विज्ञापन

चुनाव ड्यूटी / छुट्टी के लिए कर्मचारी ने लिखा- 12 मार्च को ही शादी हुई, बीवी को अकेला छोड़ना उचित नहीं

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 12:34 PM IST


jamshedpur news loksabha chunav 2019 govt employees applying for leave citing serious diseases
X
jamshedpur news loksabha chunav 2019 govt employees applying for leave citing serious diseases
  • comment

  • ड्यूटी लगने से पहले ही सरकारी दफ्तरों में ड्यूटी न लगाने के आवेदन पहुंचने लगे
  • छह दिन में 19 अर्जियां, अधिकांश कर्मचारियों ने दिया गंभीर बीमारी का हवाला

जमशेदपुर. लोकसभा चुनाव में ड्यूटी लगने से पहले ही सरकारी दफ्तरों में ड्यूटी न लगाने के आवेदन पहुंचने लगे हैं। उपायुक्त कार्यालय की स्थापना शाखा में 19 कर्मचारियों ने चुनावी ड्यूटी से मुक्त रखने के लिए आवेदन किया। जिन कर्मचारियों ने आवेदन दिया, उनमें से 18 ऐसे हैं जिन्होंने गंभीर बीमारी से ग्रस्त होने को कारण बताया। बीमारी भी ऐसी कि किसी को हार्ट को प्रॉब्लम है तो किसी की किडनी में परेशानी है। सरकारी दफ्तर के एक कर्मचारी ने आग्रह किया है कि उनकी शादी इसी साल 12 मार्च को हुई है। अभी बीवी को अकेले छोड़ना उचित नहीं, इसलिए उन्हें चुनावी ड्यूटी से मुक्त कर दिया जाए।

विभिन्न विभागों से मंगवाई गई कर्मचारियों की सूची

  1. स्थापना कोषांग ने विभिन्न विभागों से कर्मचारियों की सूची मंगाई है। सूची में शामिल कर्मचारियों के नाम और उनकी सहमति कंप्यूटर में फीड की जा रही है। इसके आधार पर भारतीय निर्वाचन आयोग के साफ्टवेयर की सहायता से मतदानकर्मियों को टीम बनाई जाएगी। इसके बाद तय होगा कि कौन सी टीम किस मतदान केंद्र पर जाएगी। 

  2. जिले में 1885 मतदान केंद्र

    विधानसभा केंद्र 
    बहरागोड़ा 264 
    घाटशिला 291 
    पोटका 326 
    जुगसलाई 381 
    जमशेदपुर पूर्वी 293
    जमशेदपुर पश्चिम 330 

     

  3. टीम जांच करेगी, वाजिब कारण होने पर ही कार्य मुक्त होंगे कर्मी

    कर्मचारियों की सूची बनाकर उन्हें प्रशिक्षण के लिए नोटिस जारी किया जाएगा। इसके बाद कर्मचारियों के आवेदन पर विचार होगा। बीमारी के आधार पर कार्यों से मुक्त होने का आग्रह करने वाले आवेदकों की जिलास्तर पर बनी टीम जांच करेगी। कारण वाजिब होगा, तभी उन्हें चुनाव कार्य से मुक्त किया जा सकता है। 

  4. जिले में 8300 मतदान कर्मियों की जरूरत

    जिले में 1885 मतदान केंद्र हैं। एक मतदान केंद्र पर चार मतदानकर्मी तैनात किए जाएंगे। इस तरह 8300 मतदान कर्मियों की जरूरत है। इनमें से 10% मतदान कर्मी रिजर्व रखे जाते हैं। कर्मचारियों की कमी के कारण इस बार पारा टीचर्स को चुनाव कार्य में लगाया जा रहा है। ऐसी स्थिति में कर्मचारियों को राहत मिलने के आसार नहीं है।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन