कसमार

--Advertisement--

मां की हत्या के दोषी पुत्र को आजीवन कारावास

खाना देने में देरी पर कर दी थी मां की हत्या भास्कर न्यूज | तेनुघाट तेनुघाट व्यवहार न्यायालय के जिला जज द्वितीय...

Dainik Bhaskar

Feb 22, 2018, 03:10 AM IST
खाना देने में देरी पर कर दी थी मां की हत्या

भास्कर न्यूज | तेनुघाट

तेनुघाट व्यवहार न्यायालय के जिला जज द्वितीय गुलाम हैदर ने मां की हत्या के दोषी पुत्र रतन मांझी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। कसमार थाना के सिली साड़म निवासी जीतलाल मांझी ने कसमार थाना प्रभारी के पास 26 मार्च 2011 बयान दर्ज कराया था कि 25 मार्च 2011 को मेरा भाई रतन मांझी घर आया और मां से खाना मांगा। मां खटिया पर सो रही थी। मां कुछ करती कि इसी बीच अभियुक्त रतन अपने पास रखे छुरा से मां की गर्दन, छाती पर वार किया। इससे मां की मृत्यु हो गई। शोर मचाने पर अगल-बगल के लोग आए, तब तक रतन फरार हो गया। उक्त बयान के आधार पर कसमार थाना कांड संख्या 20/11 दर्ज किया गया। आरोप पत्र समर्पित होने के बाद सत्रवाद संख्या 289/11 हैदर के न्यायालय में आया। जहां उपलब्ध साक्ष्य एवं उभय पक्षों की बहस सुनने के बाद मां की हत्या के आरोप में सिद्ध दोषी पाकर अभियुक्त रतन मांझी को आजीवन कारावास एवं 3000 रुपए जुर्माना की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर चार महीने अतिरिक्त कारावास की सजा होगी। सजा सुनाने के बाद अभियुक्त रतन मांझी को तेनुघाट जेल भेज दिया गया। अभियोजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक संजय कुमार सिंह ने बहस की।

X
Click to listen..