कोडरमा

  • Hindi News
  • Jharkhand News
  • Kodarma
  • वैज्ञानिक तरीके से माइका का खनन करें, पर्यावरण को नहीं पहुंचाएं नुकसान
--Advertisement--

वैज्ञानिक तरीके से माइका का खनन करें, पर्यावरण को नहीं पहुंचाएं नुकसान

जिले में डंप पड़े माइका की नीलामी और इस व्यापार को पुनर्जीवित करने के लिए शुरू की गई प्रकिया को सफल बनाने के लिए...

Dainik Bhaskar

Apr 10, 2018, 02:35 AM IST
जिले में डंप पड़े माइका की नीलामी और इस व्यापार को पुनर्जीवित करने के लिए शुरू की गई प्रकिया को सफल बनाने के लिए सोमवार को खनन विभाग व जिला प्रशासन ने रोड-शो सह वर्कशॉप का आयोजन किया। मौके पर बतौर मुख्य अतिथि खनन विभाग के आयुक्त अबु बकर सिद्दीकी ने अभ्रख व्यवसायियों से कहा कि सरकार ने इस व्यवसाय को दोबारा से खड़ा करने के लिए नीलामी की प्रकिया शुरू की है। उन्होंने कहा कि नीलामी के लिए विभाग ने नियमों का सरलीकरण कर नए सिरे से नियमावली तैयार की है, जो कि काफी पारदर्शी है। इससे व्यवसायियों को व्यापार में आसानी होगी। आयुक्त ने व्यवसायियों से वैज्ञानिक पद्धति से खनन कार्य करने की बात कही, ताकि पर्यावरण पर इसका प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ सके। मौके पर उन्होंने एनजीटी के रिपोर्ट के अनुसार जिले के हो रहे अवैध खनन कार्य पर चर्चा करते हुए कहा कि इस पर हर हाल में रोक लगाने की जरूरत है। मौके पर उपायुक्त भुवनेश प्रताप सिंह ने व्यवसायियों को क्लस्टर के माध्यम से व्यवसाय से जुड़ने की बात कही। उन्होंने कहा कि विभाग स्तर से पूर्व के एक्ट में संशोधन कर माइका को मेजर से हटाकर माईनर मिनरल के श्रेणी में लाया गया हे। साथ ही पांच एकड़ तक के लीज का अधिकार जिला स्तर पर उपायुक्त को दी गई है। उपायुक्त ने कहा कि जिले में माइका म्यूजियम बनाने की प्रयास किया जा रहा है।

एसपी शिवानी तिवारी कहा कि अवैध माइनिंग को किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने व्यवसायियों से विभाग स्तर से उद्योग को नियमितीकरण के किये जा रहे प्रयास में भाग लेकर वैध तरीके से व्यापार करने की बात कही। भूतत्व विभाग के निदेशक अंजली देवी, अतिरिक्त निदेशक रूपेंद्र प्रसाद मिश्रा, उप निदेशक खान शंकर सिन्हा, मुकुल प्रसाद, ललित कुमार के अलावा वन, उद्योग सहित कई विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।



X
Click to listen..