• Hindi News
  • Jharkhand News
  • Medininagar
  • परिवार विकास मेला शुरू, बेटा-बेटी का भेदभाव भूलें, दो बच्चे पर कराएं ऑपरेशन : जिप अध्यक्ष
--Advertisement--

परिवार विकास मेला शुरू, बेटा-बेटी का भेदभाव भूलें, दो बच्चे पर कराएं ऑपरेशन : जिप अध्यक्ष

बेटा-बेटी के भेदभाव को लोग भूल जाएं। दो बच्चे होने के बाद तत्काल बंध्याकरण कराएं। छोटा परिवार ही खुशहाल परिवार...

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2018, 03:05 AM IST
परिवार विकास मेला शुरू, बेटा-बेटी का भेदभाव भूलें, दो बच्चे पर कराएं ऑपरेशन : जिप अध्यक्ष
बेटा-बेटी के भेदभाव को लोग भूल जाएं। दो बच्चे होने के बाद तत्काल बंध्याकरण कराएं। छोटा परिवार ही खुशहाल परिवार बनता है। अक्सर देखा जाता है कि तीन-चार बेटियां जन्म लेने के बाद कई लोग बेटा का इंतजार करते हैं। हर क्षेत्र में अब बेटियां आगे निकल रही हैं। इसलिए बेटा-बेटी में भेदभाव खत्म करना होगा। ये बातें पलामू जिला परिषद अध्यक्ष प्रभा देवी ने कही। वे बुधवार को स्थानीय सदर अस्पताल में आयोजित परिवार विकास मेला के उद्घाटन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रही थीं।

इससे पहले अतिथियों ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर मेला का उद्घाटन किया। इसकी अध्यक्षता सिविल सर्जन डाॅ. कलानंद मिश्रा ने की। संचालन जिला कार्यक्रम प्रबंधक प्रवीण सिंह ने किया। जिला परिषद सदस्य प्रमोद सिंह ने कहा कि बेटियों के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाएं चलाई जा रही हैं। लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा लेने के लिए अस्पताल में आइसीयू, लिफ्ट, मेडाल आदि की बेहतर व्यवस्था की गई है। जिप सदस्य रेणु देवी ने कहा कि मेला का उद्देश्य है कि खुशहाल परिवार बने।

सिविल सर्जन डाॅ. कलानंद मिश्रा ने कहा कि पलामू के पुरुषों में नसबंदी के प्रति जागरूकता का अभाव है, हालांकि काफी हद तक महिलाएं बंध्याकरण कराने में दिलचस्पी दिखा रही हैं। बताया कि जनसंख्या की अस्थिरता आज भारत के लिए चुनौती बनती जा रही है। इसे नियंत्रण के रखने के लिए दो बच्चों के बीच तीन से पांच वर्षों का अंतर रखना होगा।

जिला कार्यक्रम प्रबंधक प्रवीण सिंह ने कहा कि इस बार मेला के तहत पलामू में एक सौ महिला बंध्याकरण व पांच सौ पुरुष नसबंदी कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। लोगों में जागरूकता फैलाने की जरूरत है। हर स्तर पर जागरूकता फैलाना का प्रयास किया जाएगा। स्वास्थ्य प्रशिक्षक अतुल कुमार सिन्हा ने बताया कि लोगों को परिवार नियोजन के प्रति जागरूक करने की भी योजना है। 24 जुलाई तक चलने वाले मेला के तहत सदर अस्पताल के अलावा तमाम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में शिविर लगाकर महिला बंध्याकरण व पुरुष नसबंदी कराई जाएगी। मौके पर जिला आरसीएच पदाधिकारी डा एमपी सिंह, जिला मलेरिया पदाधिकारी डा अवधेश, चिकित्सा पदाधिकारी डा राजीव नयन, राज्य प्रतिनिधि सरिता, यूनिसेफ के क्षेत्रीय समन्वयक मनीष प्रियदर्शी, जिला लेखा प्रबंधक केवल कुमार सिंह, शहरी डीपीएम सुखराम बाबू, जिला डाटा प्रबंधक कृष्णा कुमार शर्मा, अस्पताल प्रबंधक रविशंकर सौरभ, एसटीटी वीरेंद्र कुमार व बंधु उरांव आदि उपस्थित थे।

कार्यक्रम का उदघाटन दीप प्रज्जवलित कर करते जिप अध्यक्ष, सीएस व अन्य।

X
परिवार विकास मेला शुरू, बेटा-बेटी का भेदभाव भूलें, दो बच्चे पर कराएं ऑपरेशन : जिप अध्यक्ष
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..