Hindi News »Jharkhand »Jamshedpur »Jamshedpur» मरीजों को नहीं दी, एक्सपायर हो गईं करोड़ों रुपए की दवाएं

मरीजों को नहीं दी, एक्सपायर हो गईं करोड़ों रुपए की दवाएं

डीबी स्टार

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:10 AM IST

मरीजों को नहीं दी, एक्सपायर हो गईं करोड़ों रुपए की दवाएं
डीबी स्टार जमशेदपुर

स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत आयुष में दवा खरीद में हुई गड़बड़ी की जांच के आदेश दिए गए हैं। वर्ष 2016-17 में केंद्रीय योजना के तहत जमशेदपुर समेत राज्य के तमाम सीएचसी और पीएचसी के लिए तीन करोड़ रुपए की दवा खरीदी गई थी। इन दवाओं को सही ढंग से नहीं बांटा गया और उचित रख-रखाव नहीं होने के कारण एक्सपायर हो गईं। इस मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है। जांच कमेटी दवाओं के वितरण और रख-रखाव में लापरवाही के लिए दोषी अधिकारियों को चिह्नित कर अपनी रिपोर्ट सरकार को देगी।

तीन सदस्यीय कमेटी के अध्यक्ष विभागीय अवर सचिव नंद किशोर सिंह बनाए गए हैं। सदस्यों के रूप में डॉ. वकील कुमार सिंह, प्राचार्य राजकीय आयुर्वेदिक फार्मेसी महाविद्यालय साहेबगंज, डॉ. सविता कुमारी, व्याख्याता सह प्रभारी प्राचार्य राजकीय होम्योपैथिक कालेज गोड्डा और डॉ. फजलूस शमी, यूनानी चिकित्सा पदाधिकारी जिला संयुक्त औषधालय रांची शामिल हैं। विभागीय अवर सचिव ने डॉ. वकील कुमार सिंह को निर्देश दिया है कि दवाओं की खरीद से संबंधित फाइल, भंडार पंजी, भुगतान से संबंधित फाइल, भुगतान किए गए चेक की फोटो कॉपी, जिला आयुष चिकित्सा पदाधिकारी और डॉक्टरों से प्राप्त व्ययादेश की कॉपी आदि प्राप्त करें, ताकि इस पर जांच आगे प्रारंभ की जा सके।

क्या है पूरा मामला

आयुष विभाग के तहत वर्ष 2016-17 में करीब तीन करोड़ रुपए की दवाएं खरीदी गईं। इसमें होम्योपैथी, यूनानी और आयुर्वेदिक दवाएं शामिल थीं। इनका इस्तेमाल राज्य के 48 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) और 97 पीएचसी (प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र) में होना था। लेकिन कई स्थानों पर डॉक्टर ही नहीं थे। फलत: इन दवाओं का इस्तेमाल ही नहीं हो पाया। अब ये दवाएं एक्सपायर हो रही हैं। कई जिलों के प्रभारियों ने रिपोर्ट भेजी है। जामताड़ा, गोड्डा और दुमका जिले में ही लाखों की दवाएं एक्सपायर हुई हैं।

डीबी स्टार जमशेदपुर

स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत आयुष में दवा खरीद में हुई गड़बड़ी की जांच के आदेश दिए गए हैं। वर्ष 2016-17 में केंद्रीय योजना के तहत जमशेदपुर समेत राज्य के तमाम सीएचसी और पीएचसी के लिए तीन करोड़ रुपए की दवा खरीदी गई थी। इन दवाओं को सही ढंग से नहीं बांटा गया और उचित रख-रखाव नहीं होने के कारण एक्सपायर हो गईं। इस मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है। जांच कमेटी दवाओं के वितरण और रख-रखाव में लापरवाही के लिए दोषी अधिकारियों को चिह्नित कर अपनी रिपोर्ट सरकार को देगी।

तीन सदस्यीय कमेटी के अध्यक्ष विभागीय अवर सचिव नंद किशोर सिंह बनाए गए हैं। सदस्यों के रूप में डॉ. वकील कुमार सिंह, प्राचार्य राजकीय आयुर्वेदिक फार्मेसी महाविद्यालय साहेबगंज, डॉ. सविता कुमारी, व्याख्याता सह प्रभारी प्राचार्य राजकीय होम्योपैथिक कालेज गोड्डा और डॉ. फजलूस शमी, यूनानी चिकित्सा पदाधिकारी जिला संयुक्त औषधालय रांची शामिल हैं। विभागीय अवर सचिव ने डॉ. वकील कुमार सिंह को निर्देश दिया है कि दवाओं की खरीद से संबंधित फाइल, भंडार पंजी, भुगतान से संबंधित फाइल, भुगतान किए गए चेक की फोटो कॉपी, जिला आयुष चिकित्सा पदाधिकारी और डॉक्टरों से प्राप्त व्ययादेश की कॉपी आदि प्राप्त करें, ताकि इस पर जांच आगे प्रारंभ की जा सके।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jamshedpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×