समलेश्वरी एक्सप्रेस के गार्ड को टिकट कालाबाजारी में जेल

Jamshedpur News - आरपीएफ ने कोरापुट-हावड़ा समलेश्वरी एक्सप्रेस के आॅन ड्यूटी गार्ड को टिकट कालाबाजारी के आरोप में रविवार को जेल...

Nov 11, 2019, 06:55 AM IST
आरपीएफ ने कोरापुट-हावड़ा समलेश्वरी एक्सप्रेस के आॅन ड्यूटी गार्ड को टिकट कालाबाजारी के आरोप में रविवार को जेल भेज दिया। आरपीएफ ने गुप्त सूचना के अाधार पर आरपीएफ प्रभारी एमके साहू के नेतृत्व में शनिवार की रात गार्ड एनके श्रीवास्तव को 44 हजार रुपए और 13 तत्काल टिकट के साथ हिरासत में लिया था। आरपीएफ ने इनसे पूछताछ की है। इसके बाद मामला संदिग्ध पाए जाने पर गार्ड एनके श्रीवास्तव को जेल भेज दिया है। इनके खिलाफ स्थानीय आरपीएफ पोस्ट में रेल सेक्शन 143 के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरपीएफ के प्रभारी एमके साहू ने बताया कि एनके श्रीवास्तव ने पूछताछ में बताया कि चक्रधरपुर में एक व्यक्ति ने उन्हें ये टिकट दिए और कहा कि सांतरागाछी में आकर ले लेगा, लेकिन मामला संदिग्ध ही लग रहा है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि टिकट कालाबाजारी रैकेट में गार्ड कैरियर का काम कर रहे हो, एेसे में इनके खिलाफ मामला बनता है। आरपीएफ ने नियम सम्मत कार्रवाई की है। वहीं, इस मामले में जांच टीम भी काम कर रही है कि आखिर किस व्यक्ति ने इन्हें तत्काल टिकट दिए हैं। आरपीएफ की जांच में पता चला है कि सभी टिकट चक्रधरपुर, बंडामुंडा व गोइलकेरा से थे। इससे साफ है कि इन स्टेशनों से भी टिकट कालाबाजारी का खेल चल रहा है। इस मामले में आरपीएफ सीसीटीवी फुटेज निकालने की कोशिश कर रही है। ताकि पता चल सके कि आखिर किस व्यक्ति ने गार्ड एनके श्रीवास्तव को टिकट दिया था।

मवेशी का शव उठाने को लेकर विवाद : टाटानगर रेलवे यार्ड की लाइन पर शनिवार को मवेशी के शव को हटाने के लिए विवाद हुआ। मालगाड़ी की चपेट में आकर एक मवेशी कट गया, जिसे उठाने को लेकर हेल्थ विभाग और इंजीनियरिंग विभाग में फेका-फेकी होती रही। स्टेशन ड्यूटी कर्मचारियों ने हेल्थ अधिकारी और इंजीनियरिंग विभाग दोनों को सूचना दी, पर शव नहीं हटा। अंतत: स्टेशन निदेशक की पहल पर मवेशी के शव को यार्ड की लाइन से उठाया गया।

चक्रधरपुर, बंडामुंडा और गोइलकेरा के थे टिकट

आरपीएफ की गिरफ्त में आरोपित गार्ड।

आरएमएस बोगी में बैठे यात्रियों से वसूला जुर्माना

टाटानगर आ रही साउथ बिहार एक्सप्रेस की आरएमएस बोगी में यात्रा कर रहे लोगों से रविवार को जुर्माना वसूला गया। औचक निरीक्षण कर विजिलेंस अधिकारियों की रिपोर्ट पर चितरंजन स्टेशन पर शुक्रवार को जांच अभियान चला था। इस दाैरान प्रति यात्री 710 रुपए जुर्माना लिया गया। वहीं, आरएमएस कर्मचारियों को भी यात्रियों को नहीं बैठाने की चेतावनी दी गई।

टाटानगर-बादामपहाड़ रेलखंड का दौरा कल

रेलवे मेंस कांग्रेस के सदस्य मंगलवार को टाटा-बादामपहाड़ रेलखंड का दौरा करेंगे। रेलवे मेंस कांग्रेस के मंडल संयोजक शशि मिश्रा के नेतृत्व में सदस्य रायरंगपुर तक जाएंगे। वहीं, कर्मचारी समस्याओं से रूबरू होंगे। शशि मिश्रा ने बताया कि शिक्षा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में कर्मचारियों की कई समस्याएं हैं, जिनकी जानकारी लेकर रेलवे पीएनएम में रखा जाएगा।

सिटी रिपोर्टर | जमशेदपुर

आरपीएफ ने कोरापुट-हावड़ा समलेश्वरी एक्सप्रेस के आॅन ड्यूटी गार्ड को टिकट कालाबाजारी के आरोप में रविवार को जेल भेज दिया। आरपीएफ ने गुप्त सूचना के अाधार पर आरपीएफ प्रभारी एमके साहू के नेतृत्व में शनिवार की रात गार्ड एनके श्रीवास्तव को 44 हजार रुपए और 13 तत्काल टिकट के साथ हिरासत में लिया था। आरपीएफ ने इनसे पूछताछ की है। इसके बाद मामला संदिग्ध पाए जाने पर गार्ड एनके श्रीवास्तव को जेल भेज दिया है। इनके खिलाफ स्थानीय आरपीएफ पोस्ट में रेल सेक्शन 143 के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरपीएफ के प्रभारी एमके साहू ने बताया कि एनके श्रीवास्तव ने पूछताछ में बताया कि चक्रधरपुर में एक व्यक्ति ने उन्हें ये टिकट दिए और कहा कि सांतरागाछी में आकर ले लेगा, लेकिन मामला संदिग्ध ही लग रहा है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि टिकट कालाबाजारी रैकेट में गार्ड कैरियर का काम कर रहे हो, एेसे में इनके खिलाफ मामला बनता है। आरपीएफ ने नियम सम्मत कार्रवाई की है। वहीं, इस मामले में जांच टीम भी काम कर रही है कि आखिर किस व्यक्ति ने इन्हें तत्काल टिकट दिए हैं। आरपीएफ की जांच में पता चला है कि सभी टिकट चक्रधरपुर, बंडामुंडा व गोइलकेरा से थे। इससे साफ है कि इन स्टेशनों से भी टिकट कालाबाजारी का खेल चल रहा है। इस मामले में आरपीएफ सीसीटीवी फुटेज निकालने की कोशिश कर रही है। ताकि पता चल सके कि आखिर किस व्यक्ति ने गार्ड एनके श्रीवास्तव को टिकट दिया था।

मवेशी का शव उठाने को लेकर विवाद : टाटानगर रेलवे यार्ड की लाइन पर शनिवार को मवेशी के शव को हटाने के लिए विवाद हुआ। मालगाड़ी की चपेट में आकर एक मवेशी कट गया, जिसे उठाने को लेकर हेल्थ विभाग और इंजीनियरिंग विभाग में फेका-फेकी होती रही। स्टेशन ड्यूटी कर्मचारियों ने हेल्थ अधिकारी और इंजीनियरिंग विभाग दोनों को सूचना दी, पर शव नहीं हटा। अंतत: स्टेशन निदेशक की पहल पर मवेशी के शव को यार्ड की लाइन से उठाया गया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना