• Home
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • कुड़माली दिनपांजी कैलेंडर 365 दिनों का, पहले तीन माह तीस दिन, छठा महीना 32 दिन और 11वां व 12वां महीना 29 दिनों का
--Advertisement--

कुड़माली दिनपांजी कैलेंडर 365 दिनों का, पहले तीन माह तीस दिन, छठा महीना 32 दिन और 11वां व 12वां महीना 29 दिनों का

सिटी रिपोर्टर

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:10 AM IST
सिटी रिपोर्टर
आदिवासी कुड़मी समाज का नववर्ष मकर संक्रांति के बाद वाले दिन आखाइन जातरा से शुरू हो जाता है। कुड़मी समाज के लोग सभी पर्व-त्योहार, ग्रह-नक्षत्र, दिन-तारीख-महीना सब कुछ कुड़माली दिनपांजी कैलेंडर के द्वारा तय करते हैं।

हालांकि, अन्य कैलेंडरों के जैसे कु़ड़माली दिनपांजी कैलेंडर भी 365 दिनों का ही होता है। लेकिन साल का छठा महीना 32 और 11 वां महीना 29 दिनों का होता है। कैलेंडर में पहले तीन महीने मधुमास, बिहामास और मउहामास तीस दिनों का होता है। चौथा व पांचवां महीना यानी निरमास और धरनमास 31 दिन का होता है। छठा महीना बिहनमास 32 दिनों का है। सातवां, आठवां और नौवां महीना क्रमश: रपामास, करममास और आनमास 31दिन, दसवां महीना सहरइमास 30 दिन एवं 11वां व 12 वां महीना मेदसरमास व जाड़मास 29 दिनों का होता है।

कुड़मी समाज के लोग पर्व-त्योहार, ग्रह-नक्षत्र सब कुछ कुड़माली दिनपांजी कैलेंडर से तय करते हैं

मकर संक्रांति के बाद वाले दिन आखाइन जातरा से शुरू होता है नववर्ष

महीने के नाम-
सिटी रिपोर्टर
आदिवासी कुड़मी समाज का नववर्ष मकर संक्रांति के बाद वाले दिन आखाइन जातरा से शुरू हो जाता है। कुड़मी समाज के लोग सभी पर्व-त्योहार, ग्रह-नक्षत्र, दिन-तारीख-महीना सब कुछ कुड़माली दिनपांजी कैलेंडर के द्वारा तय करते हैं।

हालांकि, अन्य कैलेंडरों के जैसे कु़ड़माली दिनपांजी कैलेंडर भी 365 दिनों का ही होता है। लेकिन साल का छठा महीना 32 और 11 वां महीना 29 दिनों का होता है। कैलेंडर में पहले तीन महीने मधुमास, बिहामास और मउहामास तीस दिनों का होता है। चौथा व पांचवां महीना यानी निरमास और धरनमास 31 दिन का होता है। छठा महीना बिहनमास 32 दिनों का है। सातवां, आठवां और नौवां महीना क्रमश: रपामास, करममास और आनमास 31दिन, दसवां महीना सहरइमास 30 दिन एवं 11वां व 12 वां महीना मेदसरमास व जाड़मास 29 दिनों का होता है।

सप्ताह के नाम