• Hindi News
  • Jharkhand
  • Kamasmar
  • सरकार ने महिलाओं के विकास के लिए खुलवाया दीदी कैफे, अधिकारियों ने खा पीकर पचा लिया
--Advertisement--

सरकार ने महिलाओं के विकास के लिए खुलवाया दीदी कैफे, अधिकारियों ने खा पीकर पचा लिया

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2018, 04:45 AM IST

Kamasmar News - पेटरवार में बंद पड़ा दीदी कैफे को दिखाता एक वृद्ध। कसमार में छह माह से बंद है कसमार प्रखंड मुख्यालय परिसर पर...

सरकार ने महिलाओं के विकास के लिए खुलवाया दीदी कैफे, अधिकारियों ने खा पीकर पचा लिया
पेटरवार में बंद पड़ा दीदी कैफे को दिखाता एक वृद्ध।

कसमार में छह माह से बंद है

कसमार प्रखंड मुख्यालय परिसर पर संचालित दीदी कैफे भी पिछले 6 माह से बंद पड़ा है। यहां शांति महिला मंडल द्वारा कैफे चलाया जा रहा था। लेकिन कुछ लोगों नाम नहीं छापने के आग्रह पर कहा कि हाल में ब्लॉक में एक माह तक आयोजित किसी प्रशिक्षण कार्यक्रम में दीदी कैफे की उपेक्षा कर किसी झोपड़ी होटल को अल्पाहार बनाने का जिम्मा दे दिया गया, नतीजतन महिला मंडल की सदस्यों ने ब्लॉक के अधिकारियों की करतूत से नाराज होकर कैफे को बंद कर दिया। स्थानीय लोगों ने बताया कि एक महिला मंडल में 12 से 15 महिलाएं है, दो-चार महिलाएं ही सक्रिय होकर कैफे संचालन में समय दे रही हैं, शेष कैफे में संचालन में समय नहीं देने वालों के साथ सक्रिय महिलाओं का मनमुटाव चल रहा है।

पेटरवार में एक सप्ताह से बंद

पेटरवार प्रखंड में पिछले एक सप्ताह से दीदी कैफे बंद है। यहां प्रगति महिला मंडल द्वारा दीदी कैफे चलाया जा रहा था। पतकी निवासी मुरली नायक, गागा के विजय राम, अरजुआ के ज्योतिलाल स्वर्णकार, उलगड्डा के फूलचंद सोरेन, राम प्रसाद सोरन व दशरथ गंझू आदि ने बताया कि यह लोगों की सुविधा के लिए खोला गया था, आनन-फानन में बंद कर देना सरकार की घोषणा के विरुद्ध है। पिछले कई दिनों से दीदी कैफे से जुड़ी महिलाओं का प्रशिक्षण चलने के कारण बंद है, तो कुछ लोग महिलाओं के बीच अंतर्कलह को भी बंद का कारण बता रहे हैं।

और बेहतर बनाया जाएगा दीदी कैफे : इंद्र

मुख्यालय में संचालित दीदी कैफे को बहुत जल्द बेहतर बनाया जाएगा, सामने के पंचायत सदमाकला के 14वें वित्त आयोग से मुख्यालय के गेट के समीप बेकार पड़े शेड का रंग-रोगन व मरम्मत कराकर कैफे को स्थायी तौर पर शिफ्ट किया जाएगा। यहां बिक्री अधिक होगी। फिलवक्त कैफे वाहन पड़ाव में चल रहा है। अभी ये महिलाएं प्रशिक्षण लेने गई है। इसलिए बंद है। 

इंद्र कुमार, बीडीओ, पेटरवार।

कैफे चलाने वाली महिला अस्पताल में भर्ती : बीडीओ

कसमार मुख्यालय में संचालित दीदी कैफे कब से बंद है, मालूम नहीं, लेकिन कुछ महीने से ही बंद होगा। कैफे को कमांड करने वाली अंजना सिंह फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं। इसलिए बंद होगा।  कीकू महतो, बीडीओ, कसमार।

भोजन व नाश्ता का ऑर्डर दिया जाता है : महतो

जरीडीह प्रखंड मुख्यालय में दीदी कैफे को हर संभव मदद किया जा रहा है, भोजन व नाश्ता का ऑर्डर भी दिया जाता है। उसे ओर बेहतर बनाने के लिए कवायद शुरू की जाएगी। 

सदानंद महतो, बीडीओ, जरीडीह।

X
सरकार ने महिलाओं के विकास के लिए खुलवाया दीदी कैफे, अधिकारियों ने खा पीकर पचा लिया
Astrology

Recommended

Click to listen..