जमशेदपुर / तबरेज मामले में आरोपियों के खिलाफ धारा बदले जाने के बाद वकील ने कोर्ट में दायर किया पिटिशन



खरसावां के बेहरासाई स्थित शाहिस्ता परवीन के पिता का घर। (फाइल फोटो) खरसावां के बेहरासाई स्थित शाहिस्ता परवीन के पिता का घर। (फाइल फोटो)
X
खरसावां के बेहरासाई स्थित शाहिस्ता परवीन के पिता का घर। (फाइल फोटो)खरसावां के बेहरासाई स्थित शाहिस्ता परवीन के पिता का घर। (फाइल फोटो)

  • पीड़ित परिवार के वकील ने कहा- पुलिस की ये कार्रवाई सरासर गलत

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2019, 07:02 PM IST

सरायकेला. धातकीडीह गांव में तबरेज अंसारी हत्याकांड में पुलिस द्वारा हत्या की धारा 302 को बदलकर गैर इरादतन हत्या की धारा 304 कर दी गई है। इसके खिलाफ तबरेज की पत्नी शाइस्ता परवीन की ओर से कोर्ट में पिटीशन दायर की गई है। पीड़ित परिवार की ओर से सीजेएम कोर्ट में याचिका दाखिल कर वकील अल्ताफ हुसैन ने कहा है कि पुलिस की यह कार्रवाई सरासर गलत है। आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने कोर्ट में जो चार्जशीट दी है, वह धारा 302 की होनी चाहिए थी। क्योंकि घटना के दौरान आरोपियों ने तबरेज अंसारी को जान से मारने की नीयत से मारपीट की थी। चूंकि, यह मामला का काफी गंभीर है, इसलिए चार्जशीट में धाराओं की अदला-बदली नहीं होनी चाहिए थी। पुलिस के इस कदम से समाज में खराब संदेश जाएगा और असामाजिक तत्वों का हौसला बढ़ेगा। 

 

इससे समाज के जाएगा गलत संदेश: वकील
मामले में आरोपियों पर धारा 302 हटाकर धारा 304 किए जाने के बाद पीड़ित परिवार की ओर से व्यवहार न्यायालय में केस लड़ रहे वरीय अधिवक्ता अल्ताफ हुसैन ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पिटिशन दायर की है। उन्होंने अदालत से कहा है कि यह सरासर गलत है। आरोपियों के विरोध पुलिस द्वारा न्यायालय में प्रस्तुत चार्जशीट में धारा 302 होना चाहिए था, क्योंकि घटना के दौरान आरोपियों द्वारा तबरेज को जान से मारने की मंशा लेकर ही मारपीट की गई थी। यह मामला काफी संगीन है इसीलिए इस केस में चार्जशीट में इस तरह धाराओं का अदल-बदल नहीं होना चाहिए था। क्योंकि इससे समाज में खराब संदेश जाएगा और असामाजिक तत्वों का हौसला बढ़ेगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना