• Hindi News
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • 18 को मनेगा अक्षय तृतीया, इस मुहूर्त में फेरे लेने से अटूट रहेगा विवाह बंधन
--Advertisement--

18 को मनेगा अक्षय तृतीया, इस मुहूर्त में फेरे लेने से अटूट रहेगा विवाह बंधन

Jamshedpur News - सिटी रिपोर्टर

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:05 AM IST
18 को मनेगा अक्षय तृतीया, इस मुहूर्त में फेरे लेने से अटूट रहेगा विवाह बंधन
सिटी रिपोर्टर
बैशाख शुक्ल तृतीया जिसे अक्षय तृतीया कहा जाता है इस बार 18 अप्रैल को मनाया जाएगा। ज्योतिषशास्त्र की गणना के अनुसार, लगभग 11 साल बाद अक्षय तृतीया पर 24 घंटे का सर्वार्थ सिद्धि योग का महासंयोग बन रहा है। इस दिन मांगलिक कार्य का विशेष लाभ मिलेगा। वहीं, अबूझ मुहूर्त में शादी भी होगी। हिन्दू पंचांग के बैशाख माह की शुक्ल पक्ष तृतीया को परशुराम जयंती मनाई जाती है, इसलिए अक्षय तृतीया व परशुराम जयंती को लेकर शहर में कई स्थानों पर समारोह भी होंगे। ज्योतिषाचार्य पंडित रमेश कुमार उपाध्याय शास्त्री ने बताया कि इस बार अक्षय तृतीया 18 अप्रैल की सुबह 4.18 बजे से शुरू होकर 19 अप्रैल की सुबह 3.04 बजे तक रहेगी। अक्षय तृतीया पर 24 घंटे का सर्वार्थसिद्धि योग का महासंयोग बन रहा है। इसमें दिनभर खरीदारी या कोई भी शुभकार्य किए जा सकते हैं।

अक्षय तृतीया 18 अप्रैल की सुबह 4.18 बजे से शुरू होकर 19 अप्रैल की सुबह 3.04 बजे तक रहेगी

यह है सर्वार्थ सिद्धि योग

सर्वार्थ सिद्धि योग किसी शुभ कार्य को करने का शुभ मुहूर्त होता है। इस मुहूर्त में शुक्र अस्त, पंचक, भद्रा आदि पर विचार करने की जरूरत नहीं होती है।

शुभ कार्य शुरू करें : पंडित संतोष त्रिपाठी ने बताया इस महापर्व को कोई भी शुभ कार्य प्रारंभ कर सकते हैं। वाहन खरीद सकते हैं। विवाह इत्यादि और कोई भी शुभ मांगलिक कार्य इत्यादि कर सकते हैं। इस दिन छाते, ताड़ का पंखा और मिट्टी का पटका की दान अवश्य करें। जगह-जगह लोगों को जल पिलाने की व्यवस्था करें। इस दिन दान का बहुत महत्व है। आप मंदिर में जल का पात्र और पूजा की थाल, घंटी इत्यादि का दान करें।

अबूझ मुहूर्त में होगा विवाह

अक्षय तृतीया पर दो स्थायी लग्न सिंह और वृश्चिक मिल रहे हैं। इस दौरान सोना, वाहन, मकान आदि खरीदने और पूजा कर्म का विशेष लाभ मिलेगा। इस दिन मुंडन आदि संस्कारों का विशेष लाभ मिलेगा।

अक्षय तृतीया पर होता है पुतरा-पुतरी विवाह

छत्तीसगढ़ी समाज के वरिष्ठ गंगा प्रसाद ने बताया कि छत्तीसगढ में प्राचीन काल से अक्षय तृतीया के दिन मिट्टी के पुतरा-पुतरी का विवाह कराने की परंपरा है। पुतरा-पुतरी यानी पुतला-पुतली के विवाह की परंपरा निभाते थे। लेकिन अब धीरे-धीरे इस पर विराम लग गया है। छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि में रचे-बसे पुतरा-पुतरी के विवाह का विशेष महत्व है। लेकिन बदलते समय और दौर के हिसाब से अब ये आधुनिकता की परिभाषा में गुड्डे-गुडिय़ों की शादी के नाम से मशहूर हो गया है।

मई अौर जून महीने में विवाह के सबसे ज्यादा मुहूर्त

एक महीने से चल रहा मलमास 14 अप्रैल से खत्म हो गया। विवाह के मुहूर्त 18 अप्रैल से शुरू होंगे, जो 11 जुलाई तक चलेंगे। 23 जुलाई से चार महीने के लिए देवशयनकाल शुरू हो जाएगा। हालांकि देवउठनी ग्यारस के बाद भी गुरु-शुक्र का तारा अस्त होने और मलमास के कारण कोई मुहूर्त नहीं है। लोगों ने शादियों के लिए बाजार से खरीदारी करनी शुरू कर दी है। 11 जुलाई तक 36 दिन मांगलिक कार्य व शादी-विवाह के लिए शुभ मुहूर्त रहेंगे। रामजानकी मंदिर के पुजारी नारायण वैष्णव ने बताया कि 18 अप्रैल से जुलाई तक की अवधि में शुभ व मांगलिक कार्यों के लिए 36 दिन शुभ मुहूर्त रहेंगे। अप्रैल में 18, 24, 25, 27, 28 व 30 अप्रैल, मई में 1 से 13 मई तक, जून में 18 से 29 जून तक व जुलाई में 5, 6, 9, 10 व 11 जुलाई को विशेष शुभ मुहूर्त रहेंगे। देवउठनी एकादशी के बाद भी विवाह के मुहूर्त नहीं, जुलाई के बाद सीधे नए साल में शादियां होंगी। 11 जुलाई को इस साल विवाह का आखिरी मुहूर्त है। इसके बाद 23 जुलाई से 19 नवंबर तक देवशयनकाल रहेगा। देवउठनी एकादशी के साथ विवाह के मुहूर्त शुरू हो जाते हैं, लेकिन 17 से 31 अक्टूबर तक शुक्र का तारा अस्त रहेगा।

23 जुलाई से सो जाएंगे देव

पंडित सुखेंद्र शर्मा कहना है कि 11 जुलाई के बाद शुभ मुहूर्त नहीं हैं। 23 जुलाई को देवशयनी एकादशी के साथ देव सो जाएंगे। ज्योतिष पक्ष के हिसाब से इस अवधि में शुभ-मांगलिक कार्य वर्जित रहते हैं। मंदिरों में धार्मिक कार्यक्रम जरूर होंगे।

गुड़ियों का सजा बाजार

अक्षय तृतीया 18 अप्रैल को है। इसे देखते हुए मिट्‌टी से बने गुड्डे गुड़ियों के विवाह के लिए सबसे अधिक प्रचलित है। बच्चे खेल के रूप में इन दिन गुड्‌डे गुड़ियों का विवाह करते हैं जिसके लिए बाजार में गुड्‌डे गुड़ियों का बाजार भी सज चुका है।

X
18 को मनेगा अक्षय तृतीया, इस मुहूर्त में फेरे लेने से अटूट रहेगा विवाह बंधन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..