Hindi News »Jharkhand »Kamasmar» पीएमजीएसवाई के तहत बनाई जा रही सड़कें लेकिन बोर्ड में नहीं दी जा रही है पूरी जानकारी

पीएमजीएसवाई के तहत बनाई जा रही सड़कें लेकिन बोर्ड में नहीं दी जा रही है पूरी जानकारी

डीबी स्टार

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 25, 2018, 02:35 AM IST

डीबी स्टार जैनामोड़

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत जरीडीह प्रखंड में बनाई जा रही सड़कों पर सूचना बोर्ड में पूरी जानकारी नहीं दी जा रही है। ठेकेदार नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं, इसमें अधिकारियों की मौन सहमति दिख रही है। यही कारण है कि बोर्ड देखने के बाद भी लोगों को सड़क की पूरी जानकारी नहीं मिल पा रही है।

सड़क निर्माण स्थल पर योजना बोर्ड में संवेदक द्वारा स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई है। जरीडीह प्रखंड के अरालडीह पंचायत में पीएमजीएसवाई से बनाई जा रही सड़क, कसमार प्रखंड के आरईओ रोड से तिरियगाजर तक तथा वनकनारी से चारपनिया तक और आरईओ रोड पोखरघाटी से सिमलडीह तक बनने वाली सड़क के सूचना बोर्ड अधूरे हैं। शिलापट्ट व कई तरह की योजना के बोर्ड लगाए गए हैं, इनमें प्रशासनिक बोर्ड, योजना मद बोर्ड, योजना के नाम का बोर्ड, तकनीकी आदि में आधी-अधूरी जानकारी दी गई है। तकनीकी बोर्ड में जानकारी उपलब्ध कराने की जगह खाली छोड़ दी गई है।

ठेकेदार नहीं कर रहे नियमों का पालन, अधिकारी की भी मौन सहमति

आरईओ रोड से पोखरघटी होते हुए सिमलडीह तक बननेवाली सड़क निर्माण लगाए गए अधूरे बोर्ड।

केस-1

कसमार एवं जरीडीह सीमा पर प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत आरईओ रोड बजरंगबली मंदिर से तिरियागाजर तक 4.62 किमी लंबी सड़क बनवाई जा रही है। दो करोड़ की लागत से बन रही इस सड़क का निर्माण कार्य लगभग पूर्ण होने की स्थिति में है, लेकिन यहां पर लगी शिलापट्ट में न तो प्राक्कलित राशि अंकित की गई है और न ही कोई अहम जानकारियां दी गई हैं। इस सड़क के निर्माण स्थल पर चार बोर्ड लगे हैं। लेकिन तकनीकी बोर्ड में जानकारी देने के बजाय उसे खाली छोड़ दिया गया है।

केस-2

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत दूसरी सड़क जरीडीह प्रखंड अंतर्गत अरालडीह पंचायत में एक करोड़ रुपए की लागत से आरईओ रोड से पोखरघटी होते हुए सिमलडीह तक बनाई जा रही है। हंगामे की वजह से इस सड़क का निर्माण बंद है। लेकिन संवेदक योजना से जुड़े अन्य चार बोर्ड आनन-फानन में लगा दिया है। इस सूचना बोर्ड में आधी-अधूरी जानकारी दी गई है और राशि का भी उल्लेख नहीं है।

लोगों का आरोप- महज खानापूर्ति के लिए साइट पर लगा रहे हैं शिलापट्ट और बोर्ड

ग्रामीण सुरेंद्र गंझू, रोहीलाल मांझी, सहदेव मांझी, गणेश गंझु, रसिक मांझी आदि ने कहा कि योजना स्थल पर आनन-फानन में महज खानापूर्ति के लिए शिलापट्ट व बोर्ड लगाए गए हैं। काम के दौरान योजना का इस्टीमेट और अहम जानकारी छिपाकर घोटाला किया जाता है। इसलिए शिलापट्ट या अन्य बोर्ड पर विस्तार से जानकारी नहीं दी जाती है। लोगों का कहना है कि शिलापट्ट में न तो योजना का नाम और न ही राशि या अन्य कोई अहम जानकारी दी जाती है।

आधे-अधूरे बोर्ड लगाने पर होगी कार्रवाई : ईई

ग्रामीण विकास विभाग विशेष प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता बीडी राम ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत दो सूचना बोर्ड लगाए जाते हैं, वहीं दो सिटीजन बोर्ड लगाए जाते हैं। सूचना बोर्ड काम चालू होने के साथ ही लगना है। सिटीजन बोर्ड लगाने में थोड़ी देरी हो सकती है। अगर संवेदक द्वारा सूचना बोर्ड में अधूरी जानकारी दी जाती है, तो संवेदक पर कार्रवाई होगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kamasmar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×