• Hindi News
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • बागबेड़ा थाने से 300 मीटर दूर चल रहीं शराब भटि्ठयां, हर महीने चार लाख की उगाही
--Advertisement--

बागबेड़ा थाने से 300 मीटर दूर चल रहीं शराब भटि्ठयां, हर महीने चार लाख की उगाही

चरणजीत सिंह

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 01:45 PM IST
चरणजीत सिंह
बागबेड़ा थाना क्षेत्र में अवैध शराब भट्‌ठी का कारोबार जोरों पर है। इस धंधे में संलिप्त लोग अवैध महुआ शराब चुलाई के साथ डुप्लीकेट शराब का कारोबार भी खुलेआम कर रहे हैं। डीबी स्टार की पड़ताल में पता चला कि बागबेड़ा थाना से महज 300 मीटर की दूरी पर ढेरों भटि्ठयां संचालित हो रही हैं। बागबेड़ा में तकरीबन 200 से ज्यादा शराब की भटि्ठयां चल रही हैं। प्रति भट्‌ठी दो हजार रुपए की वसूली होती है। मसलन बागबेड़ा थाना को हरेक माह चार लाख रुपए से ज्यादा की कमाई हो रही है।

जिला प्रशासन के आलाधिकारियों को भी इसकी जानकारी है, बावजूद इसके भट्‌ठी संचालकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती है। हरहरगुट्टू में तैयार हो रही डुप्लीकेट शराब को इस तरह पैक कर दुकानों में खपाया जा रहा है। उसे पकड़ पाना मुश्किल है। 300 से 400 मीटर की दूर नई बस्ती व सिद्धो-कान्हू बस्ती में खुलेआम शराब का अवैध धंधा पनप रहा है। कार्रवाई नहीं होने से अवैध शराब कारोबारियों के हौसले बुलंद हैं। ऐसे में समझा जा सकता है कि अवैध कमाई का हिस्सा नीचे से लेकर ऊपर तक बैठे अधिकारी और कर्मचारियों को पहुंच रहा है। अवैध शराब भट्टी संचालित होने के कारण गरीबों की कमाई की मोटी रकम शराब में चला जाता है।

DB Star EXPOSE

चार लाख की अवैध कमाई

बागबेड़ा थाना क्षेत्र में केवल शराब के अवैध करोबार से सालाना 50 लाख की उगाही होती है। इस इलाके में छोटी-बड़ी दाे हजार से ज्यादा भटि्ठयां संचालित होती है। एक भट्‌ठी से कम से कम दो हजार रुपए की कमाई होती है। बड़े कारोबारी एक से डेढ़ लाख देते हैं।

बागबेड़ा थाना क्षेत्र की करीब दो दर्जन बस्तियों में संचालित हो रही शराब की अवैध भट्ठियां

लाल घेरे में पंजाब गवर्नमेंट का शराब।

ये हैं प्रमुख कारोबारी

छोटू साव, शंभु मल्लिक, कल्लू मल्लिक, संजीत साव, डैनी, टाइगर, भोली, मोहन यादव, मोहन साव, विष्णु, पुरलो।

सिद्धो-कान्हू बस्ती: गली में सज रही शराब की महफिल।

इन बस्तियों में हैं अड्डे

बाबा कूटी, नई बस्ती, बजरंग टेकरी, गांधी नगर, रामनगर, आनंद नगर, ट्राफिक कालोनी, पोस्तो नगर, सीपी टोला, प्रधान टोला, रानीडीह, मतलाडीह, सोमाय झोपड़ी, हरहरगुट्टू बड़ा तालाब, जगन्नाथपुर, टीआरएफ कॉलोनी, स्टेशन चौक टीओपी।

क्या है प्रावधान : आबकारी विभाग के निर्देशानुसार दूसरे राज्य के शराब की बिक्री करना गैर कानूनी है। इससे राज्य सरकार को राजस्व का नुकसान होता है। पकड़े जाने पर कारावास और जुर्माने का प्रावधान है। इस पर लगाम लगाने के लिए उत्पाद विभाग व स्थानीय थाने को जरूरी निर्देश भी दिए गए हैं।

 बागबेड़ा थाना क्षेत्र में शबार कारोबार की मुझे कोई जानकारी नहीं है। मामला प्रकाश में आने पर शराब कारोबारियों पर लगाम लगाई जाएगी। इस धंधे में संलिप्त पुलिस अफसरों पर भी गाज गिरेगी।  प्रभात कुमार, सिटी एसपी

 दूसरे राज्य की शराब िबक्री पर लगाम लगाने के लिए कार्रवाई की जाती है। कई लोगों को जेल भी भेजा गया है।बागबेड़ा इलाके में भी स्थानीय थाना के सहयोग से अभियान चलाया जाता है।  मनोज कुमार, सहायक उत्पाद आयुक्त, जमशेदपुर

कमाई के लिए पंजाब से मंगवाते हैं शराब

झारखंड की तुलना में पंजाब का शराब सस्ता होता है। इसलिए शराब कारोबारी दूसरे राज्य से शराब मंगवाते हैं। शराब की कालाबाजारी के साथ झारखंड सरकार को राजस्व का भी नुकसान हो रहा है। कारोबारी भी मालामाल हो रहे हैं। इसकी जानकारी पुलिस-प्रशासन को है, लेकिन काली कमाई के चक्कर में वे कार्रवाई करने की बजाय चुप रहते हैं।

शराब के खेल में हो चुकी है हत्या

शराब के गोरखधंधे में कई बड़े माफिया सक्रिय हैं। इस अवैध कारोबार को लेकर अक्सर टकराव की स्थिति रहती है। एक साल पहले बागबेड़ा थाना के निजी चालक पोकलो की हत्या का मामला प्रकाश में आया था। थाना की आड़ में वह कारोबारियों को धमकी देता था।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..