार
--Advertisement--

1 हजार रु. घूस लेते अवर निबंधन विभाग के प्रधान लिपिक और दलाल गिरफ्तार

जिला अवर निबंधन कार्यालय में हर काम के लिए हो रही रिश्वतखोरी से लोग परेशान थे। गुरुवार को उस समय घूसखोरी के इस खेल...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:40 AM IST
1 हजार रु. घूस लेते अवर निबंधन विभाग के प्रधान लिपिक और दलाल गिरफ्तार
जिला अवर निबंधन कार्यालय में हर काम के लिए हो रही रिश्वतखोरी से लोग परेशान थे। गुरुवार को उस समय घूसखोरी के इस खेल का पर्दाफाश हो गया, जब जमशेदपुर के एंटी करप्शन विभाग की टीम ने दफ्तर में छापा मारा। अमलाटोला के होटल व्यवसायी मनीष चौबे की शिकायत पर एसीबी की टीम ने करीब ढाई घंटे की कार्रवाई में कार्यालय के प्रधान लिपिक नागेश्वर बिरूआ व उसके दलाल शशिकांत राम को होटल व्यवसायी से एक हजार रुपए घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में दोनों ने रिश्वतखोरी की बात स्वीकारी। पूछताछ के बाद एसीबी की टीम प्रधान लिपिक व दलाल को जमशेदपुर ले गई। विभाग ने प्रधान लिपिक को सस्पेंड कर दिया है। वह झींकपानी के सागर कट्टा गांव का रहनेवाला है।

विभाग ने प्रधान लिपिक नागेश्वर सस्पेंड

हिरासत में दलाल शशिकांत राम व अपने कार्यालय में बैठा प्रधान लिपिक।

लिपिक व दलाल के घरों में मारा छापा - प्रधान लिपिक की गिरफ्तारी के बाद एसीसीबी की टीम ने उसके जेवियर नगर स्थित आवास पर भी छापा मारा। लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ। वहीं दलाल शशिकांत राम के मोचीसाई स्थित आवास पर छापेमारी की गई। लेकिन वहां भी टीम को कुछ भी हासिल नहीं हुआ। इसके बाद दोनों को एसीबी की टीम जमशेदपुर ले गई।

सेल डीड के लिए 20 दिन से चक्कर काट रहे थे मनीष

टीम का नेतृत्व कर रहे एसीबी के डीएसपी अमर कुमार पांडेय ने बताया कि अमलाटोला के होटल व्यवसायी मनीष चौबे अपनी जमीन के सेल डीड की सत्यापित कॉपी हासिल करना चाह रहे थे। इसके लिए उन्होंने विभाग में आवेदन भी दे रखा था। साथ ही निर्धारित शुल्क भी जमा करा दिए थे। बावजूद रिश्वत के लिए उन्हें करीब 20 दिनों से दौड़ाया जा रहा था। होटल व्यवसायी मनीष चौबे ने बताया कि 1918 की जमीन के कागज के लिए वे लगातार अवर निबंधन कार्यालय का चक्कर लगा रहे थे। इसी क्रम में प्रधान लिपिक व उसके दलाल ने 1700 ले लिए। लेकिन कागजात उपलब्ध नहीं कराया गया। और 1500 रुपए की मांग की गई।

X
1 हजार रु. घूस लेते अवर निबंधन विभाग के प्रधान लिपिक और दलाल गिरफ्तार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..