नक्सली हमला मामला / नक्सलियों ने लूटे गए वायरलेस से 3 घंटे तक पुलिस पर रखी थी नजर



हमले के बाद मौके पर पहुंचे थे डीआईजी कुलदीप द्विवेदी। हमले के बाद मौके पर पहुंचे थे डीआईजी कुलदीप द्विवेदी।
X
हमले के बाद मौके पर पहुंचे थे डीआईजी कुलदीप द्विवेदी।हमले के बाद मौके पर पहुंचे थे डीआईजी कुलदीप द्विवेदी।

  • सादे लिबास में सुमो चालक ने भागकर जान बचाने के बाद थाना के मुंशी को मोबाइल फोन पर दी जानकारी 
  • घटना के चौथे दिन कुकडू बाजार से पुलिस बल हटाया, खुली दुकानें, चहल-पहल 
  • डीजीपी ने दिया निर्देश नक्सलियों के खिलाफ पुलिस का अभियान 20 जून तक चलेगा 

Dainik Bhaskar

Jun 18, 2019, 11:03 AM IST

जमशेदपुर. सरायकेला जिले के तिरुलडीह थाना क्षेत्र के कुकडू हाट बाजार में पुलिसकर्मियों की हत्या करने के बाद नक्सलियों ने लूटे वायरलेस के जरिए 3 घंटे तक पुलिस की गतिविधियों पर नजर रखी थी। घटना पांच बजे की थी और घटना के समय जान बचाकर भाग निकले पुलिस पार्टी के चालक सुखलाल कुदादा ने छह बजे मोबाइल के जरिए घटना की जानकारी तुरुलडीह थाना के मुंशी को दी। इसके बाद मुंशी ने जानकारी सरायकेला जिला के वरीय अधिकारियों को दी। तब जाकर अधिकारियों का तिरुलडीह थाना पर पहुंचना शुरू हुआ। इस बीच चालक सुखलाल भी थाना पहुंच गया।

 

तीन इंसास की मैगजीन समेत 550 गोलियां, दो पिस्टल की 70 गोलियां लूटी
घटना के समय सुखलाल वर्दी में नहीं था, लेकिन तिरुलडीह थाना पर वरीय अधिकारियों के पहुंचने पर सुखलाल को वर्दी में देखा गया था। सुखलाल से घटनाक्रम की जानकारी लेने के बाद पुलिस रात के 7 बजे घटनास्थल पहुंची तब पुलिस को जानकारी हुई कि पुलिस पार्टी से दो पिस्टल, तीन इंसास, गाड़ी मे लगे वायरलेस सेट को भी लूटकर ले गये। इसके बाद पुलिस ने वायरलेस सेट को डिसकनेक्ट किया। इस दौरान पुलिस की गतिविधि पर नक्सलियों ने नजर रख और घटना को अंजाम देकर आसानी से तमाड़ की तरफ भाग निकले। नक्सली द्वारा लूटी गई गोलियों में तीन इंसास की मैगजीन समेत साढ़े पांच सौ गोलियां, दो पिस्टल की 70 गोलियां शामिल है। 

 

नक्सलियों को खदेड़ने के लिए पटमदा, बोड़ाम, एमजीएम गालूडीह व घाटशिला के जंगलों को सीआरपीएफ ने घेरा 
सरायकेला के तिरुलडीह में नक्सली घटना के बाद जिला पुलिस ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सतर्कता बढ़ा दी है। सोमवार की देर शाम एसएसपी के निर्देश पर सीआरपीएफ, सैप, जैप के जवानों के नक्सल प्रभावित क्षेत्र पटमदा, बोड़ाम, एमजीएम, गालूडीह और घाटशिला के जंगलों में घेराबंदी की. इसकी जानकारी एसएसपी अनूप बिरथरे ने दी। उन्होंने कहा कि सरायकेला घटना के बाद नक्सली किसी भी दिशा में भाग सकते है। चंूकि पूर्वी सिंहभूम के उक्त पांच जगहों को नक्सली भलीभांति अवगत है। इस वजह से पुलिस ने अभियान शुरू किया है। अभियान 20 जून तक चलेगा। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर जिले में नक्सलियों को घूसने नहीं दिया जाएगा। सोमवार को नए डीजीपी कमल नयन चौबे ने पदभार संभालने के बाद पहली बार जिले के एसएसपी और सिटी एसपी के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग से बातचीत की और सरायकेला घटना के बाद जिले में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में 20 जून तक अभियान चलाने का निर्देश दिया। डीजीपी ने प्रधानमंत्री दौरे तक अभियान को जारी रखने को कहा है। इसके अलावा एसएसपी ने चार दिनों तक पूरे शहर में एंटी क्राइम चेकिंग भी चलाई। 

 

हमला के बाद मैगजीन समेत 620 गोलियां व वायरलेस सेट भी लूटा था, सुमो के अंदर लगाई थी आग 
तिरूलडीह थाना क्षेत्र के कुकङु बाजार में शुक्रवार को नक्सलियों द्वारा 5 पुलिस जवानों की हत्या के बाद चौथे दिन सोमवार को बाजार की स्थिति सामान्य रही। खौफ से बंद दुकानों में सोमवार को कुछ दुकानों के ताले खुले। दुकानदारों ने बताया कि स्थिति कुछ सामान्य है मगर लोग अभी भी डरे-सहमे हैं। शाम में लोगों की चहल-पहल बाजार में दिखी। एक दुकानदार ने बताया कि घटना देखने के बाद से वही दृश्य बार-बार सामने अा रहा है, जब तक बाजार में पुलिस द्वारा पुख्ता इंतजाम नहीं िकया जाएगा, तब तक बाजार पहले जैसी सामान्य स्थिति में नहीं चल पाएगा। लोगों का कहना है कि दो दिन के लिए बस पर्याप्त पुलिस बल दिया गया, मगर आज पुलिस बल इलाके से हटा िलया गया है, िजससे अधिकांश लोग घर से िनकलने से डर रहे हैं। लोगों ने स्थाई पुलिस कैम्प की मांग कर रहे हैं। पुलिस बल के ना होने के कारण कुछ देर दुकान खोलने के बाद िफर से दुकान बंद कर ली गई। 

 

पुलिस पार्टी सुबह साढ़े दस बजे थाना से निकली थी, भागने के दौरान नक्सलियों ने हवाई फायरिंग कर जिंदाबाद के नारे भी लगाए 
14 जून सुबह साढ़े 10 बजे तिरुलडील थाना में तैनात शहीद हुए दो एएसआइ और तीन जवान तथा चालक सुखलाल थाना से गश्ती, बैंक चेकिंग, साप्ताहिक हाट बाजार की सुरक्षा के लिए सरकारी सुमो संख्या जेएच22बी 9924 से निकले। गश्ती पार्टी के निकलने का उल्लेख थाना की स्टेशन डायरी में है। छानबीन में पता चला कि पांच-छह बाइक पर होकर माओवादी हाट बाजार पहुंचे। उनकी संख्या 15 से 17 के बीच थी। पुलिस पार्टी पर हमला करने के बाद हथियार व गोली लूटी गई और फिर हवाई फायरिंग कर जिंदाबाद के नारे लगाते हुए कुकरू पातकुम रोड की तरफ बाइक से भाग निकले। माओवादियों ने पुलिसकर्मियों के पर्स, मोबाइल, सरकारी हथियार, गोलियां, वायरलेस सेट भी लूट लिया। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना