• Home
  • Jharkhand News
  • Kasmar News
  • 98 लाख की पीसीसी सड़क डेढ़ साल भी नहीं चली, कई जगहों पर पड़ गई दरार
--Advertisement--

98 लाख की पीसीसी सड़क डेढ़ साल भी नहीं चली, कई जगहों पर पड़ गई दरार

रमेश चंचल

Danik Bhaskar | Feb 27, 2018, 03:30 AM IST
रमेश चंचल
कसमार प्रखंड के सिंहपुर पंचायत भवन से पुरूलिया रोड तक राज्य संपोषित योजना आरईओ से एक किमी पीसीसी पथ निर्माण 98 लाख रुपए की लागत से करवाया गया। लेकिन डेढ़़ भी नहीं हुआ और दर्जनों जगह पर दरार पड़ गई। निर्माण के समय से ही घटिया निर्माण का ग्रामीणों ने विरोध किया था, लेकिन अधिकारियों ने नहीं सुनी। ठेकेदार ने भी पेटी ठेकेदार से सड़क निर्माण करवाया। जिसका नतीजा यह हुआ कि डेढ़़ वर्ष में ही सड़क, नाली व गार्डवाल कई जगह टूट गए। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के अंदर 250 फीट नाली निर्माण कराने की बात थी, पर ठेकेदार ने मनमाने ढंग से गांव से बाहर पुरूलिया रोड के पास नाली बनवा दिया। वह भी टूट गई। वहीं गार्डवाल का काम अधूरा छोड़कर सड़क निर्माण का पैसा निकाल लिया।

मनमाने ढंग से बनवाई नाली

पुरुलिया रोड के एक ओर में सिंहपुर तो दूसरी ओर खैराचातर पंचायत की सीमा है। गांव के अंदर नाली का निर्माण करना छोड़ गांव के बाहर नाली बनाने से इसका लाभ ग्रामीणों को नहीं होगा। नाली से न ही गांव का पानी बाहर हो रह है और ना ही सड़क का पानी। नाली के दोनों ओर ऊंची मिट्टी भरी हुई है। जो नाली की हालत देखते ही बनती है। नाली टूटने लगी है। बाहरी हिस्से पर सिर्फ पत्थर बिछा कर खानापूर्ति कर दी गई है।

प्राण महतो के घर के पास टूटी नाली।

प्रतिदिन 4000 से अधिक लोग करते हैं आना जाना

इस सड़क पर प्रतिदिन 4000 से अधिक लोग आना जाना करते हैं। इसके बाद भी सड़क निर्माण में गुणवत्ता का जरा भी ख्याल नहीं रखा गया। वहीं पुलिया के ईद गिर्द गार्डवाल निर्माण के साथ साथ नाली निर्माण में अनदेखी की गई। इस सड़क से कसमार व जरीडीह तथा बंगाल के लोगों का आवागमन प्रतिदिन होता है। निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल का आरोप ग्रामीणों ने लगाया है।

पीसीसी पथ पर कई जगह दरार

सिंहपुर पंचायत भवन और पुरूलिया रोड के बीच पथ निर्माण में कई जगह दरार आ गई है। पंचायत सचिवालय के सामने बड़ी बड़ी दरारें पड़ गईं हैं। वहीं निर्मल महतो के घर के सामने, कन्हाई महतो के घर के सामने, सुधीर महतो के घर के सामने, गिरधारी महतो के घर के सामने, छप्पर गढ़ा पुलिया के ऊपर भी दरारें आ गई हैं। पुरूलिया रोड से प्राण महतो के घर के बीच आधा दर्जन से ज्यादा जगहों पर दरार आई है। छप्पर गढ़ा मेंे गार्डवाल अधूरा छोड़ दिया हैा।

क्या कहते हैं ग्रामीण

सिंहपुर, गोरयाकुदर व आसपास के ग्रामीण मनुराम महतो, सुफल महतो, प्रकाश महतो, कुंदन महतो, धर्मनाथ महतो, पतिलाल करमाली, फलेश्वरी देवी, काजल देवी, सीता देवी, नमिता देवी, सुरासी देवी, सहित कई ग्रामीण का कहना है कि जिस समय सड़क, गार्डवाल तथा नाली का निर्माण कराया जा रहा था। उस समय से ही घटिया निर्माण का विरोध किया गया था। लेकिन ठेकेदार और अधिकारियों ने नहीं सुनी। नतीजा यह हुआ कि महज डेढ़ साल में ही पीसीसी सड़क टूटने लगी। इन्होंने कहा अगर निर्माण के समय अच्छे किस्म का बालू व सीमेंट लगाया होता, तो सड़क नहीं टूटती, नाली निर्माण गांव के अंदर होती तो ग्रामीणों को लाभ होता। संवेदक जैसे तैसे नाली व गार्डवाल बनाकर भाग गया।

सड़क पर आई दरार दिखते ग्रामीण।

जांच कर कार्रवाई हो

सिंहपुर पंचायत के मुखिया मृत्युंजय कपरदार व खैराचातर मुखिया प्रतिमा देवी ने कहा कि नाली, गार्डवाल तथा पीसीसी पथ निर्माण में अनियमितता बरतने वाले ठेकेदार पर कार्रवाई होनी चाहिए। सड़क में अगर दरार आई है, तो इसकी जांच कर कार्रवाई हो।

जांच कर कार्रवाई की जाएगी : ईई

मैं स्वयं सड़क की जांच करूंगा। अगर सही मायने मे संवेदक ने निर्माण में अनियमितता की है, तो उसपर कार्रवाई की जाएगी। इसमें अगर इंजीनियर भी दोषी होंगे तो उनपर भी कार्रवाई होगी। 

बीडी राम, कार्यपालक अभियंता, आरईओ।