वर्ल्ड ब्लड डोनर्स डे / टाटा स्टील के रिटायर इंजीनियर शहर में सबसे ज्यादा रक्तदान करने वालों में शामिल

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 12:03 PM IST



पत्नी सुशीला त्रिवेदी के साथ एसपी त्रिवेदी। पत्नी सुशीला त्रिवेदी के साथ एसपी त्रिवेदी।
X
पत्नी सुशीला त्रिवेदी के साथ एसपी त्रिवेदी।पत्नी सुशीला त्रिवेदी के साथ एसपी त्रिवेदी।

  • दूसरे विश्वयुद्ध में पिता ने सैनिकों को बचाने के लिए खून दिया था, उनसे प्रेिरत होकर 132 बार कर चुके हैं रक्तदान 

जमशेदपुर. साकची राजेंद्र नगर निवासी टाटा स्टील से रिटायर्ड इंजीनियर एसपी त्रिवेदी ने 132 बार रक्तदान किया है। त्रिवेदी शहर में सबसे ज्यादा रक्तदान करनेवालों में शुमार हैं। त्रिवेदी बताते हैं कि दूसरे विश्वयुद्ध में उनके पिता ने सैनिकों को बचाने के लिए रक्तदान किया था। उनसे प्रेरित होकर वे अबतक 132 बार रक्तदान कर चुके हैं।

 

1942 में पिता ने किया था रक्तदान: त्रिवेदी
एसपी त्रिवेदी ने बताया कि मेरे पिता सुदामा त्रिपाठी शहर के उन पांच लोगों में शुमार थे, जिन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध में घायल भारतीय सैनिकों को बचाने के िलए 1942 में रक्तदान किया था। पिता टाटा स्टील में चीफ स्टोर कीपर थे। घर में पिता के रक्तदान करने की कहानी सुनकर मन में रक्तदान की प्रेरणा जगी। पहली बार 19 जुलाई 1968 को रक्तदान किया था। उस समय जमशेदपुर ब्लड बैंक साकची के आई हाॅस्पिटल में चलता था, इसका अपना भवन नहीं बना था। 1990 में जब 100वीं बार रक्तदान किया, तो एेसा करने वाले पूर्वी भारत के दूसरे रक्तदाता बने। 2003 में अंतिम बार रक्तदान किया। 

 

एमजीएम ब्लड बैंक के पहले डोनर हैं एसपी 
2003 में जब एमजीएम अस्पताल में ब्लड बैंक की स्थापना हुई थी, तो एसपी त्रिवेदी यहां रक्तदान करने वाले पहले रक्तदाता थे। यह उनका अंतिम रक्तदान था। आज भी एमजीएम अस्पताल में उनकी तस्वीर लगी है। 

 

त्रिवेदी की पत्नी ने 12 बार किया है रक्तदान 
एसपी त्रिवेदी की पत्नी सुशीला त्रिवेदी ने भी 12 बार रक्तदान किया है। इन्होंने परिजनों, दोस्तों व सहयोगियों को रक्तदान के लिए काफी प्रोत्साहित किया। लोगों को रक्तदान करने की मुहिम से जोड़ा। 

COMMENT