• Hindi News
  • Jharkhand
  • Medininagar
  • प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद ठोंगा को बनाया महिलाओं की समृद्धि का आधार

प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद ठोंगा को बनाया महिलाओं की समृद्धि का आधार / प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद ठोंगा को बनाया महिलाओं की समृद्धि का आधार

Medininagar News - प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगने के बाद प्रशासन इसके प्रयोग पर रोक लगाने के लिए लगातार अभियान चला रहा है। मगर इससे इतर...

Bhaskar News Network

Jul 02, 2018, 03:30 AM IST
प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद ठोंगा को बनाया महिलाओं की समृद्धि का आधार
प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगने के बाद प्रशासन इसके प्रयोग पर रोक लगाने के लिए लगातार अभियान चला रहा है। मगर इससे इतर यहां की महिलाओं का एक समूह पर्यावरण रक्षा के लिए नि:स्वार्थ भाव से आगे आकर घर-घर जागरूकता का दीप जला रहा है। साथ ही महिलाओं को स्वरोजगार के लिए प्रशिक्षण के अवसर भी उपलब्ध करा रहा है। महिलाओं ने इस काम को मिशन समृद्धि का नाम दिया है। समाजसेवी शीला श्रीवास्तव के नेतृत्व में दर्जन भर महिलाएं ठोंगा बनाती हैं और उसके प्रयोग को बढ़ावा देती हैं।

पॉलीथिन का विकल्प : समृद्धि की टीम ने बड़े सहज तरीके से पॉलीथिन के प्रतिबंध को अवसर के रूप में परिवर्तित कर दिया। गरीब महिलाओं के लिए स्वरोजगार के नए रास्ते खोल दिए। पॉलीथिन के विकल्प के रूप में ठोंगा को चुना। टीम ने इसे बनाने के लिए प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया। यह काम जून प्रथम सप्ताह से शुरू है, जो अब शहर में चर्चित हो गया है। शहर की ज्यादातर दुुकानों में पॉलीथिन बैग की जगह ठोंगा पहुंचने लगे हैं।

कहां से मिली है प्रेरणा : समृद्धि टीम के शीला श्रीवास्तव ने बताया कि जैसे ही सरकार ने पॉलिथीन पर प्रतिबंध लगाया। उनके जेहन में आया कि इसे अवसर के रूप में गरीब महिलाएं अपना सकती हैं। इससे उनको पहचान के साथ-साथ स्वरोजगार भी मिलेगा। महिलाओं को किसी के आगे हाथ नहीं पसारना पड़ेगा। वे बताती हैं फिर उन्होंने टीम के सदस्य वंदना श्रीवास्तव, वैजंती गुप्ता व प्रो सरिता कुमारी से डिस्कस किया और फिर काम शुरू कर दिया।

कचरवा से हुई शुरुआत : महिलाओं ने मिशन समृद्धि के तहत ठोंगा बनाने का काम कचरवा डैम से शुरू किया। पहले चरण में 25 महिलाओं को इसका पांच दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। अब तक 100 से अधिक महिलाओं को टीम ने प्रशिक्षित कर दिया है।

मेदिनीनगर में ढोंगा बनाती महिलाएं।

X
प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद ठोंगा को बनाया महिलाओं की समृद्धि का आधार
COMMENT