कंपनी के 450 से अधिक कर्मचारी 700 रुपए मासिक लाभ से हो सकते हैं वंचित

Jamshedpur News - टाटा स्टील में वर्ल्ड क्लास मेंटनेंस (डब्ल्यूसीएम) में रिटायर्ड कर्मचारियों को डब्ल्यूसीएम का लाभ देने की वजह से...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:50 AM IST
Jamshedpur News - more than 450 employees of the company can be denied monthly income of rs 700
टाटा स्टील में वर्ल्ड क्लास मेंटनेंस (डब्ल्यूसीएम) में रिटायर्ड कर्मचारियों को डब्ल्यूसीएम का लाभ देने की वजह से कंपनी के लगभग 450 से अधिक कार्यरत कर्मचारियों को इसका लाभ नहीं मिलेगा। इससे इन कर्मचारियों को महीने के 700 सौ रुपए तक का नुकसान होगा। कर्मचारियों द्वारा मंगलवार को इसकी शिकायत यूनियन नेताओं से करने के बाद यूनियन मामले के तह में जाने के लिए कर्मचारियों के अलावा प्रबंधन से भी बात कर रहा है। विभागीय कमेटी मेंबर कार्यरत कर्मचारियों को भी इसका लाभ मिलने की बात कह रहे हैं। वहीं प्रबंधन भी पेसोपेश में है कि आखिर समस्या क्यों आई।

वर्ल्ड क्लास मेंटनेंस पर अगस्त 2017 में प्रबंधन और यूनियन के बीच समझौता हुआ था। समझौते में डब्ल्यूसीएम के तहत लाभ मिलनेवाले कर्मचारियों की संख्या भी तय कर दी गयी थी। लेकिन लाभ उन्हीं कर्मचारियों को मिलेगा जो कंपनी स्तर पर हुए समझौते की तिथि को कंपनी के रोल में थे। जिस दिन विभाग के लिए समझौता हुआ उस दिन भी रोल में होना चाहिए और जिस माह से इसका लाभ मिलेगा उस माह भी कंपनी के रोल में होना चाहिए।

इस कारण हुई समस्या

अगस्त 2017 के बाद कई कर्मचारी सेवानिवृत्त हो गए। उस समय लाभ के लिए कर्मचारियों की संख्या विभाग में तय की गई थी, उसमें वे भी शामिल थे। वर्तमान के मैनपावर में उन्हें शामिल किए जाने पर तय संख्या से कर्मचारी अधिक हो जा रहे हैं। प्रबंधन रिटायर्ड कर्मचारियों को लाभ देने की बात कर रहा है, जिससे कार्यरत कर्मचारी लाभ से वंचित हो जा रहे हैं। जबकि कार्यरत कर्मचारी वोटर हैं, एेसे में कमेटी मेंबरों को रिटायर से ज्यादा कार्यरत कर्मचारियों के साथ खुद की चिंता कर रहे हैं। मालूम हो कि डब्ल्यूसीएम में इलेक्ट्रिकल तथा मैकेनिकल मेंटनेंस को शामिल किया गया है जिसमें लगभग तीन हजार कर्मचारी शामिल किए गए हैं।

ग्रेड की देरी पर कमेटी मेंबरों ने किया सवाल

इन्सेंटिव बोनस और इम्पलाई वार्ड के बच्चों के नियोजन की उठी मांग

टीआरएफ लेबर यूनियन की कमेटी मीटिंग मंगलवार को हुई, जिसमें कर्मचारियों के ग्रेड समेत इन्सेंटिव बोनस और इम्पलाई वार्ड के बच्चों की नौकरी की मांग उठी। कमेटी मेंबरों ने 2015 से लंबित ग्रेड को जल्द कराने की मांग की और इसके लिए यूनियन अध्यक्ष राकेश्वर पांडेय को अधिकृत किया। यूनियन महामंत्री संजय झा ने बताया कि पुराने ग्रेड के कर्मचारियों की ग्रेड अवधि 31 मार्च 2019 को खत्म हो गई, लेकिन ग्रेड समझौता नहीं हो सका। यही नहीं नए ग्रेड के कर्मचारियों की ग्रेड अवधि भी आगामी दिसंबर माह में खत्म होने जा रही है। अध्यक्ष राकेश्वर पांडेय ने प्रबंधन के अधिकारियों के साथ बात कर जल्द ग्रेड समझौता कराने का आश्वासन दिया। कमेटी मीटिंग में इन्सेंटिव बोनस का मुद्दा भी छाया रहा। इस साल कंपनी ने 16.8 करोड़ वैल्यू का उत्पादन किया है, जो इन्सेंटिव बोनस के लिए न्यूनतम मानक है। इन्सेंटिव बोनस मिलने से कर्मचारियों को औसत 1500 रुपए का लाभ होगा। कमेटी मेंबरों ने इस बोनस की रूपरेखा बनाने पर जोर दिया। कई कमेटी मेंबरों ने इम्पलाई वार्ड के बच्चों के नियोजन के मुद्दे को उठाया और कहा कि नियोजन में उन्हें प्राथमिकता देनी चाहिए।

यूनियन के चार नेता यूथ इंटक में शामिल : अध्यक्ष राकेश्वर पांडेय ने यूनियन के चार नेताओं काे यूथ इंटक में शामिल होने पर बधाई दी और फूल-माला पहनाकर स्वागत किया। इनके नाम हैं- मनोज कुमार, बेबी कुमारी, जयपाल सिंह मुंडा और आलोक कुमार झा। बैठक में यूनियन के डिप्टी प्रेसीडेंट एमएच हीरामानेक, वाइस प्रेसीडेंट रास बिहारी राय, जेनरल सेक्रेटरी संजय कुमार झा, असिस्टेंट सेक्रेटरी बी पूर्ति और संजय कुमार, असिस्टेंट सेक्रेटरी बीपी सिंह, एडवाइजर नवीन कुमार, कमेटी मेंबर्स पीके सिंह, मुनेश्वर महतो आदि मौजूद थे।

X
Jamshedpur News - more than 450 employees of the company can be denied monthly income of rs 700
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना