• Hindi News
  • National
  • Narayanpur News Even After The Pm Housing Being Incomplete Completed The Goal Is Completed

पीएम आवास अधूरा होने के बाद भी लक्ष्य पूरा करने के लिए दिखाया पूर्ण

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी योजना को जल्द से जल्द पूर्ण दिखाने के होड़ में लाभुकों को परेशानी का समाना करना पड़ता है। सरकार की कई महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक प्रधानमंत्री आवास योजना है। योजना के तहत लाभुक को 1 लाख बीस हजार और मजदूरों मद में खर्च के लिए मनरेगा के तहत 15 हजार दिया जाता है। लेकिन आवास निर्माण के लक्ष्य को पूरा करने की जल्दबाजी में एक लाभुक को पंद्रह हजार रूपए भुगतान किए बिना ही योजना को क्लोज कर दिया गया। मामला नारायणपुर प्रखंड के पबिया गांव का है। पबिया के दिवाकर मंडल को आवास योजना का लाभ मिला था।

लाभुक के प|ी ने पंचायत स्वयं सेवक एवं पंचायत के सचिव पर लापरवाही का आरोप लगाया है। आरोप है कि पीएम आवास का काम पूरा भी नहीं हुआ और योजनाओं को क्लोज कर दिया। जिस कारण मनरेगा के तहत मिलने वाला 15 हजार की राशि अभी तक नहीं मिला है।

लाभुक दिवाकर मंडल के पिता मंगल एवं प|ी लक्ष्मी देवी ने कहा कि जॉब कार्ड बनवाने और आवास का अंतिम फोटो करने एवं 15 हजार की राशि दिलाने के नाम पर पंचायत के स्वयं सेवक राजकुमार सिंह ने 800 रुपए लिया है। लाभुक के परिजनों ने कहा कि पंचायत सचिव एवं पंचायत स्वयं सेवक आवास का फोटो लेने के लिए आए थे। इस दौरान उन्होंने कहा था कि ऊपर से ऑर्डर आया है। आवास का फोटो लेकर भेजना है। उस दौरान मनरेगा के तहत मिलने वाले राशि के बारे में भी लाभुक ने मांग किया था।

पैसा नहीं मिलने की शिकायत करतीं लाभुक।

विष्णु मंडल | पबिया

सरकारी योजना को जल्द से जल्द पूर्ण दिखाने के होड़ में लाभुकों को परेशानी का समाना करना पड़ता है। सरकार की कई महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक प्रधानमंत्री आवास योजना है। योजना के तहत लाभुक को 1 लाख बीस हजार और मजदूरों मद में खर्च के लिए मनरेगा के तहत 15 हजार दिया जाता है। लेकिन आवास निर्माण के लक्ष्य को पूरा करने की जल्दबाजी में एक लाभुक को पंद्रह हजार रूपए भुगतान किए बिना ही योजना को क्लोज कर दिया गया। मामला नारायणपुर प्रखंड के पबिया गांव का है। पबिया के दिवाकर मंडल को आवास योजना का लाभ मिला था।

लाभुक के प|ी ने पंचायत स्वयं सेवक एवं पंचायत के सचिव पर लापरवाही का आरोप लगाया है। आरोप है कि पीएम आवास का काम पूरा भी नहीं हुआ और योजनाओं को क्लोज कर दिया। जिस कारण मनरेगा के तहत मिलने वाला 15 हजार की राशि अभी तक नहीं मिला है।

लाभुक दिवाकर मंडल के पिता मंगल एवं प|ी लक्ष्मी देवी ने कहा कि जॉब कार्ड बनवाने और आवास का अंतिम फोटो करने एवं 15 हजार की राशि दिलाने के नाम पर पंचायत के स्वयं सेवक राजकुमार सिंह ने 800 रुपए लिया है। लाभुक के परिजनों ने कहा कि पंचायत सचिव एवं पंचायत स्वयं सेवक आवास का फोटो लेने के लिए आए थे। इस दौरान उन्होंने कहा था कि ऊपर से ऑर्डर आया है। आवास का फोटो लेकर भेजना है। उस दौरान मनरेगा के तहत मिलने वाले राशि के बारे में भी लाभुक ने मांग किया था।

पंचायत सचिव ने कहा- रािश की नहीं है जानकारी
पंचायत सचिव विशेश्वर मरांडी ने कहा कि प्रशासनिक दबाव में सभी अधिकारी को ऊपर से आदेश था। इसी जल्दबाजी में इनका भी फोटो लेकर भेजा गया था। मनरेगा राशि के विषय में कोई जानकारी नहीं है।

अब भुगतान होना मुश्किल
नारायणपुर प्रखंड के बीडीओ महेश्वरी प्रसाद यादव ने कहा योजना पूर्ण होकर बंद कर दिया गया है। अब तो भुगतान करना असंभव है। बिना भुगतान के ही योजना पूर्ण किए हैं और योजना बंद कर दिया गया। इस पर जांच किया जाएगा। लाभुक से राशि लेने के विषय पर स्वयं सेवक पर भी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...