• Hindi News
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • साइबर अपराधियों ने चुराया बाल विकास विभाग का डाटा, आंगनबाड़ी सेविकाओं से मांग रहे हैं बैंक डिटेल
--Advertisement--

साइबर अपराधियों ने चुराया बाल विकास विभाग का डाटा, आंगनबाड़ी सेविकाओं से मांग रहे हैं बैंक डिटेल

डीबी स्टार

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:10 AM IST
साइबर अपराधियों ने चुराया बाल विकास विभाग का डाटा, आंगनबाड़ी सेविकाओं से मांग रहे हैं बैंक डिटेल
डीबी स्टार
साइबर अपराधियों ने बाल विकास विभाग के सर्वर से डाटा उड़ा लिया है। उनके पास आंगनबाड़ी सेविकाओं की पूरी जानकारी उपलब्ध है। अब साइबर अपराधी आंगनबाड़ी सेविकाओं को टारगेट बनाए हुए हैं। सेविकाओं को फोन कर कब कितना मानदेय मिला, अभी कितना मिलना है, पूरी जानकारी देने के बाद रिनुवल कराने के नाम पर एटीएम नंबर मांग रहे हैं। बोकारो जिले की कई सेविकाओं ने डीबी स्टार को फोन कर इसकी सूचना दी। सभी को एक ही मोबाइल नंबर 8579973257 से फोन किया जा रहा है। जबकि विभाग के अधिकारी इस बात को पूरी तरह खारिज कर रहे हैं कि विभाग से सेविकाओं का एटीएम नंबर मांगा जा रहा है। अधिकारी इसे फ्रॉड बता रहे हैं।

लोगों को ठगने के लिए साइबर अपराधी हमेशा नए-नए तरीके अपनाते हैं। कभी बैंक में आधार नंबर जोड़ने तो कभी एटीएम अपडेट करने के नाम पर बैंक डिटेल लेकर फर्जीवाड़ा करते रहे हैं। जागरुकता बढ़ने के बाद लोग अलर्ट हो गए हैं। ऐसे में इन साइबर अपराधियों ने ग्रामीण क्षेत्र की आंगनबाड़ी सेविकाओं को टारगेट करना शुरू कर दिया है।

सेविकाओं से मांग रहे हैं एटीएम नंबर, विभाग ने इसे फर्जी बताया

क्या है साइबर अपराध

सरकारी एजेंसियां जिस तरह से डाटा और रिकॉर्ड को लेकर अलर्ट हो रही हंै, अपराधी भी हाइटेक हो रहे हैं। ऑनलाइन ठगी या चोरी भी इसी श्रेणी का अहम गुनाह होता है। किसी की वेबसाइट को हैक करना या सिस्टम डेटा को चुराना ये सभी तरीके साइबर क्राइम की श्रेणी में आते हैं।

केस -1 : सेविका से मांगा एटीएम नंबर

आंगनबाड़ी सेविका सुषमा देवी ने बताया कि किसी ने फोन कर कहा कि मैं बाल विकास विभाग रांची से बोल रहा हूं। आपका पिछला मानदेय भेजा गया है, इस माह और मानदेय भेजा जाएगा। आपका एटीएम रिनुवल कराना है, इसलिए एटीएम नंबर दीजिए।

विभाग से नहीं मांगा गया है एटीएम नंबर

 विभाग क्यों किसी सेविका से एटीएम नंबर मांगेगा। यह कोई फ्रॉड कर रहा है। अगर कोई एटीएम नंबर मांग रहा है, तो तुरंत इसकी शिकायत पुलिस में करें।  विनय कुमार चौबे, सचिव, महिला एवं बाल विकास विभाग, झारखंड

केस -2 : सेविका ने बता दिया था एटीएम नंबर

आंगनबाड़ी सेविका पिंकी देवी ने कहा-उसके पास भी इसी तरह का कॉल आया। एटीएम नंबर मांगा, तो उसने एटीएम नंबर बता दिया। मगर इसकी जानकारी पति आनंद साव को देने पर वे मामला समझ गए और तुरंत एटीएम बंद करवाया।

citizen journalism

जर्जर पोल और पुराने तार के सहारे दाईगुट्‌टू में हो रही बिजली की सप्लाई, तेज हवा चलने पर टूट जाते हैं तार

आज के सिटीजन जर्नलिस्ट

रंजीत कुमार साव

ये सामाजिक कार्यकर्ता हैं। दाईगुट्‌टू में जर्जर पोल और पुराने तार के सहारे बिजली की आपूर्ति हो रही है। तेज हवा चलने पर तार गिरने की घटनाएं बढ़ जाती हैं।

डीबी स्टार
दाईगुट्‌टू कावेरी रोड में बिजली आपूर्ति के लिए लगाए गए पोल और तार व्यवस्था की ही पोल खोल रहे हैं। मागनाे अधिसूचित क्षेत्र के दाईगुट्‌टू कावेरी रोड में झंडा सिंह स्कूल के पास बिजली आपूर्ति जर्जर खंभों के सहारे की जा रही है। खंभे बिल्कुल जर्जर हो चुके हैं, लेकिन विभाग को यह खंभा नहीं दिखाई देता है।

मुहल्ले के रंजीत कुमार साव, राहूल कुमार, जगदानंद सिंह, राकेश कमर्कार बताते हैं कि दुर्घटना का सबब बने इस बिजली के खंभे को हटाने के लिए कई बार झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड(जेएसईबी) के अधिकारी औ कर्मचारियो से कई बार लिखित शिकायत की गई, लेकिन जिम्मेदार अफसरों ने शिकायतों को दर-किनार कर दिया। इससे लोगों में जेएसईबी के प्रति आक्रोश है। मुहल्लेवासियों का कहना है कि विभाग को किसी बड़े हादसे का इंतजार है।

शिकायत करने के बाद भी नहीं बदल रहे पोल

आप भी बतौर सिटीजन जर्नलिस्ट डीबी स्टार से जुड़ सकते हैं। इसके लिए वॉट्सएप पर Citizen Journalist jamshedpur 8083757257 पर खबरें भेज सकते हैं। अपनी शिकायतें और सुझाव इस नंबर पर भेजें 7870315606पर तस्वीर व जानकारी अपने मोबाइल नंबर के साथ भेज सकते हैं।

डीबी स्टार
दाईगुट्‌टू कावेरी रोड में बिजली आपूर्ति के लिए लगाए गए पोल और तार व्यवस्था की ही पोल खोल रहे हैं। मागनाे अधिसूचित क्षेत्र के दाईगुट्‌टू कावेरी रोड में झंडा सिंह स्कूल के पास बिजली आपूर्ति जर्जर खंभों के सहारे की जा रही है। खंभे बिल्कुल जर्जर हो चुके हैं, लेकिन विभाग को यह खंभा नहीं दिखाई देता है।

मुहल्ले के रंजीत कुमार साव, राहूल कुमार, जगदानंद सिंह, राकेश कमर्कार बताते हैं कि दुर्घटना का सबब बने इस बिजली के खंभे को हटाने के लिए कई बार झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड(जेएसईबी) के अधिकारी औ कर्मचारियो से कई बार लिखित शिकायत की गई, लेकिन जिम्मेदार अफसरों ने शिकायतों को दर-किनार कर दिया। इससे लोगों में जेएसईबी के प्रति आक्रोश है। मुहल्लेवासियों का कहना है कि विभाग को किसी बड़े हादसे का इंतजार है।

X
साइबर अपराधियों ने चुराया बाल विकास विभाग का डाटा, आंगनबाड़ी सेविकाओं से मांग रहे हैं बैंक डिटेल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..