• Home
  • Jharkhand News
  • Mandu
  • सरकारी और निजी स्कूलों के शत-प्रतिशत बच्चों का होगा टीकाकरण
--Advertisement--

सरकारी और निजी स्कूलों के शत-प्रतिशत बच्चों का होगा टीकाकरण

मिजिल्स रूबेला अभियान की सफलता को लेकर जिला टास्क फोर्स की बैठक समाहरणालय में बुधवार को हुई। जिसकी अध्यक्षता...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 03:30 AM IST
मिजिल्स रूबेला अभियान की सफलता को लेकर जिला टास्क फोर्स की बैठक समाहरणालय में बुधवार को हुई। जिसकी अध्यक्षता डीसी राजेश्वरी बी ने की। इस अवसर पर 26 जून से मिजिल्स रुबेला टीकाकरण अभियान की तैयारी की समीक्षा की गई। स्वास्थ्य विभाग की ओर से बताया गया कि 9 माह से 15 वर्ष के बच्चों को टीकाकरण किया जाएगा। जिसपर डीसी ने सभी सरकारी, निजी, आंगनबाड़ी सहित शत-प्रतिशत बच्चों का टीकाकरण सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया।

इसके लिए सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों से संपर्क कर बच्चोें की लिस्ट के साथ आवश्यक तैयारी करने का निर्देश समाज कल्याण, शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों को संयुक्त रूप से दिया । यह अभियान पांच सप्ताह चलेगा। प्रथम दो सप्ताह में सभी स्कूल, उसके बाद दो सप्ताह आंगनबाड़ी केंद्र व पांचवें सप्ताह में छुटे हुए बच्चों को टीकाकरण दिया जाएगा। मौके सीएस डॉ. मार्शल आइंद, डीएस डॉ. अवधेश सिन्हा, डॉ. केएन प्रसाद, डॉ. एके पाठक के साथ ही शिक्षा, समाज कल्याण विभाग के पदाधिकारी मौजूद थे।

केदला ओपन कास्ट के लिए स्थल जांच का निर्देश : इस दौरान वनाधिकार समिति की बैठक में केदला ओपन कास्ट हेतु स्थल जांच कागजात अभिलेख के बारे में चर्चा की गई। डीसी ने बताया कि केदला ओपन कास्ट के लिए पूर्व में वनाधिकार के तहत जिला स्तरीय वनाधिकार समिति के द्वारा अनापत्ति प्रमाण-पत्र निर्गत किया जा चुका है। शेष वनभूमि पर 71 रैयतों का व्यक्तिगत दावा है। वनविभाग व राजस्व के पदाधिकारियों के संयुक्त स्थल निरीक्षण लंबित रहने के कारण कुल 168.05 हेक्टेयर वनभूमि को अनापत्ति प्रमाण-पत्र लंबित है। मौके पर वन प्रमंडल पदाधिकारी विजय शंकर दुबे ,अपर समाहर्ता विजय कुमार गुप्ता जिला कल्याण पदाधिकारी अजीत निरल सांगा, महाप्रबंधक कुजू, अंचल अधिकारी मांडू सहित कई पदाधिकारी मौजूद थे। दूसरी ओर सीएसआर की बैठक में सभी कंपनियों से बीते तीन साल के अंदर सीएसआर के तहत क्षेत्र में किये गए विकास कार्यों की सूची मांगी गई। साथ ही वर्ष 2018-2019 के लिए तैयार योजनाओं की डीपीआर प्रस्तुत करने को कहा गया।

पदाधिकारियों के साथ बैठक करतीं डीसी राजेश्वरी बी।