• Home
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • नवल टाटा एकेडमी पुराने दिनों की गरिमा को लौटाएगा : रतन टाटा
--Advertisement--

नवल टाटा एकेडमी पुराने दिनों की गरिमा को लौटाएगा : रतन टाटा

सिटी रिपोर्टर

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:40 AM IST
सिटी रिपोर्टर
जमशेदपुर टाटा ट्रस्ट्स और टाटा स्टील ने आज जमशेदपुर में 14 से 16 वर्षीय लड़कों के लिए विश्वस्तरीय आवासीय हॉकी प्रशिक्षण सुविधा ‘नवल टाटा हॉकी एकेडमी’ (एनटीएए) की स्थापना की घोषणा की। टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन एन टाटा ने संस्थापक दिवस समारोह के अवसर पर एकेडमी का उद्घाटन किया। साथ ही, नए हॉस्टल के निर्माण के लिए फाउंडेशन स्टोन भी डाला।

टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा का जमशेदपुर के लिए विजन कि ‘फुटबॉल, हॉकी और पार्कों के लिए बड़े क्षेत्र सुनिश्चित हों’ के अनुरूप यह एकेडमी शहर की एक और विश्व स्तरीय सुविधा है। टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा ने कहा- मेरे पिता (नवल टाटा) के समय हॉकी का स्वर्णिम दौर था। उम्मीद करते हैं कि यह एकेडमी भी उस दौर को लौटाने में सफल होगा। भारतीय हॉकी में नवल एच टाटा के योगदान, उत्कृष्ट खेल प्रशासक के रूप में उनकी उपलब्धियों और खेल के प्रति उनके जुनून के सम्मान में एकेडमी का नाम ‘नवल टाटा हॉकी एकेडमी’ रखा गया है।


नवल टाटा हॉकी एकेडमी का उद्घाटन करते टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन एन टाटा।

बॉवलैंडर एकेडमी से हुआ है टाटा ट्रस्ट का करार


टाटा ट्रस्ट्स और टाटा स्टील ने बॉवलैंडर हॉकी एकेडमी और ‘वन मिलियन हॉकी लेग्स प्रोग्राम’ के माध्यम से लड़कों और लड़कियों, दोनों को प्रशिक्षित करने के लिए लीजेंड्री डच ड्रैग-फ्लिकर फ्लोरिस जैन बॉवलैंडर के साथ साझेदारी की है। बॉवलैंडर एकेडमी के पहले तकनीकी निदेशक हैं। पूर्ण पैमाने पर, एकेडमी में 52 लड़के और 52 लड़कियों को प्रशिक्षण और प्रतिस्पर्धात्मक रूप से खेलने का अवसर दिया जायेगा।


आधुनिक सुविधाओं से लैस है एकेडमी

नवल टाटा पंद्रह वर्षों तक अखिल भारतीय खेल परिषद (एआईसीएस) के अध्यक्ष रहे। उन्होंने भारतीय हॉकी महासंघ के अध्यक्ष और अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (आईएचएफ) के उपाध्यक्ष के रूप में प्रतिष्ठित पदों को भी सुशोभित किया। नवल टाटा हॉकी एकेडमी विश्वस्तरीय सुविधाओं से लैस है, जिनमें वैश्विक गुणवत्ता वाला एफआईएच आर्टिफीशियल टर्फ, फ्लड लाइट्स, अंतरराष्ट्रीय कोच, पोषण विशेषज्ञ और मानसिक व शारीरिक प्रशिक्षक शामिल हैं। सिमडेगा, खूंटी और पश्चिम सिंहभूम के गांवों एवं बस्तियों से 26 लड़कों को लेकर इस उच्च स्तरीय हॉकी प्रशिक्षण केंद्र की शुरुआत की गयी है।