झारखंड / कार्डियक अरेस्ट से हुई थी तबरेज अंसारी की मौत, आरोपियों पर चलेगा गैर इरादतन हत्या का मामला



तबरेज अंसारी। (फाइल फोटो) तबरेज अंसारी। (फाइल फोटो)
X
तबरेज अंसारी। (फाइल फोटो)तबरेज अंसारी। (फाइल फोटो)

  • तबरेज अंसारी लिंचिंग केस में झारखंड पुलिस ने 11 आरोपियों पर से हटाई हत्या की धारा
  • पिछले महीने पुलिस ने धारा 304 के तहत दाखिल की थी चार्जशीट, 17 जून की है घटना

Dainik Bhaskar

Sep 10, 2019, 12:44 PM IST

जमशेदपुर. तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उसकी मौत की वजह कार्डियक अरेस्ट बताई गई है। रिपोर्ट सामने आने के बाद पुलिस ने मामले में 11 आरोपियों से मर्डर का चार्ज हटा दिया। अब उन पर गैर इरादतन हत्या का मामला चलेगा।

 

सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस का कहना है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ये साफ हो गया है कि ये सुनियोजित मर्डर का मामला नहीं है। इस मामले में सरायकेला पुलिस ने अगस्त महीने में धारा 304 के तहत चार्जशीट दाखिल की थी। इससे पहले तबरेज की पत्नी व अन्य परिजनों की शिकायत के बाद हत्या का मामला दर्ज किया था।

 

दो अलग-अलग रिपोर्ट में हत्या की एक वजह- एसपी

सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस का कहना है कि दो अलग-अलग रिपोर्ट में हत्या की वजह एक ही है। पहली रिपोर्ट में हत्या की वजह कार्डियक अरेस्ट और सिर में फ्रैक्चर बताई गई थी। इसके बाद एक अन्य डॉक्टरों की टीम से जांच कराई गई।इसमें भी कार्डियक अरेस्ट की बात सामने आई। हमने दो कारणों से धारा 304 के तहत चार्जशीट दाखिल की थी। पहले कारण में तबरेज की मौत घटनास्थल पर नहीं हुई थी और ग्रामीणों का उसे जान से मारने का कोई इरादा नहीं था। साथ ही, मेडिकल रिपोर्ट में भी हत्या के आरोपों की पुष्टि नहीं हो पाई थी। अब फाइनल रिपोर्ट आ गई है जिसमें कहा गया है कि तबरेज की मौत की वजह कार्डियक अरेस्ट है।

 

यह है मामला?
17 जून की रात धातकीडीह गांव में चोरी के आरोप में तबरेज अंसारी को ग्रामीणों ने रातभर पीटा। 18 जून को खरसावां पुलिस गांव पहुंची और तबरेज को सदर अस्पताल में भर्ती कराया। वहां चिकित्सकों ने स्वस्थ होने का हवाला देकर तबरेज को पुलिस को सौंप दिया। फिर पुलिस ने उसे जेल भेज दिया। 22 जून को उसकी तबीयत बिगड़ी तो जेल पुलिस ने सदर अस्पताल भेज दिया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

 

सरायकेला एसडीएम की रिपोर्ट में ये बताई गई थी वजह
सरायकेला एसडीएम ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि तबरेज से मारपीट के बाद पुलिसवालों की लापरवाही और तीन डॉक्टरों ने उसका सही से एग्जामिन नहीं किया, जिस वजह से उसकी मौत हो गई। रिपोर्ट में यह बात भी कही गई थी कि तबरेज के साथ हुई मारपीट के बाद तबरेज को इलाज की जरूरत थी। लेकिन पुलिस ने उसे नजरअंदाज करते हुए उसे जेल भेज दिया। झारखंड हाईकोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता पंकज कुमार यादव के अधिवक्ता राजीव कुमार ने ये जानकारी दी थी। 

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना