• Home
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • चेशायर होम के 20 स्पेशल बच्चों के साथ खेलकूद में हिस्सा लिया, बांटा दु:ख दर्द
--Advertisement--

चेशायर होम के 20 स्पेशल बच्चों के साथ खेलकूद में हिस्सा लिया, बांटा दु:ख दर्द

स्पोर्ट्स रिपोर्टर

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:05 AM IST
स्पोर्ट्स रिपोर्टर
एग्रिको समर कैंप में बच्चों को फन के जरिए खेल की सीख दी जाती है। बच्चे स्कूल बैग के बोझ से मुक्त होकर सुबह ग्राउंड पहुंचते हैं। इसके बाद अलग अलग खेलों में उतरते हैं। कोई फुटबॉल तो कोई क्रिकेट या एथलेटिक्स में दौड़ लगाता है, लेकिन इन सबके पीछे फन का खास ख्याल रखा जाता है। बच्चे फन के जरिए अपना मनोरंजन भी करते हैं।

साथ ही खेलों की जानकारी भी हासिल करते हैं। यहां पर 317 बच्चे कैंप में हैं। गुरुवार का दिन कैंप के लिए खास रहा । यहां पर चेशायर होम के स्पेशल बच्चों को बुलाया गया। उनके साथ समर कैंप के बच्चों ने खेलों में हिस्सा लिया। चेशायर होम के 20 बच्चों ने यहां पर समर कैंप के बच्चों के साथ खेलकूद में हिस्सा लेकर इंज्वाय किया। बच्चों के बीच मिट्‌टी से दीपक और गणेश भगवान की मूर्ति बनाकर बच्चोें ने क्रिएटिविटी का परिचय दिया। इस तरह कार्यक्रम में हिस्सा लेकर बच्चों ने स्पेशल बच्चों का दु:ख दर्द भी बांटा। इसके बाद आयोजकों ने स्पेशल बच्चों को पुरस्कृत किया। यहां पर फुटबॉल क्रिकेट, एथलेटिक्स, वालीबॉल, बैडमिंटन, मुक्केबाजी खेल का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पूर्व खिलाड़ी कोच की भूमिका में हैं। मकसद बच्चों में खेलों के प्रति दिलचस्पी पैदा करना है।

समर कैंप में बच्चों को स्ट्रेस से दूर रखना है उद्देश्य : बेहरा

ताइक्वांडो में फाइट ट्रेनिंग, कैंप का समापन आज

झारखंड मार्शल आर्ट द्वारा आयोजित समर कैंप के नौवें दिन ताइक्वांडो खिलाड़ियों को फाइट ट्रेनिंग दी गई। कैंप में बंगाल के दुर्गापुर से आए प्रथम डॉन ब्लैक बेल्ट मास्टर शक्ति नाथ मांगर, द्वितीय डॉन ब्लेक बेल्ट मास्टर प्रेम राज सिंह ने फाइट की ट्रेनिंग दी। जमशेदपुर में पहली बार बंगाल से आए ट्रेनर ने फाइट की तकनीक, किकिंग तकनीक और सेल्फ डिफेंस की जानकारी दी। विशेष रुप से बच्चों और लड़कियों को ट्रेनिंग दी गई। पिछले दस दिनों से चल रहे समर कैंप में बच्चों को ताइक्वांडो के माध्यम से सेहत को बनाने और सेल्फ डिफेंस के बारे में जानकारियां दी गई। बंगाल से आए कोच ने कहा कि जमशेदपुर में समर कैंप के माध्यम से मार्शल आर्ट की जानकारी देने का कार्यक्रम सही है। समर कैंप के मुख्य कोच सुनील कुमार प्रसाद ने बताया कि मार्शल आर्ट से बच्चों में आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। कैंप में ट्रेनर शिल्पी दास, श्रीकांत बास्के, विरु कुमार, आदर्श कुमार, अनुराधा दास ने भी बच्चों को ट्रेनिंग दी। शुक्रवार को संध्या छह बजे टेल्को रिक्रिएशन क्लब में कैंप का समापन होगा।

कैंप के आयोजक जमशेदपुर हेल्थ अवेयरनेस एसोसिएशन के महासचिव जगन्नाथ बेहरा ने कहा कि समर कैंप का उद्देश्य बच्चों में फन के माध्यम से खेलों के प्रति दिलचस्पी पैदा करना है। स्कूलों में किताबों के बोझ तले रहने वाले बच्चों को स्ट्रेस से दूर रखना है। अलग-अलग स्कूलों के बच्चो साथ लाकर नया माहौल बनाना हैं। बच्चे नए माहौल में कुछ क्रिएटिव काम करने में सफल होते हैं। पैरेंट्स भी जुड़ते हैं। उन्हें भी खेलों की जानकारी मिलती है। बच्चों को खेलों में भेजने के लिए प्रेरणा मिलती है। खेल से संपूर्ण व्यक्तित्व का विकास होता है।