चुनावी पलड़ा! / कोल्हान में 5 सीटों पर भाजपा-झामुमो की डगर कठिन बनाएगी आजसू

Jharkhand assembly election 2019 AJSU candidates in five of 14 seats of Kolhan
X
Jharkhand assembly election 2019 AJSU candidates in five of 14 seats of Kolhan

  • पहली बार घाटशिला, पोटका, ईचागढ़, चक्रधरपुर से आजसू ने खेला है दांव 
  • सीटों पर समीकरण... कहीं त्रिकोणीय मुकाबला तो कहीं चार-चार ठोंक रहे ताल

दैनिक भास्कर

Nov 27, 2019, 11:16 AM IST

जमशेदपुर. कोल्हान की 14 में से पांच सीटों पर आजसू ने अपने प्रत्याशी उतारे हैं। अपनी परंपरागत सीट जुगसलाई के साथ ही पहली बार घाटशिला, पोटका, ईचागढ़ और चक्रधरपुर से भी आजसू ने दांव खेला है। जुगसलाई से मंत्री रामचंद्र सहिस, पोटका से बुलुरानी सिंह, ईचागढ़ से हरेलाल महतो, चक्रधरपुर से रामलाल मुंडा और घाटशिला से कांग्रेस के बागी व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचू भाजपा-जेएमएम का गुणा-भाग खराब कर सकते हैं। 

चक्रधरपुर से रामलाल मुंडा को लेेकर ही भाजपा और आजसू के बीच विवाद की शुरुआत हुई थी। इसके बाद आजसू ने भाजपा से दूरी बना ली और 2014 में पांच सीट पर जीतने वाली पार्टी अब तक प्रदेश की तीन दर्जन सीटों पर अपना प्रत्याशी मैदान में उतार चुकी है। काेल्हान की पांच में से दो सीटें घाटशिला और चक्रधरपुर सबसे ज्यादा चर्चित हैं। चक्रधरपुर से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा मैदान में हैं। जबकि घाटशिला से रामदास सोरेन अाैर प्रदीप बलमुचू की प्रतिष्ठा दांव पर है।

जुगसलाई 
त्रिकोणीय संघर्ष, सहिस को हो सकता है नुकसान
 
यहां आजसू, झामुमो और भाजपा में त्रिकोणीय संघर्ष है। पहली बार भाजपा ने यहां से मुचीराम बाउरी को टिकट दिया है। मुचीराम भाजपा किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष हैं। यहां भाजपा प्रत्याशी आजसू के वोट में सेंधमारी करेंगे। पूर्व मंत्री दुलाल भुइयां को 2009 में हराकर पहली बार रामचंद्र सहिस विधायक बने थे। 2014 में झामुमो के मंगल कालिंदी को 25 हजार वोटों से हराया। झामुमो से मंगल कालिंदी मैदान में हैं। 

चक्रधरपुर
चार कोण में लक्ष्मण की प्रतिष्ठा दांव पर लगी 

यहां पर चतुष्कोणीय मुकाबला है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा की प्रतिष्ठा दांव पर है। क्योंकि 2019 में लोकसभा चुनाव हार चुके हैं। 2014 में जेएमएम से शशिभूषण सामड 26 हजार वोट से भाजपा को हराकर चुनाव जीते। 
 
पोटका
मेनका के लिए बुलूरानी बनेंगी कांटा 

भाजपा, आजसू और झामुमो के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। भाजपा प्रत्याशी मेनका सरदार 2009 से लगातार विधायक हैं। इस बार भी प्रत्याशी हैं। उनकी मुश्किलें इस बार आजसू ने बढ़ा दी है। आजसू से जिप अध्यक्ष बुलूरानी सिंह को मैदान में उतारा है। 

ईचागढ़ 
महतो की लड़ाई, बीच में फिर निर्दलीय अरविंद 

यहां महतो की लड़ाई है। भाजपा विधायक साधुचरण महतो, जेएमए से सविता महतो, आजसू से हरेलाल महतो मैदान में हैं। इन तीनों के बीच निर्दलीय हैं अरविंद सिंह। 2014 में साधु को 75634 वोट मिले थे। हरेलाल भाजपा में सेंधमारी करेंगे। 

घाटशिला 
टिकट नहीं मिला तो बलमुचू आजसू से उतरे
 
यहां भाजपा, जेएमएम और आजसू में त्रिकोणीय मुकाबला होगा। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचू यहां से लगातार तीन बार विधायक रहे। इस बार गठबंधन में यह सीट जेएमएम में चली गई। इसलिए बलमुचू आजसू से मैदान में हैं। भाजपा ने सीटिंग विधायक लक्ष्मण टुडू का टिकट काटकर नया चेहरा लखन मार्डी को उतारा है। जबकि जेएमएम-कांग्रेस के संयुक्त प्रत्याशी रामदास सोरेन हैं। 2014 में भाजपा यहां पहली बार जीती थी। 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना