शिक्षा सत्याग्रह ने कहा- जब पढ़ाई नहीं ताे फीस किस बात की लेंगे स्कूल

Jamshedpur News - पूर्वी सिंहभूम जिले को मिला 89 लाख रुपए काेराेना वायरस की वजह से 21 दिन के लॉकडाउन की वजह से बड़ी संख्या में...

Mar 27, 2020, 07:01 AM IST
पूर्वी सिंहभूम जिले को मिला 89 लाख रुपए

काेराेना वायरस की वजह से 21 दिन के लॉकडाउन की वजह से बड़ी संख्या में लाेगाें का राेजगार बंद हाे गया है। लाेगाें के पास काम नहीं हाेने की वजह से वे अार्थिक समस्या का सामना कर रहे हैं। कई एेसे हैं जिसके पास खाने तक के पैसे नहीं हैं। वहीं इस दाैरान निजी स्कूल भी बंद हैं। लेकिन जैसे-जैसे महीना बीत रहा है। अभिभावकाें काे खाने-पीने के साथ ही अपने बच्चाें के फीस भरने की चिंता भी सताने लगी है। खासकर एेसे लाेगाें काे जाे राेज कमाते अाैर अाैर खाते हैं।

इसी में कुछ पैसे बचाकर वे फीस भरते हैं। लेकिन कमाई बंद हाेने की वजह से वे एक पैसा भी नहीं बचा पा
रहे हैं। इसे देखते हुए शिक्षा सत्याग्रह संस्था ने शहर के निजी स्कूलाें के प्रबंधन से अपील की है कि वे बच्चों के अभिभावकों की समस्या काे देखते हुए एक महीने की फीस माफ करें। संस्था का कहना है कि वैसे भी स्कूल बंद है। एेसे में बंद कक्षाअाें का फीस लेना सही नहीं है। अत: स्कूल प्रबंधन काे यह घाेषणा करनी चाहिए की जितने भी दिन स्कूल बंद रहेगी वे उसका फीस नहीं लेंगे। हालांकि संस्था की इस मांग पर निजी स्कूलाें ने चुप्पी साध ली है। उनका कहना है कि जाे फीस ली जाती है उससे वे अपने कर्मचारियाें और
शिक्षकाें के वेतन का भुगतान करते हैं। अगर फीस माफ हाे जाएगी ताे इन्हें वेतन कैसे देंगे। वहीं शिक्षा सत्याग्रह का कहना है कि निजी स्कूल बच्चाें से बड़ा लाभ कमाते हैं। एेसे में उन्हें बड़ा दिल दिखाते हुए फीस माफ करनी चाहिए।

जिले के एक लाख 20 हजार विद्यार्थियों के खाते में जाएगी मध्याह्न भोजन की राशि

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सरकार की अोर से सरकारी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मध्याह्न भोजन नहीं मिल पा रहा है। लेकिन सरकार की अोर से एक महत्वपूर्ण फैसला लिया गया है, जिसमें तय किया गया कि जितने दिन भी स्कूल बंद रहेगा उतने दिन तक बच्चों को मिड डे मील (एमडीएम) दिया जाएगा। भले बच्चे स्कूल बंद होने के कारण स्कूल नहीं आएं। इसके लिए बच्चों को चावल व कुकिंग कॉस्ट की राशि प्रदान की जाएगी। पूर्वी सिंहभूम जिले में 120000 लाख विद्यार्थियों को बांटने के लिए 89 लाख रुपए दिए गए हैं। उक्त राशि विद्यार्थियों के खाते में डाल दी जाएगी। सरकार की अोर से पहली से पांचवीं तक प्रति विद्यार्थी 100 ग्राम चावल के साथ ही कुकिंग कॉस्ट के रूप में 4.48 रुपए जबकि छठी से आठवीं क्लास तक के प्रति छात्र को कुकिंग कॉस्ट के रूप में 6.71 रुपए दिए जाने का निर्णय लिया गया है। कुल 33 दिनों की राशि विद्यार्थियों को छुट्टी होने के बावजूद दी जाएगी। इसी क्रम में गुरुवार को राज्य के विद्यार्थियों को देने के लिए कुल 52 करोड़ रुपए जारी किए गए। इसमें राज्य सरकार का अंश 20.59 करोड़ रुपए जबकि केंद्र सरकार का अंश करीब 30.95 करोड़ रुपए दिए गए हैं।

सरकार से इस संबंध में अादेश जारी करने की मांग की

संस्था की अाेर से इस संबंध में सरकार से मांग की गई है कि वह निजी स्कूलाें काे अादेश जारी करे कि काेराेना वायरस से बचाव काे लेकर जितने भी दिन स्कूल बंद रहेगा। उस अवधि की फीस निजी स्कूल नहीं लेंगे। संस्था के प्रमुख अंकित अानंद ने कहा कि जब कक्षाएं नहीं चल रही हैं ताे फीस किस बात की। अभिभावकों के लिए स्कूलाें काे फीस देना बड़ी चुनाैती हाेगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना