• Hindi News
  • Jharkhand News
  • Kodarma
  • नगर पर्षद के अध्यक्ष पद के उप चुनाव में प्रमुख राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा दांव पर
--Advertisement--

नगर पर्षद के अध्यक्ष पद के उप चुनाव में प्रमुख राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा दांव पर

झुमरी तिलैया नगर पर्षद के अध्यक्ष पद के उप चुनाव में प्रमुख राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। जैसे जैसे...

Dainik Bhaskar

Apr 03, 2018, 02:50 AM IST
झुमरी तिलैया नगर पर्षद के अध्यक्ष पद के उप चुनाव में प्रमुख राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। जैसे जैसे चुनाव प्रचार बढ़ रहा है, दलों के प्रत्याशियों की धड़कने बढ़ने लगी है। हर दांव आजमाई रही है, लेकिन दलों का सकारात्मक प्रभाव फिलहाल नहीं दिख रहा है। यह उप चुनाव खासकर भाजपा एवं राजद के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बना है। झुमरी तिलैया शहर में पिछले कई दशकों से दोनों दलों का प्रभाव रहा है। गत विधानसभा चुनावों में भाजपा प्रत्याशियों को यहां से बढ़त मिलती रही है। राजद को भी व्यापक जनसमर्थन मिलता रहा है। कोडरमा विधानसभा अंतर्गत आने वाले झुमरी तिलैया नगर पर्षद 2015 के आम विधान चुनाव में विधायक सह शिक्षा मंत्री डाॅ. नीरा यादव राजद प्रत्याशी अन्नपूर्णा देवी पर लगभग 10 हजार मतों से बढ़त बनाई थी। कोडरमा के सांसद डाॅ. रवींद्र राय भी भाजपा से आते है। राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास स्वयं नगर निकाय के चुनाव की मॉनिटरिंग कर रहे है। ऐसे में भाजपा प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित कराने की खास जिम्मेवारी स्थानीय विधायक-सांसद व पार्टी पदाधिकारियों पर है। लेकिन तीन तीन बागी उम्मीदवार पार्टी का खेल बिगाड़ने में लगे है। इसी तरह नगर पर्षद क्षेत्र राजद का भी गढ़ रहा है। यहां से पार्टी को कई वर्षों से व्यापक जन समर्थन मिलता रहा है। राज्य के पूर्व मंत्री सह पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी ने नगर पर्षद के उप चुनाव में अपनी पसंद के उम्मीदवार को उतारा है। लेकिन पूर्व नगर पर्षद उपाध्यक्ष को अनवारूल हक को पार्टी से टिकट नहीं मिलने व कांग्रेस का दामन थामने का खमियाजा भी भुगतना पड़ सकता है। पार्टी के परंपरागत वोटर भी बिखर गए है। पिछले कई चुनावों में कांग्रेस पार्टी यहां हाशिए पर रही है। जबकि 28 वर्ष पूर्व कांग्रेस का ही दबदबा रहा था। शहर में पार्टी संगठन काफी कमजोर है। नगर निकाय के उपचुनाव में पार्टी की ओर से अल्पसंख्यक वर्ग से प्रत्याशी को उतारा गया है। लेकिन झाविमो प्रत्याशी इस वर्ग में सेंधमारी करने में लगे है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..