छह युवकों ने इंजीनियरिंग की छात्रा का अपहरण किया, दो दिनों तक किया सामूहिक दुष्कर्म

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • खुद को भाई का दोस्त बताकर जीता भरोसा, फिर घर पहुंचाने के बहाने लोटापहाड़ स्टेशन पर उतारा 

चक्रधरपुर/गोइलकेरा. राउरकेला की इंजीनियरिंग की छात्रा को युवक ने भाई का दोस्त बनकर फंसाया। झारसुगुड़ा की ट्रेन दूसरे रूट से जाएगी बता दूसरी ट्रेन से साथ चलने का झांसा दिया, फिर लोटापहाड़ रेलवे स्टेशन पर उतार कर छह युवकों ने दो दिनों तक बुढ़ीगोड़ा गांव में दुष्कर्म किया। फिर ट्रेन में बैठाकर घर भेज दिया। छात्रा ने दर्ज बयान में बताया कि 31 दिसंबर की शाम झारसुगुड़ा जाने के लिए ट्रेन पकड़ने राउरकेला स्टेशन पहुंची थी। ट्रेन की प्रतीक्षा के दौरान एक अज्ञात युवक ने बातचीत शुरू की। युवक ओड़िया भाषा में बात कर रहा था। युवक ने एक लड़के का नाम लेकर कहा कि तुम उसकी बहन हो न। उसके द्वारा उसकेे भाई का नाम लेने पर युवती ने हैरानी जताई। युवक ने कहा कि वह उसके भाई का दोस्त है। झारसुगुड़ा जा रहा है। उसने कहा कि ट्रेन आज दूसरे रूट से जाएगी।, इसलिए वह उसके साथ चले। उस पर विश्वास किया और साथ हो ली। 

1) पैसेंजर ट्रेन से लोटापहाड़ स्टेशन पहुंचा, फिर कार से आए 6 युवकों ने किया अपहरण

छात्रा के बयान के मुताबिक, पैसेंजर ट्रेन से युवक उसे लेकर लोटापहाड़ा स्टेशन पर उतरा। उसने युवती से फिर झूठ बोलते हुए कहा कि यहां से वे लोग बस से झारसुगुड़ा जाएंगे। कुछ देर बाद एक कार पर सवार कुछ युवक स्टेशन के बाहर पहुंचे। युवक ने कहा कि ये मेरे दोस्त हैं। सभी कार से ही झारसुगुड़ा जा रहे हैं, इसी से चलते हैं। कुछ दूर चलने के बाद युवती को एक घर में ले जाया गया, जहां 6 युवकों ने कई बार दुष्कर्म किया। फिर दो जनवरी की सुबह युवती को लोटापहाड़ा स्टेशन से पैसेंजर ट्रेन में बैठाकर वापस राउरकेला की ओर भेज दिया। 

चक्रधरपुर थाना में जब पीड़िता पांच जनवरी को पहुंची थी, उस समय उसके भाई भी केस को लेकर परेशान थे। उसके भाइयों और दोस्तों के अनुसार जो युवक राउरकेला स्टेशन से लेकर लोटापहाड़ तक पहुंचा, वह युवक काले रंग का था। वह ओड़िया भाषा बोल रहा था। बताया गया कि युवक का बुढ़ीगोड़ा गांव के पास ही घर है, जहां रेप किया गया। चूंकि लोटापहाड़ स्टेशन के करीब ये इलाका है। 

छात्रा ने जब परिजनों को घटना की जानकारी दी तब उसके भाई व अन्य दोस्त लोकेशन का पता कर चक्रधरपुर थाना पहुंचे। यहां चक्रधरपुर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराकर आरोपी को खोजने की गुहार लगाई। लेकिन चक्रधरपुर में केस को गंभीरता से नहीं लिया गया। इसके बाद पीड़िता को राउरकेला में केस दर्ज कराना पड़ा। बता दें कि 5 जनवरी को पीड़िता अपने भाइयों के साथ चक्रधरपुर थाना आई थी। 

चक्रधरपुर थानेदार अंजनी कुमार ने बताया कि युवती 5 जनवरी को चक्रधरपुर थाना पहुंची थी। इस दौरान उससे राउरकेला में केस करने को कहा गया था। दोबारा आने पर रूट मैप के आधार पर जांच की बात कही गई थी। बताया कि कैसे किस स्टेशन पर युवती उतरी, कहां-कहां गयी, ये उसे पता नहीं था। युवती को लेकर रूट मैप कराया जाएगा। 

युवती दो दिनों तक घर नहीं पहुंची तो उसके परिजनों ने राउरकेला के सेक्टर तीन थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी। पुलिस अभी उसकी तलाश कर ही रही थी कि दो जनवरी को युवती वापस लौटी तो जानकारी दी।