पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • बच्चों ने 20 तक पहाड़ा याद कर सुनाया हेडमास्टर ने पहली बार ट्रेन में यात्रा कराई

बच्चों ने 20 तक पहाड़ा याद कर सुनाया हेडमास्टर ने पहली बार ट्रेन में यात्रा कराई

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पहली बार ट्रेन में चढ़े बच्चों की खुशी का ठिकाना नहीं था

एजुकेशन रिपोर्टर | जमशेदपुर

सुदूरक्षेत्र स्थित एक सरकारी स्कूल के 174 बच्चों ने बुधवार को पहली बार ट्रेन में यात्रा की। यह यात्रा स्कूल के हेडमास्टर ने अपने खर्च से कराई, क्योंकि बच्चों ने निर्धारित अवधि में 20 तक पहाड़े याद कर लिए थे। झारखंड-ओडिशा की सीमा पर लगा गांव है टांगराईन उत्क्रमित मध्य विद्यालय। हेडमास्टर अरविंद तिवारी लंबे समय से बच्चों को पहाड़ा सीखा रहे थे, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। ऐसे में उन्होंने एक युक्ति सोची। तीसरी से आठवीं तक के बच्चों से कहा जो भी 20 तक पहाड़ा याद कर लेगा, उसे ट्रेन में सफर कराया जाएगा। फिर क्या था, बच्चों ने पूरे मन से पहाड़े याद करना शुरू कर दिया। निर्धारित अवधि में सभी पहाड़े सीख गए। अपना वादा पूरा करते हुए बुधवार को हेडमास्टर श्री तिवारी ने स्कूल के 174 बच्चों को साथ लिया। टाटा-बादामपहाड़ पैसेंजर से हल्दीपोखर से बादामपहाड़ तक सफर कराया। यात्रा सुबह 7 से दोपहर 02:30 तक चली। इस दौरान बच्चों ने प्रेरक कहानियां सुनाईं और गीत-संगीत का दौर चला। श्री तिवारी ने कहा, इस मुहिम की शुरुआत डेढ़ महीने पहले ‘पहाड़ा रैलियां’ से की थी। शेषपेज-10

बच्चों को प्रोत्साहन देने के लिए बनाई योजना : अरविंदतिवारी ने बताया, ‘शिक्षक के नाते मैंने देखा कि बच्चे 8वीं तक तो पहुंच जाते हैं, लेकिन उनका बेस कमजोर रहता है। इससे उन्हें अगली कक्षाओं की पढ़ाई में परेशानियां आती हैं। मैंने बच्चों को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से यह योजना बनाई थी।’

बच्चों के साथ पेरेंट्स को भी मिला मौका : हेडमास्टरने तीसरी से 8वीं तक के बच्चों को पहाड़ा याद करने को कहा था। ट्रेन यात्रा में उन्होंने 174 बच्चों के साथ 47 पेरेंट्स को ट्रेन की सवारी कराई। बच्चों की सुरक्षा के लिए वार्ड मेंबर्स पूर्व मुखिया भी थे। स्कूल में पहली से 8वीं तक की पढ़ाई होती है। कुल 177 बच्चे हैं।

भास्कर ख़ास

खबरें और भी हैं...