• Home
  • Jharkhand News
  • Jamtara
  • 9 साइबर मामले व पियूष हत्याकांड सहित 20 कांडों का होगा स्पीडी ट्रायल
--Advertisement--

9 साइबर मामले व पियूष हत्याकांड सहित 20 कांडों का होगा स्पीडी ट्रायल

जामताड़ा जिला के 20 विभिन्न प्रकार के कांडाें का निष्पादन स्पीडी ट्रायल से किया जाएगा। इस दिशा में पुलिस प्रशासन ने...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:10 AM IST
जामताड़ा जिला के 20 विभिन्न प्रकार के कांडाें का निष्पादन स्पीडी ट्रायल से किया जाएगा। इस दिशा में पुलिस प्रशासन ने प्रयास प्रारंभ कर दिया है। इस कांडों में साइबर अपराध, पोस्को एक्ट, लूट, संपत्ति मूलक केस, हत्या के मामले शामिल हैं। इन कांडों का स्पीडी ट्रायल कराकर पुलिस प्रशासन अपराध पर अंकुश लगाने की दिशा में काम कर रही है। इसके लिए सभी कार्रवाई जिला स्तर से पूरी कर राज्य स्तर के लिए भेजा गया है। जानकारी के अनुसार पूरे राज्य से एक हजार कांडों को स्पीडी ट्रायल के लिए चयन किया गया है। जिसमें से जामताड़ा जिला से बीस कांड को शामिल किया गया है। जामताड़ा में जिन मामलों की सुनवाई स्पीडी ट्रायल से होगी उनमें सबसे अधिक साइबर अपराध से जुड़े मामले होंगे। साइबर अपराध से जुड़े कुल नौ मामलों का चयन किया गया है, जिनकी सुनवाई स्पीडी ट्रायल से की जाएगी। इसी कड़ी में झारखंड के डीजीपी केएन पांडेय ने राज्य के विभिन्न जिले के पुलिस पदाधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आवश्यक निर्देश दिया है। जिसका अनुपालन जिला स्तर पर प्रारंभ कर दिया गया है। छिनतई, वैसे कांड जिनका उद्भेदन पुलिस नहीं कर पाई है की गैंग का पता लगाने, घटित संपत्ति मूलक अपराध का उद्भेदन करने का निर्देश डीजीपी ने दिया है। जानकारी के अनुसार राज्य के दस जिला पर विशेष रूप से फोकस किया गया है। जिसमें संथाल परगना का देवघर जिला भी शामिल है। निर्देश दिया गया है कि जिला के सर्वाधिक अपराधवाले जिला को चिन्हित करें और सक्रिय गैंग को चिन्हित करें। पुलिस पदाधिकारी लक्ष्य के अनुरूप काम करें और अपराधियों को गिरफ्तार करें। मिहिजाम आैर जामताड़ा में गत दिनों घटित संपत्ति मूलक अपराध पर नियंत्रण की दिशा में भी पुलिस प्रशासन काम कर रही है।

पांच थाना की चहारदीवारी का निर्माण शुरू

झारखंड के डीजीपी ने कई थानों की सुरक्षा बढ़ाने को भी कहा था। इसी आदेश के आलोक में जिले के पांच थानों के चहारदीवारी का निर्माण कराया जा रहा है। निर्माण कार्य का निरीक्षण एसडीपीओ पूज्य प्रकाश द्वारा किया गया। ये थाना नाला सर्किल के हैं जिसकी चहारदीवारी का निर्माण किया जा रहा है। ये थाना नाला, कुंडहित, बागडेहरी, फतेहपुर और बिंदापाथर है। निरीक्षण के दौरान एसडीपीओ ने कार्यकारी एजेंसी को आवश्यक निर्देश दिया। यह निर्माण 30 से 36 लाख रुपए की लागत से जेपीएचसीएल द्वारा कराया जा रहा है।

इन कांडों की होगी स्पीडी ट्रायल में सुनवाई

जामताड़ा जिले के कुल 20 काडों की स्पीडी ट्रायल में सुनवाई के लिए चिह्नित किया गया है। जिसमें साइबर अपराध से संबंधित नौ कांड शामिल हैं। स्पीडी ट्रायल के चयनित कांडों में करमाटांड़, जामताड़ा, नारायणपुर, बिंदापाथर, नाला के कांड शामिल है। प्रमुख मामलों में नाला का पियूष हत्याकांड, बिंदापाथर थाना क्षेत्र में दिसंबर माह में हुई जामताड़ा के व्यापारी से रिवाल्वर के दम पर लूट की घटना भी शामिल है।