Hindi News »Jharkhand News »Jamshedpur »Jamshedpur» साक्ष्य नहीं दे सकी पुलिस, अखिलेश के करीबी संजय पलसानिया व बिनोद सिंह को जमानत

साक्ष्य नहीं दे सकी पुलिस, अखिलेश के करीबी संजय पलसानिया व बिनोद सिंह को जमानत

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:40 PM IST

गैंगस्टर अखिलेश सिंह के करीबी कारोबारी टेल्को निवासी संजय पलसानिया और होटल सिटी इन के मालिक सह ट्रांसपोर्टर...
गैंगस्टर अखिलेश सिंह के करीबी कारोबारी टेल्को निवासी संजय पलसानिया और होटल सिटी इन के मालिक सह ट्रांसपोर्टर बिनोद सिंह को बुधवार को हाईकोर्ट के न्यायाधीश आनंद सेन की अदालत ने साक्ष्य के अभाव में जमानत दे दिया। संजय पलसानिया और बिनोद सिंह फिलहाल घाघीडीह जेल में हैं।

पुलिस ने इन दोनों को स्क्रैप कारोबारियों से रंगदारी वसूल करने और अखिलेश सिंह को देने के मामले में गिरफ्तार किया था। इसके अलावा गुड़गांव से गिरफ्तारी के दौरान अखिलेश सिंह के पास मिली ऑडी व इंडेवर भी संजय पलसानिया के नाम पर रजिस्टर्ड है।

बुधवार को सुनवाई के दौरान संजय पलसानिया के अधिवक्ता प्रकाश झा ने कोर्ट में पलसानिया के खिलाफ रंगदारी वसूलने का साक्ष्य प्रस्तुत करने की बात कही। लेकिन पुलिस कोई सबूत पेश नहीं कर सकी।

अधिवक्ता ने बताया- संजय पलसानिया ने डर से मजबूरीवश अखिलेश सिंह को कार दी थी। लेकिन उक्त कार का इस्तेमाल किसी आपराधिक वारदात में नहीं किया गया है। इस दलील के बाद कोर्ट ने संजय पलसानिया की जमानत को मंजूर कर लिया। संजय पलसानिया की सुनवाई के बाद बिनोद सिंह के अधिवक्ता ने भी जमानत की अर्जी दी, जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया।

मालूम हो कि 11 अक्टूबर 2017 को गुड़गांव में अखिलेश सिंह की गिरफ्तारी के दौरान पुलिस ने उसके पास से इंडेवर बरामद की थी। उक्त कार संजय पलसानिया के नाम से रजिस्टर्ड है।

हाईकोर्ट से मिल गई जमानत

संजय पलसानिया और विनोद सिंह को रंगदारी मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है। पुलिस उनके खिलाफ साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सकी। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी है। प्रकाश झा, अधिवक्ता

अखिलेश सिंह

क्राइम रिपोर्टर | जमशेदपुर

गैंगस्टर अखिलेश सिंह के करीबी कारोबारी टेल्को निवासी संजय पलसानिया और होटल सिटी इन के मालिक सह ट्रांसपोर्टर बिनोद सिंह को बुधवार को हाईकोर्ट के न्यायाधीश आनंद सेन की अदालत ने साक्ष्य के अभाव में जमानत दे दिया। संजय पलसानिया और बिनोद सिंह फिलहाल घाघीडीह जेल में हैं।

पुलिस ने इन दोनों को स्क्रैप कारोबारियों से रंगदारी वसूल करने और अखिलेश सिंह को देने के मामले में गिरफ्तार किया था। इसके अलावा गुड़गांव से गिरफ्तारी के दौरान अखिलेश सिंह के पास मिली ऑडी व इंडेवर भी संजय पलसानिया के नाम पर रजिस्टर्ड है।

बुधवार को सुनवाई के दौरान संजय पलसानिया के अधिवक्ता प्रकाश झा ने कोर्ट में पलसानिया के खिलाफ रंगदारी वसूलने का साक्ष्य प्रस्तुत करने की बात कही। लेकिन पुलिस कोई सबूत पेश नहीं कर सकी।

अधिवक्ता ने बताया- संजय पलसानिया ने डर से मजबूरीवश अखिलेश सिंह को कार दी थी। लेकिन उक्त कार का इस्तेमाल किसी आपराधिक वारदात में नहीं किया गया है। इस दलील के बाद कोर्ट ने संजय पलसानिया की जमानत को मंजूर कर लिया। संजय पलसानिया की सुनवाई के बाद बिनोद सिंह के अधिवक्ता ने भी जमानत की अर्जी दी, जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया।

मालूम हो कि 11 अक्टूबर 2017 को गुड़गांव में अखिलेश सिंह की गिरफ्तारी के दौरान पुलिस ने उसके पास से इंडेवर बरामद की थी। उक्त कार संजय पलसानिया के नाम से रजिस्टर्ड है।

हाईकोर्ट से मिल गई जमानत

संजय पलसानिया और विनोद सिंह को रंगदारी मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है। पुलिस उनके खिलाफ साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सकी। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी है। प्रकाश झा, अधिवक्ता

संजय पलसानिया

बिनोद सिंह

क्राइम रिपोर्टर | जमशेदपुर

गैंगस्टर अखिलेश सिंह के करीबी कारोबारी टेल्को निवासी संजय पलसानिया और होटल सिटी इन के मालिक सह ट्रांसपोर्टर बिनोद सिंह को बुधवार को हाईकोर्ट के न्यायाधीश आनंद सेन की अदालत ने साक्ष्य के अभाव में जमानत दे दिया। संजय पलसानिया और बिनोद सिंह फिलहाल घाघीडीह जेल में हैं।

पुलिस ने इन दोनों को स्क्रैप कारोबारियों से रंगदारी वसूल करने और अखिलेश सिंह को देने के मामले में गिरफ्तार किया था। इसके अलावा गुड़गांव से गिरफ्तारी के दौरान अखिलेश सिंह के पास मिली ऑडी व इंडेवर भी संजय पलसानिया के नाम पर रजिस्टर्ड है।

बुधवार को सुनवाई के दौरान संजय पलसानिया के अधिवक्ता प्रकाश झा ने कोर्ट में पलसानिया के खिलाफ रंगदारी वसूलने का साक्ष्य प्रस्तुत करने की बात कही। लेकिन पुलिस कोई सबूत पेश नहीं कर सकी।

अधिवक्ता ने बताया- संजय पलसानिया ने डर से मजबूरीवश अखिलेश सिंह को कार दी थी। लेकिन उक्त कार का इस्तेमाल किसी आपराधिक वारदात में नहीं किया गया है। इस दलील के बाद कोर्ट ने संजय पलसानिया की जमानत को मंजूर कर लिया। संजय पलसानिया की सुनवाई के बाद बिनोद सिंह के अधिवक्ता ने भी जमानत की अर्जी दी, जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया।

मालूम हो कि 11 अक्टूबर 2017 को गुड़गांव में अखिलेश सिंह की गिरफ्तारी के दौरान पुलिस ने उसके पास से इंडेवर बरामद की थी। उक्त कार संजय पलसानिया के नाम से रजिस्टर्ड है।

हाईकोर्ट से मिल गई जमानत

संजय पलसानिया और विनोद सिंह को रंगदारी मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है। पुलिस उनके खिलाफ साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सकी। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी है। प्रकाश झा, अधिवक्ता

इधर, अमित राय हत्याकांड में कन्हैया सिंह सुधीर दुबे सहित पांच आरोपियों को सजा

सोनारी के अमित राय हत्याकांड में प्रयुक्त हथियार मामले में सुनवाई कर रहे जिला जज -5 सुभाष की अदालत ने बुधवार को आरोपी अजीत मंडल (छायानगर), मोहन यादव (सोनारी आदर्शनगर ग्वाला बस्ती), संजय कुमार सोना (बिरसानगर), संजीव गोराई, सुधीर दुबे और कन्हैया सिंह को दोषी करार देते हुए तीन साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई। कोर्ट ने सभी आरोपियों पर एक-एक हजार रुपए का अर्थदंड लगाया। मालूम हो कि 6 दिसंबर 2016 को देर शाम अपराधियों ने सोनारी शिवगंगा अपार्टमेंट के पास अमित राय की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त पिस्तौल को मोहन यादव, अजीत मंडल, संजय सोना और राजीव गोराई की निशानदेही पर बरामद किया था।

अमित राय

सोनारी के अमित राय हत्याकांड में प्रयुक्त हथियार मामले में सुनवाई कर रहे जिला जज -5 सुभाष की अदालत ने बुधवार को आरोपी अजीत मंडल (छायानगर), मोहन यादव (सोनारी आदर्शनगर ग्वाला बस्ती), संजय कुमार सोना (बिरसानगर), संजीव गोराई, सुधीर दुबे और कन्हैया सिंह को दोषी करार देते हुए तीन साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई। कोर्ट ने सभी आरोपियों पर एक-एक हजार रुपए का अर्थदंड लगाया। मालूम हो कि 6 दिसंबर 2016 को देर शाम अपराधियों ने सोनारी शिवगंगा अपार्टमेंट के पास अमित राय की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त पिस्तौल को मोहन यादव, अजीत मंडल, संजय सोना और राजीव गोराई की निशानदेही पर बरामद किया था।

कन्हैया सिंह

सुधीर दुबे

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jamshedpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: साक्ष्य नहीं दे सकी पुलिस, अखिलेश के करीबी संजय पलसानिया व बिनोद सिंह को जमानत
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Jamshedpur

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×