--Advertisement--

1908 में 50 हजार टन वार्षिक क्षमता का प्लांट बनना

Jamshedpur News - 1908 में 50 हजार टन वार्षिक क्षमता का प्लांट बनना शुरू हुआ। नवंबर 1911 में कंपनी का ब्लाट फर्नेस आरंभ किया गया। 16 फरवरी 1912...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:25 AM IST
1908 में 50 हजार टन वार्षिक क्षमता का प्लांट बनना
1908 में 50 हजार टन वार्षिक क्षमता का प्लांट बनना शुरू हुआ। नवंबर 1911 में कंपनी का ब्लाट फर्नेस आरंभ किया गया। 16 फरवरी 1912 को साकची स्थित ‘दि टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी’ में इस्पात की पहली सिल्ली ढाली गई। शुरुआती दिनों में कंपनी में स्थायी व ठेका मजदूरों की संख्या करीब 400 थी। अधिकतर मजदूर सरायकेला, खरसावां, मयूरभंज, सारण, शाहाबाद व छत्तीसगढ़ के थे। 1915 में प्रशिक्षित कर्मियों की संख्या 121 थी। जेएन टाटा की सोच थी कि औद्योगिक तरक्की के लिए कर्मियों का प्रशिक्षित होना जरूरी है। इसे देखते हुए जमशेदपुर में टेक्निकल इंस्टीट्यूट खोला गया।

X
1908 में 50 हजार टन वार्षिक क्षमता का प्लांट बनना
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..