कल्याण विभाग में 9.33 करोड़ के घोटाले के आरोपी प्रधान सहायक किए गए बर्खास्त

Kodarma News - चतरा कल्याण विभाग में नौ करोड़ 33 लाख रुपए के घोटाले के मामले में सरकार ने विभाग के तत्कालीन प्रधान सहायक काशी प्रसाद...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:30 AM IST
Chatra News - sacked assistant principal assistant to 933 crore scam in welfare department
चतरा कल्याण विभाग में नौ करोड़ 33 लाख रुपए के घोटाले के मामले में सरकार ने विभाग के तत्कालीन प्रधान सहायक काशी प्रसाद गुप्ता को सरकारी सेवा से बर्खास्त कर दिया है। इसके अलावा तत्कालीन नाजिर इंद्रदेव मंडल को भी बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया है। यह जानकारी शुक्रवार को डीसी जितेंद्र कुमार सिंह ने समाहरणालय स्थित कांफ्रेंस हॉल में आयोजित प्रेसवार्ता में दी। उन्होंने बताया कि घोटाले के इस मामले में कुल 19 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज है। इनमें दो पूर्व कल्याण पदाधिकारी आशुतोष कुमार व भोलानाथ लागुरी, नाजिर इंद्रदेव प्रसाद, प्रधान सहायक काशी प्रसाद गुप्ता व अन्य एजेंसी व एनजीओ शामिल है। सरकार ने प्रधान सहायक को बर्खास्त कर दिया है। नाजीर को बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया है। ऑर्डर निकलना बाकी है। डीसी ने यह भी बताया कि दाेनों पूर्व कल्याण पदाधिकारियों ने बेल के लिए डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में आवेदन दिया था। जिसे निरस्त कर दिया गया था। इसके बाद दोनों ने हाईकोर्ट में एनटीसेपेट्रिक बेल के लिए आवेदन दिया था। वह भी निरस्त कर दिया गया है। पुलिस अब इन पदाधिकारियों को कभी भी गिरफ्तार कर सकती है।

कुंदा के पूर्व बीडीओ व पूर्व कल्याण पदाधिकारी के विरुद्ध आरोप गठित

प्रेस कांफ्रेंस में डीसी जितेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि कुंदा प्रखंड के मांझीपाड़ा गांव के मुसटंगवा टोला में कब्रिस्तान घेराबंदी में चार लाख 32 हजार रुपए की अवैध निकासी मामले में कुंदा के पूर्व बीडीओ मो. जहूर आलम, पूर्व कल्याण पदाधिकारी नवीन कुमार सुवर्णो, ग्रामीण विकास विभाग के कार्यपालक अभियंता भुनेश्वर पासवान, सहायक अभियंता सुरेश पासवान व कनीय अभियंता अशोक सिंह के विरुद्ध प्रपत्र क गठित कर कार्रवाई के लिए सरकार को लिखा गया है। उन्होंने बताया कि कुंदा के मांझीपाड़ा गांव के मुसटंगवा टोला में कल्याण विभाग ने 11 लाख रुपए की लागत से कब्रिस्तान घेराबंदी की योजना स्वीकृत की थी। यह योजना गांव के खाता नंबर 48 व प्लॉट नंबर 535 के लिए स्वीकृत किया गया था। जबकि योजना का क्रियान्वयन खाता नंबर 78 व 68 तथा प्लॉट नंबर 444 व 430 पर किया जा रहा था। इस मामले में गांव के ही संतोष कुमार यादव ने आरटीआई के तहत सूचना मांगी थी। जिसके बाद उपायुक्त स्तर से इस मामले की जांच कराई गई थी। जांच के क्रम में यह पाया गया था कि कब्रिस्तान के नाम पर वैसे जगह पर जमीन की घेराबंदी की जा रही थी, जहां मुस्लिम आबादी थी ही नहीं। इस योजना में चार लाख 32 हजार रुपए की अवैध निकासी का मामला भी उजागर हुआ था। मामले को लेकर कुंदा थाना में कांड संख्या 3/14 के तहत मामला भी दर्ज है। इसी मामले में उपरोक्त अधिकारियों के विरुद्ध प्रपत्र क गठन किया गया है।

जानकारी देते डीसी व अन्य।

X
Chatra News - sacked assistant principal assistant to 933 crore scam in welfare department
COMMENT