भगवान को गर्मी से बचाने के लिए छोटे कूलर-पंखे, भक्त पहना रहे सूती कपड़े

Jamshedpur News - सिटी रिपोर्टर

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:05 AM IST
Jamshedpur News - to protect god from heat small coolers cloth cloth worn by devotees
सिटी रिपोर्टर
यूं तो भगवान ने पूरी दुनिया अपने हाथों से बनाई है। उन्हें किसी चीज की जरूरत नहीं, लेकिन फिर भी श्रद्धालुओं की यही कोशिश रहती है कि भगवान को बेहतर से बेहतर वस्तु अर्पित कर सकें। शहर में गर्मी का प्रकोप बढ़ने से जहां लोग बेहाल हो रहे हैं। वहीं भक्तों को भगवान की भी चिंता सताने लगी है। मंदिरों के गर्भगृह में भगवान को गर्मी से बचाने के लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं।

कहीं गर्भगृह में एसी, कूलर और पंखे की व्यवस्था की गई है तो कहीं भगवान को शीतल पेय और शीतल फलों का भोग लगाया जा रहा है। कहीं खस लगाकर गर्भगृह को ठंडा किया जा रहा है तो कहीं चंदन का लेप लगाया जा रहा है। बिष्टुपुर राम मंदिर में भी भगवान को गर्मी से बचाने के लिए तरह-तरह के उपाय किए गए हैं। मंदिर के आचार्य ने बताया - भगवान को हम सत्तू, शीतल पेय, नींबू पानी, लस्सी, मठा, आम का पन्ना, शरबत सहित शीतल पदार्थों का भोग रोजाना लगा रहे हैं। वहीं, इस्कॉन मंदिर में गोलमुरी में जगन्नाथ को कॉटन के गुलाबी रंग के वस्त्र पहनाए गए हैं। गर्भगृह मे इस्तेमाल होने वाले पर्दे आदि भी सब कॉटन के लगाए गए हैं, ताकि गर्मी से भगवान का बचाव हो सके। बिष्टुपुर जलाराम मंदिर के पंडित भावेश बताते हैं - जब हम भगवान की प्राण प्रतिष्ठा करते हैं तो एेसा माना जाता है कि भगवान की प्रतिमा में भी प्राण आ जाते हैं, इसलिए हर मौसम का उनपर असर होता है। शहर के ज्यादातर मंदिर प्रांगण में भगवान के लिए इस गर्मी में विशेष तौर पर इंतजाम किए गए हैं।

जगन्नाथ भगवान को लू न लगे इसके लिए चंदन का लेप लगाने के साथ तुलसी पत्ता किया अर्पित

सिटी रिपोर्टर
यूं तो भगवान ने पूरी दुनिया अपने हाथों से बनाई है। उन्हें किसी चीज की जरूरत नहीं, लेकिन फिर भी श्रद्धालुओं की यही कोशिश रहती है कि भगवान को बेहतर से बेहतर वस्तु अर्पित कर सकें। शहर में गर्मी का प्रकोप बढ़ने से जहां लोग बेहाल हो रहे हैं। वहीं भक्तों को भगवान की भी चिंता सताने लगी है। मंदिरों के गर्भगृह में भगवान को गर्मी से बचाने के लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं।

कहीं गर्भगृह में एसी, कूलर और पंखे की व्यवस्था की गई है तो कहीं भगवान को शीतल पेय और शीतल फलों का भोग लगाया जा रहा है। कहीं खस लगाकर गर्भगृह को ठंडा किया जा रहा है तो कहीं चंदन का लेप लगाया जा रहा है। बिष्टुपुर राम मंदिर में भी भगवान को गर्मी से बचाने के लिए तरह-तरह के उपाय किए गए हैं। मंदिर के आचार्य ने बताया - भगवान को हम सत्तू, शीतल पेय, नींबू पानी, लस्सी, मठा, आम का पन्ना, शरबत सहित शीतल पदार्थों का भोग रोजाना लगा रहे हैं। वहीं, इस्कॉन मंदिर में गोलमुरी में जगन्नाथ को कॉटन के गुलाबी रंग के वस्त्र पहनाए गए हैं। गर्भगृह मे इस्तेमाल होने वाले पर्दे आदि भी सब कॉटन के लगाए गए हैं, ताकि गर्मी से भगवान का बचाव हो सके। बिष्टुपुर जलाराम मंदिर के पंडित भावेश बताते हैं - जब हम भगवान की प्राण प्रतिष्ठा करते हैं तो एेसा माना जाता है कि भगवान की प्रतिमा में भी प्राण आ जाते हैं, इसलिए हर मौसम का उनपर असर होता है। शहर के ज्यादातर मंदिर प्रांगण में भगवान के लिए इस गर्मी में विशेष तौर पर इंतजाम किए गए हैं।

भगवान के पास लगाया कूलर।

ठंडक के लिए रखा मटका व आम का पत्ता

मानगो महादेव मंदिर में भी ठंडक के लिए कई जतन किए जा रहे हैं। गर्भगृह में ठंडक बनी रहे, इसलिए यहां प्रतिमाओं के पास मटके रखे गए हैं, जो शीतलता देते हैं। इसी प्रकार ठंडक के लिए आम के पत्ते भी लगाए जा रहे हैं। मंदिर के संजय अग्रवाल ने बताया - ठंडक के लिए इन दिनों भगवान के शृंगार में भी पुदीना, मोगरा के फूल का इस्तेमाल अधिक कर रहे हैं।

भगवान जगन्नाथ को पहनाया सूती वस्त्र

भगवान जगन्नाथ को अर्पित कर रहे तुलसी पत्ता

स्वामी अभिराम निमाई दास ने बताया- अंतरराष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ (इस्कॉन), गोलमुरी इस्कॉन मंदिर में चंदन उत्सव मनाया जा रहा है। भगवान को लू न लगे चंदन का लेप भक्त लगा रहे हैं। तुलसी पत्ता अर्पित कर रहे हैं। भगवान को भी मौसम का अहसास होता है। गर्मी में घी की बाजाए फूलों से आरती हो रही है। बालगोपाल के लिए छोटा कूलर, पंखा आदि मंगाए गए है।

Jamshedpur News - to protect god from heat small coolers cloth cloth worn by devotees
X
Jamshedpur News - to protect god from heat small coolers cloth cloth worn by devotees
Jamshedpur News - to protect god from heat small coolers cloth cloth worn by devotees
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना