--Advertisement--

घटना / सदर अस्पताल में नहीं थे बच्चों के डॉक्टर, झोलाछाप डाॅक्टर के इंजेक्शन लगाने के बाद दो महीने के बच्चे ने दम तोड़ा



मृत बच्चे के साथ परिजन। मृत बच्चे के साथ परिजन।
X
मृत बच्चे के साथ परिजन।मृत बच्चे के साथ परिजन।

  • आरोपी डॉक्टर फरार, कीताडीह कैरेज कॉलोनी में रहता है पीड़ित परिवार 

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2018, 11:46 AM IST

जमशेदपुर. कीताडीह क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टर के चक्कर में शुक्रवार को दो महीने के बच्चे की जान चली गई। कीताडीह कैरेज कॉलोनी निवासी सन्नी शर्मा व सविता शर्मा के बच्चे की तबीयत खराब थी। वे बच्चे को लेकर सदर अस्पताल पहुंचे। वहां बताया गया- अभी बच्चों के डॉक्टर नहीं हैं, कहीं और ले जाएं। 

मेडिकल दुकान में लगवाया इंजेक्शन

  1. कीताडीह में सविता का मायका है। रास्ते में दंपती बच्चे को सरोजिनी मेडिकल दुकान ले गए। वहां औशित नायक ने खुद को डॉक्टर बताया और बच्चे को एक इंजेक्शन लगा दिया। फिर दंपती बच्चे को लेकर घर चले गए। थोड़ी देर में बच्चे का हाथ-पैर ठंडा पड़ गया। वह कोई हरकत नहीं कर रहा था। वे दोबारा बच्चे को लेकर सरोजिनी मेडिकल पहुंचे तो वहां ताला लगा था। लोगों ने बताया- औशित स्टेशन-बागबेड़ा मुख्य मार्ग पर लक्ष्मी मेडिकल में स्टाफ है। वहां पहुंचे तो औशित मिल गया। उसने बच्चे को देखा और तुरंत एमजीएम अस्पताल ले जाने को कहा। 

  2. एमजीएम में डॉक्टर ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया

    दंपती बच्चे को लेकर एमजीएम पहुंचे। वहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इसके बाद से औशित फरार है। परिजनों ने उसकी तलाश की, लेकिन वह नहीं मिला। देर रात मृत बच्चे को लेकिर परिजन परसुडीह थाना पहुंचे और शिकायत दर्ज कराई। 

  3. स्टाफ भी नहीं है औशित

    लक्ष्मी मेडिकल के संचालक ने बताया कि औशित उनके यहां दवा देने का काम करता है। वह न मेडिकल स्टाफ है और न कंपाउंडर। वह मेडिकल दुकान चलाता है, इसकी जानकारी भी नहीं है। औशित नायक का घर कीताडीह के गाड़ीवान पट्टी मॉडल इंग्लिश स्कूल के पास है। वह घर से फरार बताया गया है। परसुडीह पुलिस औशित की तलाश कर रही है। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..