बिल्ला पर फायरिंग मामले की दो डीएसपी चार थानेदार कर रहे जांच, नहीं मिला सुराग

Jamshedpur News - सीतारामडेरा हरिजन स्कूल के पास गुरुद्वारा में प|ी के साथ मत्था टेकने जा रहे झारखंड़ सिख प्रतिनिधि बोर्ड के...

Nov 11, 2019, 06:55 AM IST
सीतारामडेरा हरिजन स्कूल के पास गुरुद्वारा में प|ी के साथ मत्था टेकने जा रहे झारखंड़ सिख प्रतिनिधि बोर्ड के अध्यक्ष गुरुचरण सिंह बिल्ला पर फायरिंग मामले में पुलिस को अपराधियों का कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस सीतारामडेरा में घटनास्थल को जाने वाले सभी रास्ताें पर लगे सीसीटीवी फुटेज अाैर काॅल डंप की जांच कर रही है। वहीं, बिल्ला का सीजीपीसी के प्रधान गुरमुख सिंह मुखे, अमरजीत सिंह अंबे और बलबीर सिंह बल्ली से किस बात को लेकर दुश्मनी है? बिल्ला का किसी काेई दूसरा विवाद तो नहीं.. अादि बिंदुअाें पर सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट के नेतृत्व में गठित टीम जांच कर रही है। टीम में दो डीएसपी व तीन थानेदार शामिल हैं। अभी तक की जांच में पुलिस को किसी भी तरह की सफलता नहीं मिली है। इसकी जानकारी एसएसपी अनूप बिरथरे ने दी। उन्होंने कहा कि पुलिस टीम सभी तथ्यों पर गंभीरता से जांच करने के बाद ही कार्रवाई करेगी। वहीं दूसरी तरफ पुलिस की टीम ने गुरुद्वारा के विवाद के बिंदु पर भी जांच की, लेकिन काेई तथ्य सामने नहीं अाया है।

मुखे के लिए बिल्ला चुनाैती बन रहे थे, इसलिए रास्ते से हटाना चाहता था : बोर्ड

झारखंड सिख प्रतिनिधि बोर्ड के अध्यक्ष गुरचरण सिंह बिल्ला पर जानलेवा हमला को लेकर कार्यकारी अध्यक्ष शमशेर सिंह सिद्धू की अध्यक्षता में साकची भाजपा कार्यालय में रविवार की शाम बैठक हुई। बैठक में सीधे तौर पर सभी ने फायरिंग का साजिशकर्ता साजीपीसी के प्रधान गुरमुख सिंह मुखे को ठहराया। कहा गया कि पुलिस गैर कानूनी ढंग से हो रही उसकी कमाई की गहन जांच पड़ताल करे तो गुरमुख सिंह के साथ-साथ समाज के कई सफेदपोश के काले चेहरे भी उजागर हो जाएंगे। कहा गया कि गुरचरण सिंह बिल्ला पर पंजाब के पूर्व सीएम बेअंत सिंह की हत्या का आरोप जरूर लगा था। वह अपनी सजा काट चुके हैं। वर्तमान में बिल्ला पर कोई मुकदमा नहीं है। टिनप्लेट गुरुद्वारा में अध्यक्ष पद को लेकर ही उनका अपने सहयोगी तरसेम सिंह सेमे अाैर अमरजीत सिंह अंबे से विवाद हुआ था। शहर की कई गुरुद्वारा कमेटियों के प्रधान हिसाब किताब नहीं देते हैं, लेकिन इसमेें गोली नहीं चलती है। बैठक में कहा गया कि हाल में रामदास भट्ठा के दो आपराधिक प्रकरण में जमशेदपुर एसएसपी, सिटी एसपी, डीएसपी एवं बिष्टुपुर थाना प्रभारी को जो शिकायत हुई थी, उसका नेतृत्व गुरचरण सिंह बिल्ला ने किया था। मुखे गुरुचरण सिंह बिल्ला को अपने लिए चुनौती मान रहे हैं, इसीलिए वे उसे रास्ते से हटाना चाहते हैं। हाल के दिनों में गुरमुख सिंह के कई गलत निर्णयों के खिलाफ झारखंड सिख प्रतिनिधि बोर्ड डटकर खड़ा हुअा है, जिससे गुरमुख सिंह अपने को नीचा महसूस कर रहे हैं। बैठक में निर्णय लिया गया कि यदि जिला पुलिस कार्रवाई नहीं करती है तो सीबीअाई जांच के लिए बोर्ड के पदाधिकारी भूख हड़ताल पर बैठेंगे। बैठक में सुरजीत सिंह खुशीपुर, जोतिंदर सिंह बब्बू, अमरजीत सिंह भामरा, जोगिंदर सिंह जोगी, मनजीत सिंह, त्रिलोचन सिंह, दमनप्रीत सिंह,,जसवीर सिंह मत्तेवाल आदि मौजूद थे।

क्राइम रिपोर्टर | जमशेदपुर

सीतारामडेरा हरिजन स्कूल के पास गुरुद्वारा में प|ी के साथ मत्था टेकने जा रहे झारखंड़ सिख प्रतिनिधि बोर्ड के अध्यक्ष गुरुचरण सिंह बिल्ला पर फायरिंग मामले में पुलिस को अपराधियों का कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस सीतारामडेरा में घटनास्थल को जाने वाले सभी रास्ताें पर लगे सीसीटीवी फुटेज अाैर काॅल डंप की जांच कर रही है। वहीं, बिल्ला का सीजीपीसी के प्रधान गुरमुख सिंह मुखे, अमरजीत सिंह अंबे और बलबीर सिंह बल्ली से किस बात को लेकर दुश्मनी है? बिल्ला का किसी काेई दूसरा विवाद तो नहीं.. अादि बिंदुअाें पर सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट के नेतृत्व में गठित टीम जांच कर रही है। टीम में दो डीएसपी व तीन थानेदार शामिल हैं। अभी तक की जांच में पुलिस को किसी भी तरह की सफलता नहीं मिली है। इसकी जानकारी एसएसपी अनूप बिरथरे ने दी। उन्होंने कहा कि पुलिस टीम सभी तथ्यों पर गंभीरता से जांच करने के बाद ही कार्रवाई करेगी। वहीं दूसरी तरफ पुलिस की टीम ने गुरुद्वारा के विवाद के बिंदु पर भी जांच की, लेकिन काेई तथ्य सामने नहीं अाया है।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना