--Advertisement--

रांची-कोडरमा रेल लाइन बना रही कंपनी की हेवी ब्लास्टिंग सेे घरों में पड़ी दरार

सरकारी नियमों की अनदेखी कर मनमानी तरीके से हेवी बलास्टिंग कर रहे हैं। इससे हमारे घरों में दरारें पड़ गई हैं

Danik Bhaskar | Nov 23, 2017, 07:07 AM IST

बरकाकाना. कोडरमा-रांचीभाया बरकाकाना रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी बीकेबी कंपनी के ठेकेदारों की ब्लास्टिंग से आदिवासी बहुल गांव मसमोहना में घर की दीवारों में दरार पड़ गई है। साथ कंपनी के ठेकेदारों ने निर्माण कार्य की मिट्टी और पत्थर ग्रामीणों के खेतों में गिरा दी है। जिससे करीब चार एकड़ भूमि में लगी फसल बर्बाद हो गई।

इसके विरोध में ग्रामीणों ने बुधवार को कंपनी के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने कहा कि रेल लाइन निर्माण की मिट्टी खेतों में डाल दिए जाने से हमारी फसल बर्बाद हो गई वहीं खेतों में मिट्टी भरे होने से उस पर दुबारा खेती करना मुश्किल हो रहा है। ग्रामीणोें ने ठेकेदारों से अपने फसल और खेतों की क्षति की भरपाई के लिए मुआवजे की मांग की है। ग्रामीणों ने बताया कि बीकेबी कपंनी के ठेकेदार सरकारी नियमों की अनदेखी कर मनमानी तरीके से हेवी बलास्टिंग कर रहे हैं। इससे हमारे घरों में दरारें पड़ गई हैं। हेवी ब्लास्टिंग होने से पहाड़ों से टूटकर बड़े-बड़े पत्थर घरों में गिर रहे हैं जिससे लोग दहशत के साए में जीने को विवश हैं। ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब भी इस संबंध में कंपनी के ठेकेदार से शिकायत की जाती है तो वे हमारे साथ अभद्र व्यवहार करते हैं। विरोध करने वालों में टिकेन्द्र बेदिया, भूमिनाथ बेदिया, किन्नू बेदिया, मुकेश बेदिया, बाबूलाल बेदिया, ब्रहमदेव बेदिया, कैलाश बेदिया, महाबीर बेदिया, राजू बेदिया, अनुज बेदिया, राजकुमार बेदिया, मनोज बेदिया, सूरज बेदिया, दशई बेदिया, संगीता देवी कौशल्या देवी, बिमली देवी, सोहरया देवी, बसंती देवी, देवन्ती देवी यशोदा सहित अनेक ग्रामीण मौजूद थे।

अधिकारियों को घटना की जानकारी देंगे : सुपरवाइजर


बीकेबीकपंनी के सुपरवाइजर सत्येंद्र कुमार से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की जो कुछ भी शिकायतें हैं उनका आकलन कर कपंनी के वरीय पदाधिकारी को सूचित कर दिया जाएगा। ताकि ग्रामीणों का जो कुछ भी नुकसान हुआ है उसकी भरपाई की जा सके।